By | January 25, 2023

Apni Sagi Bahan Ki Chudai ki story: हैलो दोस्तो, सबको मेरा बहुत बहुत थैंक्स मेरे स्टोरी को पढ़ने के लिए, लास्ट भाग में आप लोगो ने स्वाति और टीना का प्यार देखा टीना के घर उसके रूम में. ठीक उसी वक़्त शोभा के यहाँ क्या हो रहा था वहा आकाश आप लोगो को बताएगा. अगर आपने अभी तक इस कहनी पिछला भाग नहीं पढ़ा तो आप यहा क्लिक करके पढ़ सकते है

ये भी पढे-> आंटी की लड़की ने नंगा देखा फिर चुदाई कारवाई 6

सबको मेरा बहुत बहुत थैंक्स मेरे स्टोरी को पढ़ने के लिए लास्ट भाग में आप लोगो ने देखा की शोभा और आकाश शाम को होने वाले शोभा और राकेश के लाइव सेक्स शो का प्लान करते है.पर उसी वक़्त टीना के घर टीना ने स्वाति को उसका सरप्राइज दिया जिसके बारे में आज का लेस्बियन भाग है..

मैं स्वाति पिछले भाग मे आपने पढ़ा की किस तरह मैं टीना के घर उसके साथ बाथरूम में साथ में नहायी और हमने नहाते हुई मज़े भी किये. पर अब तक मुझे वह नहीं मिली थी जिसकी मुझे इंतज़ार थी. वह थी टीना का सरप्राइज.जैसा की मैंने बोला मैं नहीं चाहती की उसकी सरप्राइज बर्बाद हो क्यों की वह मुझे बहुत पसंद करती है और उसकी हर ख्वाइश मैं भी पूरी करनी चाहती हूँ.

Apni Sagi Bahan Ki Chudai


टीना: हाँ आजा बहार.मैं बहार निकली तो उसे उसके ड्रेसिंग टेबल के सामने खड़ी देखि एक रोबे में. यूं तो मैंने उसे हर कपड़ो में देखि हूँ कभी बेबीडॉल में कभी स्विमसूट में कभी पूरी नंगी और रोबे मैं भी. तो हैरान हुई की इसका सरप्राइज है क्या?टीना: हाउ इस लुक स्वीटू?मैं: यू ऑलवेज लुक सेक्सी एंड ब्यूटीफुल माय डार्लिंग पर सरप्राइज? Apni Sagi Bahan Ki Chudai ki story

Bhai bahan ki chudai ki kahani

टीना: यार तुम तो बिलकुल पागल हो सरप्राइज लेने के लिए थोड़ी वेट करना.मैं: और कितनी वेट करू? मुझे पता है की तुमने बस वह पहनने के लिए इतनी टाइम नहीं लगायी. तो फिर…टीना: अरे तुम भी न कितनी उतावली हो स्वीटू.मैं: सिर्फ तेरे साथ ओके वरना तू जानती नहीं कितने है मेरे लाइन में किसी के लिए भी उतावली नहीं होती पर तेरे लिए. अब बोलना व्हाट’स योर
सरप्राइज.टीना हस्ती हुई अपनी रोबे उतरती और मेरे पास आने लगी अब वह एक गहरी नीली और पीली स्ट्राप वाली साटन की नाईट ड्रेस में थी. जो उसकी आधी जांघो तक ही थी और में उसके सामने हाथ में टॉवल लिए नंगी खड़ी थी.मैं: सरप्राइज बोलकर जिस तरह से तू मुझे उकसाई मेरी चूत गीली हो गयी थी. पर अब लगती है वह सूख रही है.ये मैं गुस्से में बोली. वह मेरे पास आकर मेरे गाल पर हाथ रखती हुई बोली -नाराज़ क्यों होती हो स्वीटू.

सच्ची तुझे बहुत पसंद आएगा पर इतनी जल्दी नहीं.इतना कहती हुई उसने मेरी नंगी बदन को अपनी बहो में ली और बोली -यू क्नोव हाउ मच दिस लव यू. मैं तुम्हे कभी नाराज़ कर सकती हूँ क्या बोलो?मैं उसकी बाहो में मनो पिघल ही गयी क्यों की हम दोनों एक दूसरे को बहुत पसंद करते है.टीना: बोलो भी कुछ सच मे यू पागल हो जाएगी.इतना कहती हुई वह मुझे किश कर डाली और फिर मेरी नाराज़गी मनो छू मंतर प्यार था उससे तो भरोसा भी था.

वह ज़रूर 3 दिन मुझसे दूर रहने की खातिर मुझे कुछ ख़ास देने वाली है.फिर उसने किश तोड़ी मुझसे दूर चलती हुई बीएड पर इशारा करती हुई बोली – चलो बैठो वाह और देखो अपना सरप्राइज.मैं बेड पर नंगी ही बैठ गयी और उसे देखने लगी वह अपनी ड्रेसिंग टेबल के पास गयी. और फिर उसका टावल खोल कर एक छोटी सी क्रीम की ट्यूब निकाल कर मेरे तरफ फेकि. अपनी नंगी बूब्स को लहलहाती हुई उस ट्यूब को कैच की.

और देखि तो मैं उसे देख पूछी -ये क्या है?टीना: पढ़कर देखो क्या है?फिर मैं पड़ी तो मेरी मुँह से हसी छूट पड़ी. उस पर लिखा हुआ था ‘पैशन फ्रूट फ्लावोरेड लुबे फॉर अनल इंटरकोर्स’.उसे पढ़ने के बाद हलकी खुसी से मैं टीना को देखा तो वह अपनी भवरो को ऊपर कर पूछा – अच्छी लगी सरप्राइज?वह क्रीम गांड की छेद को मसाज करके गांड के अंदर लंड या डिलडो घुसाने के लिए थी. पर आज से पहले टीना कभी भी मुझे अपनी गांड में ऊँगली डालने तो दूर चाटने तक भी नहीं देती थी.
तो मैं हैरानी और हलकी मुस्कान के साथ पूछी -ये क्या मेरे लिए है?टीना: जो भी तुम्हारे लिए हो स्वीटू वह मेरे लिए भी तो है.मैं: तो… अरे यू… सच्ची… बोलना? टीना: हाँ! वह मेरे लिए भी है और तुम्हारे लिए भी. कैसी लगी?मैं तो मनो ख़ुशी से झूम उठी. क्यों की हम हमेशा चूत के साथ ही खेलते थे. पर मैं हमेशा उसके साथ गांड की खेल भी खेलनी चाहती थी. पर वह अब तक मना करती थी और आज वह तैयार थी.मैं: पर यार अब मुझे घर जाना होगा.टीना: क्यों? Apni Sagi Bahan Ki Chudai ki story

मैं: ओके नो नो नहीं.मैं ये इसलिए बोली क्यों की हम हमेशा चूत में एक ही डिलडो से खेलते थे. पर वह हमेशा मैं अपनी घर रखती थी क्यों की मेरे रूम को कोई आता नहीं था. पर टीना का भाई राहुल हमेशा उसके कमरे में जासूसी करता था. तो इस कारन वह कभी अपने घर डिलडो नहीं रखती थी.पर फिर मुझे लगा की शायद टीना सब कुछ धीरे से शुरू करना चाहती है. जैसे के पहली बार सिर्फ ऊँगली. तो मैंने कुछ नहीं बोला.

Sexy bahan ki chudai ki story

टीना: बोलो भी क्या नो नो लगा रखी है.मैं: बस कुछ नहीं आज मेरी ऊँगली से मज़ा दूंगी बाद में कभी हम डिलडो का इस्तेमाल करेंगे. वह मेरे घर पर है ना.टीना: वेट माय स्वीटू अभी तो सरप्राइज बाकी है.मैं: और भी सरप्राइज है? है है है! मैं तो यही देख पूरी रस फेक रही हूँ नीचे.तभी मेरी नज़र ट्यूब पर फिरसे पड़ी और ध्यान दी. ट्यूब नयी नहीं है और आधी ख़तम हो चुकी है तो मैं उसे देख बोली – एक मिनट टीना ये तो तूने पहले ही इस्तेमाल कर लिया?

टीना मुस्कुराने लगी तो मुझे हलकी नाराज़गी होने लगी मानो मुझे लगा उसने मुझसे ये छुप छुपा कर की.मैं: यू अरे सो बाद टीना. मुझे अब बता रही हो?टीना: रुको रुको यार.मैं: क्या रुको?टीना: यही तो बतानी थी तुम्हे की वह मेरी नहीं है.मैं फिरसे हैरान और साथ ही शक में की टीना ने कोई दूसरी गर्लफ्रेंड बना ली क्या?मैं: तो किसकी है?

टीना: तू पागल हो जाओगी सुनोगी तो.मैं: बोलो फिर.टीना: कल रात जब मैं आज जाने के लिए गुस्से में पैकिंग कर रही थी. तो मुझे याद आयी की मेरी परफ्यूम ख़तम हो गयी और शादी भी अटेंड करनी है. पर आज में बहार नहीं जाना चाहती थी क्यों की मैं तुम्हारे साथ पूरी टाइम काटना चाहती थी.मैं: तो?टीना: अरे पूरा बोलने तो दो.मैं चुप चाप सुनने लागि टीना: तब माँ घर पर नहीं थी बहार गयी हुई थी. उन्हें कॉल की तो वह उठायी भी नहीं. तो मैं सोची उनकी कोई परफ्यूम ले लु तो उनके कमरे में गयी.
और जब उनका ड्रावर ओपन किया तो ये मिला.मेरी आंखे ये सुन खुली रह गयी और फिर हम दोनों साथ ही हस्स पड़े और मैं हस्ती हुई बोली – है है है! यानि की योर माँ आल्सो वह भी है है है!टीना: क्या वह भी?मैं: बॉडी तो अजीब लगेगा.टीना: क्या की मेरी माँ भी गांड मरवाती है पापा से है है है!मैं: है है है! हाँ तुम्हारे पापा तुम्हारी माँ की गांड मरते है है है है!टीना: है है है! हाँ पर तूने अभी जानी कहा पूरी बात. Apni Sagi Bahan Ki Chudai ki story

मैं: तो क्या तुम उन्हें करते हुई भी देखि हो?टीना: नहीं पर सुनो ये मिलने के बाद मुझसे रहा नहीं गया. और मैंने उनके बाकि के ड्रावर को चेक की. और…ये बोल वह चुप हो गयी जिससे देख में बोली – और बताना.टीना: और फिर मुझे कुछ ख़ास चीज़े मिली जो सबसे बड़ी सुरपरिसेस है तुम्हारे लिए

मुझसे अब रहा नहीं जा रहा था – बोलना प्लीज पागल मत कर.फिर वह वापस मुड़ी. और अपनी ड्रावर से एक लम्बा कला करीब 9 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा डिलडो निकाल कर मेरे तरफ फेक दी. उसे हाथ में लेकर मैं बोली – ओह गॉड टीना ये भी. मतलब तेरी माँ अकेले भी खुद को बड़ा मज़ा देती है है है है!टीना: हाँ मैं कल पूरी शॉक में थी की मेरे माँ और पापा ऐसे सब करते है और मुझे पता भी नहीं.

अपनी सगी बहन की चुदाई करके सील तोड़ी

मैं: तेरी माँ तो छुपा रुस्तम निकली. वैसे इसे गरम पानी में धोयी की नहीं?टीना: हाँ धोयी सब अच्छे से धोयी.मैं: अब जब हम फ़ोन सेक्स करेंगे रात को तो तू भी मेरी तरह चूत में डिलडो डालकर मज़े कर सकती हो. बस तेरी माँ उस वक़्त डिलडो खोजने न लग जाये है है है!टीना: डॉन’टी वोर्री एक डिलडो गायब होने से उन्हें कुछ पता नहीं चलेगा.मैं: मतलब?टीना: उनके पास 6 से 7 डिलडो है.

मैं: वाओ उनका तो पूरा कलेक्शन है.टीना: हाँ अलग अलग रंग और साइज की और…ये बोल वह चुप हुई तो मैं पूछी – और? और क्या?टीना: पता नहीं वह इसका क्या करती है.इतना कहते ही एक ही झटके में उसने अपनी नाईट ड्रेस खोल कर मेरे तरफ फेकि. और जो मैं देख उससे मेरी होश के साथ चूत से पाँव और पाँव से सर तक मस्ती की लहर दौड़ गयी.

वह मेरे सामने अब अपनी साटन की ब्रा और पैंटी में खड़ी थी.लेकिन पैंटी के ऊपर उसने एक स्ट्राप-भी पहन रखी थी. जिसमे एक बड़े लंड के आकर का लाल रंग का डिलडो लगा हुआ था. मैं बस पागल हो रही थी. और सोच रही थी की कितना मज़ा आएगा जब उससे टीना मेरी चूत और गांड को चोदेगी.टीना: क्या हुआ ऐसे क्या मुँह फाड़ कर देख रही हो? है है है!मैं अपनी होश में आयी और बोली – ये भी तुम्हारी माँ के रूम से मिला?टीना: हाँ!मैं ज़ोर से हस्ते हुई बोली – तो क्या वह इसे पहन कर तुम्हारे पापा को है है है!टीना: है है है! पता नहीं यार शायद वह पापा का गांड मरती हो. पर फ़िलहाल तू हसना बंद कर. और मेरे पापा मम्मी के बारे में ऐसा बोलना बंद कर. Apni Sagi Bahan Ki Chudai ki story

अजीब लगता है उनके बारे में ऐसा बोलते हुए. पर हस्सी भी आ रही है.मैं अपनी हाथ से अपनी हसी दबाते हुई बोली: ओके ओके सॉरी शायद उनकी भी कोई गर्लफ्रेंड हो.टीना: हाँ शायद हो सकता है अब तू सचमे ये सब बोलना बंद कर कमीनी है है है!मैं: ओके सॉरी सॉरी सॉरी सॉरी.

टीना मेरे तरफ तेज़ी से आती हुई बोली – सॉरी की बच्ची.और मेरे ऊपर अपनी बेड पर कूद पड़ी और मुझे अपनी बहो में लेकर गुदगुदी करने लगी. मैं खिलखिलाकर हस्ती हुई ढाका मारी और फिर उसे गुदगुदाने लगी. थोड़ी ही देर में हम मज़ाकिया तरीके से झगड़ने लगे. फिर वह उठ खड़ी हुई और अपनी ब्रा खोलकर मेरे तरफ फेकि.मैं उसकी ब्रा का बाण बनाकर खींच फेकि. उसपर इतने में एक और छोटा सा कपडा मेरे मुँह पर फेकि और देखि तो वह उसकी पेंटी थी. अब वह मेरे सामने अपनी घुटनो पे खड़ी थी बेड पर. और सिर्फ था उसके बदन पर तो वह स्ट्राप- लंड उसके हिलने से ऊपर नीचे दाए बाए झूम रहा था.फिर मैं एक तकिया उठायी और उसे ज़ोर से दे मारा.

जिस पर उसने दूसरा तकिया उठा कर मेरे मुँह पर दे मरी. और इस तरह से हम दो नंगी लड़किया पिलो फाइट करने लगे. पर मेरी नज़र बार बार उसकी स्ट्राप- के झूलती हुई लंड पर जा रही थी. उसे हिलता देख मेरी चूतसे रस बहने लगा मज़े में.और मैंने अपनी हाथ में पकड़ी पिलो उसके मुँह पर मरी. और एक झपट्टा मरकर उसे बेड पर गिरती हुई उसके ऊपर चढ़ गयी. अब मैं उसके ऊपर थी और वह मेरे नीचे. हमदोनो की साँसे तेज़ थी और उसकी स्ट्राप- का लंड मेरी चूतके मुँह पर लग रहा था

मैंने अपनी कमर धीरे धीरे हिलायी.और उसके स्ट्राप- के लंड को अपनी चूत पर रगड़ती हुई उसे किश करने लगी. वह भी मेरी किश के नशे में डूबती जा रही थी. जब उसने किश तोडा और मेरी नज़र से नज़र मिलती हुई अपनी उंगलियों को चाटी.
वह नीचे लेजाकर मेरी चूतपर मसलने लगी. एक धीमी आह के साथ मेरी आंखे बंद हो गयी मज़े में.तभी महसूस हुआ की वह लंड को पकड़ मेरी चूतके मुँह पर लगायी. जिससे मेरी आंखे खुली और टीना को देखते ही उसने अपनी कमर को धीरे से ऊपर मारी उस से मेरी आंखे खुली की खुली हो गयी. Apni Sagi Bahan Ki Chudai ki story

बड़े भाई ने ही अपनी बहन की चुदाई की

क्यों की वह नकली लंड मेरी चूतकी होठो को फैलती हुई अंदर घुस गयी.
मेरे मुँह से ज़ोर की आह निकल पड़ी.टीना ने पुछा – दर्द हुआ क्या? ऍम सॉरी.मैं: नहीं ऐसे ही करो कब से चाहती थी की तुम ऐसे कुछ करो.इतना सुनते ही टीना और कुछ नहीं बोली. और फिर मेरी आँखों से आंखे मिलती हुई अपनी कमर को ऊपर नीचे हिलती हुई उस प्लास्टिक के लंड को मेरे अंदर मारने लगी. मेरी आंखे उसकी आँखों को देख धीरे धीरे बंद होने लगी. जिससे वह समझ गयी की मैं मस्ती में होश खो रही हूँ और उसने कमर को थोड़ी तेज़ी से हिलनी शुरू की.मेरी चूत फैलती जा रही थी. जिस तरह से वह लंड मेरी चूतको बर्बाद करती हुई और अंदर जा रही थी.

मेरी मुँह से मस्ती के कारन ऐसे आह निकल रही थी. मेरी मुँह से आह के साथ थूक की लार धार उसके होठो पर पड़ रही थी. और वह उसे चट्टी हुई मुझे कमर हिलके चोदती जा रही थी.मैं: आह आठ अह्ह्ह और और चोदो मुझे और तीनऊउ!टीना मेरी चूत में जोश में आकर और भी ज़ोर से मारने लगी. जिससे मुझे वह एहसास आ गया की अब मेरी चूत से पानी की लम्बी धार छूटने वाली है. तो मेरी उंगलिया उसके सर के बालो को खींच गयी. जिससे उसे भी समझ आ गयी की आगे क्या होने वाली है.पर मुझे इस हालत में देख उसे मज़ा आ रहा था. और उसकी कमर और भी तेज़ी से मेरे अंदर उस लंड को घुसाने लगी. और फिर वह पल आयी जब मैं सिसकारती हुई उसे रुकने को बोल पड़ी.

और मेरी चूत उस लंड को बहार धकेल कर पानी की पिचकारी मारनी लगी.मैंने ऐसे ही 5 से 7 पिचकारियां मारी और वह मेरे नीचे लेटी मुझे देखती रही. और में बेहाल होकर उसपर गिर गयी.कुछ पांच मिनट बाद मैं आंखे खोली तो उसे मेरे नीचे मुस्कुराती हुई देखि और बोली -यू किल्ड में.टीना: है है है! यही तो चाहती थी मैं. और इतनी जल्दी किल्ड हो गयी स्वीटू.
मैं अपने आपको होश में लाने लगी और बोली -वेट कर कामिनी अभी बताती हूँ.इतना कहती हुई मैं उठी. और उसके ऊपर होकर उसे किश करने के बाद उसकी टैंगो को खींच कर अपने सामने उसे सेट की.

और फिर उसके सत्रपों की बुखले को खोल उसकी कमर से उसे हटाकर साइड पर राखी. उसकी झंगो को दो तरफ फैलती हुई अपनी मुँह उसकी चूत में लगा दी.
मैं उसकी गीली रस उगलती चूत को चाटने लगी और साथ ही उसकी चूतके दाने को अंघूठे से रगड़ने लगी. इससे उसे बहुत मज़ा मिल रही थी और वह अपनी टाँगो को और भी ज़्यादा फलाती जा रही थी. फिर मैं उंगलियों से उसकी चूत की होठो को फलाते हुई अपनी जीभ अंदर डाल कर चाटने लगी.

जिस पर वह मेरे बालो को पकड़ पागल होकर खींचने लगी. मैं अपनी दूसरी हाथ की दो ऊँगली उसकी चूतके अंदर घुसा कर चूतके अंदर घूमने लगी. Apni Sagi Bahan Ki Chudai ki story

bhai aur bahan ki chudai ki kahani

टीना: ओह्ह्ह्ह!! स्वाति आह्हः. यस यस यस बेबी. राइट तेरे…कुछ पांच मिनट ऐसे ही उसकी चूतमेरी दो उंगलियों से चोदने और निकलती रस चाट चाट कर पीने के बाद सोची. अब वक़्त है ऊँगली से मोटी किसी चीज़ का तो मैं बगल में रखे काळा डिलडो को उसकी चूतपर रगड़ने लगी.टीना: आह!!! स्वीटू प्लीज छेड़ो मत उसे अंदर डालना.मैं: इतनी क्या जल्दी है मेरी तीनऊउउउ.टीना: प्लीज डालना.वह मेरी बालो को पकड़ खींचने लगी और फिर मैं उसकी चूतमें कला १.५ से २ इंच मोटा डिलडो घुसा दी. टीना की चूत मेरे चाटने चूसने से रस से भर चुकी थी तो डिलडो फिसलता हुआ उसकी चूतको फैलाकर खोलदी. उसमे हुस गयी जिस पर टीना ने ज़ोर की आह भरते हुई बोली -आअह! येह नाउ फ़क में स्वाति.मैं उसकी चूतमें धीरे धीरे उस डिलडो को अंदर बहार करने लगी. और उसकी सिसकारियां और कमर का हिलना डिलडो के अंदर डालने के साथ बढ़ने लगी.

उसकी चूतमें डिलडो डालने के साथ ही साथ. मैं उसकी चूतके उभरते दाने को बहार से चेतना शुरू की. और जैसे जैसे उसकी आहे ज़ोर से होने लगी वैसे ही मेरी हाथ भी तेज़ी से उसके चूत में डिलडो घुसाने लगी.टीना: आह!! अह्ह्ह!!! बस थोड़ी देर और स्वीटू बस थोड़ी और तेज़ करो रुकना मत…ये सुनते ही मैं अपनी हाथ को ज़ोर ज़ोर से तेज़ी से हिलाते हुई उसकी चूत चोदने लगी. और उसके चेहरे को देखती रही जो मज़े में पागल हुई जा रही थी. उसकी आँखे बंद थी पर आँखों के कोने से मस्ती के आंसू निकाल रही थी.उसकी चूत से पच पच की आवाज़ से उसका कमरा गूँज रहा था और कुछ ही देर में वह बोली –

आआह! स्वाति ऍम गोना के ऍम गोमे बेबी. डॉन’टी स्टॉप.ये सुनते ही मैं अपनी एक हाथ को बेड पर टिका कर. उसके सहारे दूसरी हाथ से पूरी ज़ोर से 9 इंच का डिलडो उसकी चूतमें अंदर बहार मारने लगी. और कुछ 30 से 40 सेकंड ऐसे ही ज़ोर ज़ोर से मारने के बाद. टीना की कमर उछलती हुई झटके मार्टी हुई पानी की रसीली लहर मेरे हाथो और छाती पर फेकने लगी.और फिर टीना ज़ोर की आहे भर्ती हुई. जिस तरह से मैं मदहोश बेहोश हुई उसी तरह बेजान पड़ने लगी.

इसके बाद मैं उसके ऊपर आगयी और उसके बेजान होंटो को किश करने लगी और उसके ऊपर लेट गयी.थोड़ी देर बाद उसकी आवाज़ आयी -वाओ!! मज़ा आ आ गया.मैं: हाँ आज तो सच मे नया मज़ा आयी मुझे भी.टीना: गिफ्ट अभी दिया कहा स्वीटू.मैं: पता है मुझे. पर फिर भी बताओ क्या है गिफ्ट मुझे सुनना है.टीना: जैसे की तुम्हे पता नहीं.मैं: पता है पर मुझे तुम्हारी मुँह से सुनना है बोलना प्लीज.टीना मुझे देख हस्ती हुई बोली – है है है! गिफ्ट ये है की मैं वह लंड पहनकर तुम्हारी गांड चोदुगी आज है है है! खुश?मैं: क्या? मैं सुनी नहीं फिरसे बोलना? और सिर्फ तुम क्यों? मुझे नहीं चोदने दोगी क्या अपनी गांड?टीना: साली कुत्ती तू न बिलकुल वह है. नहीं यार आज नहीं मुझे वापस आने दे. Apni Sagi Bahan Ki Chudai ki story

आज सिर्फ मेरी चूत चोद तू.इतना कहती हुई वह झट से उठी मुझे धक्का देती हुई बेड पर पेट क बल धकेलती हुई बोली – आज तो तू गयी स्वीटू.मैं: वही तो मैं भी चाहती हूँ.उसने मुझे पेट के बल लेटा कर मेरी कमर के नीचे हाथ डाली. और उठती हुई मुझे मेरे घुटनो पर कुतिया बनाकर बैठा दिया बेड पर.

desi bhai bahan ki chudai ki story

और इसके बाद मेरी गांड पर 2 से 3 थपड मारे और बोली – अब बोलो हाउ इस माय सरप्राइज?मैं: थे बेस्ट यार काश रोज़ मिले. है है है!वह हस्ती हुई एक ही बार में मेरी गांड को फैलाई. और मेरी गांड पे जीभ लगाकर चाटने लगी. आज तक उसने ऐसा कभी नहीं की थी. और अचानक से उसकी ये बदलाव मुझे और भी मज़ा दे रही थी.

मैं: ओह! आह! टीना वाओ. तुम कब से ऐसे.टीना: शठ! चुप.धीरे धीरे वह मेरी गांड में अपनी जीभ घूमती. और मेरी गांड की छेद मानो उसकी जीभ के लिए और भी खुलती जा रही थी. इतना मज़ा मुझे टीना से कभी नहीं मिला था. थोड़ी ही देर बाद अब वह मेरी गांड की छेद को जीभ से टटोलती हुई छेड़ रही थी.और साथ ही अपनी उंगलियों से मेरी फैली टाँगो के बीच से मेरी चूत के होठो को भी गुदगुदा रही थी. इतना मज़ा आ रहा था की सोच रही थी की कभी वह न रुके. तभी वह रुक गयी और जब मैं सर उठायी उसे देखने को तो उसने मेरी सर पर हाथ रख तकिये पर दबती हुई बोली -देखो मत.फिर कुछ सेकंड के लिए उसकी बदन मेरे से अलग हुई. और फिर मुझे महसूस हुई की एक ठंडी सी चीज़ मेरी गांड की छेद पर गिरी.

मैं: व्हाट’स तहत टीना? वह क्या है?और इसके बाद महसूस हुई की वह अपनी उंगलियों से मेरी गांड की छेद पर मसाज कर रही है. अब समझी की ये वह जेल थी जो उसने मेरी गांड की मुँह पर डाली. और उसे मल रही थी. साथ ही ये भी समझ गयी की अब मेरी गांड पहली बार चुदने वाली है. कुछ देर उसने अच्छे से जेल को मेरी गांड में मलने के साथ.कभी एक और फिर थोड़ी देर बाद दो उंगलिया घुसा देती तो हलकी दर्द के साथ मज़ा भी साथ में मिल जाता मुझे. इतने में उसकी उंगलियों ने हरकत बंद की.

और फिर मुझे वह एहसास हो गया की अब मेरी गांड मरवाने का वक़्त हो गया. उसने इतने वक़्त में सत्रपों पहनी और अब वह उसकी प्लास्टिक के लंड से मेरी गांड की मुँह को सहला रही थी.और फिर वह पूछी -अरे यू रेडी? माय सेक्सी बीच!!!उसके मुँह से गाली सुनकर में और कामुक हो गयी और बोली – यस फ़क में फ़क माय डर्टी . फ़क योर बीच टीना.इतनी सुनने की देर थी.
मुझे महसूस हुआ की कोई मोटी चीज़ मेरी गांड के अंदर धीरे से घुसती जाने लगी. इससे पहले जब उसने अपनी एक दो ऊँगली डाली तो मुझे उतना दर्द नहीं लगा. पर अब काफी भारी चीज़ मेरे अंदर घुसती हुई महसूस हुई.

मैं: ओह्ह्ह्हह्ह! टीना स्लो दर्द हो रहा है. धीरे धीरे जाने दो उसे.मुझे हल्का दर्द होने लगा. पर साथ ही आज में गांड चुदवा रही हूँ यही बात उस दर्द को मिटा भी रही थी. वह इतनी धीरे मेरे अंदर जा रही थी की मुझे लगा की और कितना जाएगी.ऐसा लगा मनो वह प्लास्टिक का लंड बस अंदर जाता रहा फिर टीना ने कहा – कैसा लग रहा है बोलो?मैं: पता नहीं थोड़ी जलन भी है और मज़ा भी बस उसे वही रहने दो थोड़ी देर प्लीज.टीना मेरी बालो को पकड़ एक ही बार में खींच कर मेरे सर को तकिये से उठायी. और तब जा कर मैंने आंखे खोली. Apni Sagi Bahan Ki Chudai ki story

indian bhai bahan ki chudai

तो सामने की दीवार दिख रही थी और वह बोली – क्या स्वीटू अगर अंदर ही रखा तो क्या मज़ा मेरी स्वीटू जान को.इतना कहती हुई पता नहीं कोनसा भूत उसमे घुस गयी. और धना धन मेरी गांड की छोटी से छेद को घाचा घच उस लंड से चोदने लगी. मेरे मुँह से आह के साथ चीख भी दबा दबा कर निकलने लगी. वहा एहसास की कोई मोटी चीज़ अंदर मेरी गांड में जा रही है.और वही बहार भी निकल रही है काफी मज़ा दे रही थी.

आज मैं पहली बार अपनी गांड अपनी प्रेमिका टीना से चुदवा रही थी. और यही बात की वह मेरी गांड इस बुरे तरीके से चोद रही है. वही मुझे और ज़्यादा पागल कर रही थी. वह लड़की जिसे गांड चाटनी तो दूर ऊँगली लगानी भी पसंद नहीं थी.वह आज मेरी गांड भी चाटी और ऊँगली की और अब स्ट्राप-मुझे चोद रही थी. वह भले प्लास्टिक का नकली लंड था. पर मेरी गांड को खोलती हुई उसकी हर देखे में मेरी जान निकल भी रही थी.

साथ ही मस्ती की फुवार उमड़ रही थी मेरे अंदर.टीना: मज़ा आ रहा है ना मेरी जान?मैं: हाँ ऐसे चोदते रहो टीनू ऍम योर बीच फ़क माय यार .इतना सुनते ही वह और ज़ोर ज़ोर से मेरी गांड के अंदर मारने लगी. मानो उसे ख्याल ही न हो की मेरी गांड सचमे फट रही है.उसके हर ढके के साथ मेरी गांड की छेद ढीली होती जा रही थी. और मुझे दर्द कम और मज़ा और भी ज़्यादा मिलने लगा.

मैं: येह बेबी फ़क में हर्डर नाउ. और ज़ोर से चोदो मेरी गांड फाड़ दो टीनू.पता नहीं शायद मेरी बाते उसे जोश दे रही थी. हर बार जब भी मैं कुछ गन्दी बात बोलू. तो उसकी कमर और तेज़ी से हिलती हुई मेरी गांड की सुराक को बेदर्दी से चोदते जा रही थी. मानो उसे लगता हो की मैं कोई खिलौना हूँ जिसे दर्द न हो. पर यही चीज़ मुझे उस चरम सीमा पर ले जा रही थी.जिसका अब तक मैं टीना के साथ सपने देखा करती थी. Apni Sagi Bahan Ki Chudai ki story

कुछ ही देर में वह पल आया जहा मैं चिल्लाती हुई टीना को बोली – और ज़ोर से टीना तू थक गयी क्या कुतिया में झड़ने वाली हूँ और ज़ोर से मार मेरी गांड में.इतना सुनते ही उसने मेरी कमर को इतनी ज़ोर से पकड़ा की उसकी नाखून मेरी कमर में उतर गयी. और वह फटा फटा मेरी खुल कर ढीली हो चुकी. मेरी गांड में लंड घुसेड़ति हुई चोदने लगी और मैं फिरसे ज़ोर से चिक्ति हुई बोल पड़ी – मैं झड़ गयी ऍम क्युम्मिंग.और इस शब्द के बाद रस की चीते नहीं पर सुसु की तरह पानी की फुवार मेरी चूत से उसके झांघो पर और उसके बेड को गन्दी करती हुई निकल पड़ी.मैं: ओह्ह्ह फ़क! आआह्ह्ह्हह्ह! स्टॉपपपप! रुको…ये देख और सुन टीना धीरे धीरे मुझे चोदना कम की. और फिर मानो मुझे बक्श दी की तू जी ले वरना इससे ज़्यादा हुआ तो मर जाएगी करके.

soti hui bahan ki chudai

उसने मेरी गांड से -लंड निकाल लिया इसके बाद में गांड हिलाती हुई कपकपाती हुई गीले गंदे बेड पर बेसहारा गिर पड़ी.और फिर भी मेरे चूत से हलकी रस निकलती रही. जिसे देख टीना प्यार से मेरे गांड और जांघ को सहलाती हुई मुझे आराम देने लगी. मैं इस दुनिया में थी ही नहीं मेरी आंखे मनो चिपक के बंद हो चुकी थी की अब खुलेगी नहीं.

कुछ मिनटों के बाद हिमत करके मैंने आँख खोली.तो देखा की टीना मुझे देख मेरे बालो को सवार रही थी और बोली -हाउ वास् आईटी माय बेबी. अच्छी लगी?मैं उसे देख मुस्कुराती हुई उसकी गोद में अपना चेहरा छुपा लिया और फिर उसे तिरछी नज़र से देखती हुई बोली -लव यू.टीना: – लव यू टु माय बेबी लव माय स्वीटू.

फिर उसने मुझे प्यार से मेरी सर को सहलाती हुई बोली – चाहो तो सो जाओ थोड़ी देर.तो इसपर मैं दिवार पर लगी घडी में टाइम देखि और मुस्कुराती हुई बोली: पागल हो क्या? अभी तो सिर्फ 12.30 हुआ है और तुम्हारे पापा तो ३ बजे आएंगे. तो ढाई घंटे और है हमारे पास.इतना कहती हुई मैं उसे आंख मारी तो उसने मुझे मेरी माथे पर किश करती हुई बोली – ओह गॉड स्वीटू तेरा मन कभी नहीं भरता मेरे से है है है!और इसके बाद मैं अपनी ताकत को समेत कर उठी और फिर हमने अपना खेल शुरू किया दुबारा. इसके बाद अगले 2 घंटे मैं टीना को उसी सत्रपों को पहन कर उसकी चूत में 2 राउंड डैम भर चोदी. और साथ ही उसने भी मेरी गांड और चूत को एक एक बार और रगड़ कर चोदा Apni Sagi Bahan Ki Chudai ki story

और इसके बाद जब हम दोनों थक के चूर होकर उठे. तो टाइम 2 बज कर 20 हो गयी थी. तब टीना ने कहा – चलो अब तुम निकलो पापा के आने का टाइम हो गया.मैं: टीनू तुमने तो कहा वह ३ बजे आएगे टीना: हाँ स्वीटू पर सेफ्टी के लिए चलो निकलो अगर वह जल्दी आ गए तो. चल उठ कमीनी भाग अपने घर.

मैं: तू पक्का मुझे अब एक रंडी के तरह भगा रही है है है है!टीना हस्ते हुई बोली – शट उप स्वाति – लव यू ओके. पर मुझे पापा के आने का डर है. वरना जैसे तेरी मन नहीं भरता वैसे ही मेरी भी नहीं भरता तुझे चोदने से. और तेरी चूत का रस पिने से. है है है!मैं: ओके ओके पर अपने वहा जाकर भूल मत जाना मैसेज करना ओके.टीना: हाँ करुँगी चलो उठो और कपडे पहनो.
इस बात को कहती हुई उसने मेरी पंत उठाई और उसमे फांसी मेरी पैंटी लेकर मेरी पैंट मुझे दे दी.मैं: वह क्या मेरी पेंटी देना पहले.टीना: नहीं ये मुझे दे दो जब वापस आउंगी तो दे दूंगी. जब मैं वहा रहूंगी तो तेरी याद आएगी तो इसे छुप छुप कर सूंघ लुंगी.

हमेशा अपने पास ही रखूंगी.इतना कहती हुई उसके आँखों में हलकी सी नमी थी. और फिर उसने मेरी पैंटी को चूम लिया इस पर मैं कुछ बोलना नहीं चाहती थी ये सोच कर की कही वह रोना न शुरू कर दे तो बस मैं बोली – ओके ओके माय जूलिएट.(ताकि वह हसे)टीना: है है है! माय फीमेल रोमियो आई लव यू.इतना कहती हुई उसने मुझे किश की और बोली – नाउ गेट लॉस्ट है है है!

मैं: 3 दिन के बाद मिलूंगी जन्मानन.टीना: ओफ्फो जाओ भी.मैं: ओके ओके.इसके बाद धकेलती हुई वह मुझे अपनी घर से निकाली. और फिर दूर बंद की पर मैं वही खड़ी रही और देखि की वह क्या करेगी. इतने में वह डोर खोली ये देखने को की मैं वही हूँ या चली गयी. पर उसने मुझे वही हस्ती हुई पायी और बोली – यार तू जाना. प्लीज.मैं: क्यों तू जाना अंदर डोर बंद करके टीनू मीनू. है है है! Apni Sagi Bahan Ki Chudai ki story

Choti bahan ki chudai ki kahani

टीना: शट उप स्वीटू यू क्नोव न अगर तू नहीं गयी तो मुझसे नहीं होगा.मैं: ओके चल मैं चलती हूँ पर जब तू आएगी तो वांट माय पाय बैक.टीना: हाँ पक्का दूंगी वैसे सिर्फ तेरी नहीं मेरी भी पाय बैक रहेगी.मैं: क्या डौगी रेतुर्न गिफ्ट में?टीना आंख मारते हुई बोली – तुझे मेरी गांड मारने दूंगी जैसे आज मैं तेरी मारी है है है!मैं: सच्ची?टीना: हाँ प्रॉमिस अब भाग इधर से.इतना कहती हुई उसने फ्लाइंग किश दी और डोर बंद की मुझे पता था की वह डोर होल से देखेगी तो मैं भी उसकी डोर होल से उसे बाई बोली और अपनी घर को निकल गयी.

तो दोस्तो बाकी अगले भाग मे.
Read More Sex Stories…..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *