By | January 15, 2023

Baap ne ki apni Beti Ki Chudai:-हेलो दोस्तों मेरा नाम स्वाति है मेरी उम्र 29 साल है मैं कानपूर की रहने वाली हु मेरी सेक्स की कहानी मेरे पापा और पापा के साथ बने रिश्ते की हैमेरे घर में पापा बड़े भाई और भाभी ही रहते है मम्मी के देहांत कुछ टाइम पहले ही हुआ है और तब से पापा अकेले हो गए है मेरे भाई भाभी दूसरी सिटी में रहते है।

ये भी पढे-> दीदी को ससुर ने चोदा मेरे सामने

छोटी बहन ज्योति की सील तोड़ने का मज़ा 

हमारी वैबसाइट से चुदाई की मस्त कहानिया पढ़ने के लिए यहा क्लिक करे-> www.xstory.in

Baap Beti Ki Chudai

भाई पापा को भी अपने पास बुलाते है मगर पापा का मन यही कानपूर में लगता है इसी लिए पापा घर में अकेले रहते है मेरा भी ससुराल ज्यादा दूर नहीं है इसीलिए मैं पापा के घर आती जाती रहती हु मेरी पढाई पूरी होते ही पापा ने मेरे लिए रिश्ता ढूंढ लिया था और लड़के ने भी मुझे देखते ही हा भी कर दी थी

वैसे भी मेरे पति ही क्या किसी भी उम्र का मर्द मेरे लिए आहे भरता है

मैं बिलकुल अपनी मम्मी पर गयी हु मेरी मम्मी का फिगर बहुत अच्छा था

और इसीलिए मेरा फिगर भी शुरू से अच्छा है मेरा फिगर 36-30-40 है और माँ बनने के बाद तो मेरा फिगर और भी अच्छा हो गया है और बाकी जो मेरा फिगर अच्छा है उसमें सेक्स का भी योगदान है

मुझे सेक्स शुरू से पसंद था इसीलिए मैंने चुदाई में कोई कमी नहीं रखी कॉलेज में कई बॉयफ्रेंड बनाये और उनसे अपनी जवानी के पुरे मज़े लुटे शादी के बाद भी मेरी चुदाई अच्छे से हो रही थी

क्युकी मेरे पति भी चुदाई में कोई कमी नहीं रहने देते थे मगर मुझे ये नहीं पता था की मैं अपने पापा के लिए ऐसा सोचने लगूंगी मैं जब पोर्न देखती थी तब यही सोचती थी की क्या ये सब सच होता है मगर जब ये मेरे साथ हुआ

तब मुझे यकीन हो गया इस दुनिया में कुछ भी हो सकता है मर्द और औरत का शरीर एक दूसरे को पसंद करने के लिए बना है इसीलिए कुछ लड़के अपनी माँ को भी पसंद करते है और कुछ बाप अपनी लड़कियों को पसंद करते है Baap ne ki apni Beti Ki Chudai

baap beti ki chudai ki kahani

और मेरे पापा मेरी लिए ऐसा सोचता है ये जानकार मैं भी हिल गयी थी ये बात अभी कुछ टाइम पहले की है

जब पहला पहला लोक डाउन लगा था तब मैं अपने पापा के घर आयी हुई थी और मेरे पति दिल्ली गए हुए थे तभी लोक डाउन का एलान हो गया हम सबने सोचा की कुछ टाइम की बात है सब सही हो जायेगा मगर ऐसा नहीं हुआ और मैं अपने पापा के घर फस्स गयी थी

मैं रोज रात में पूरी नंगी हो जाती थी और अपने पति से वीडियो कॉल पर बात करती थी मेरे पति भी वह नंगे अपना लंड मुझे दिखते थे जिसे देखकर मेरे मुँह और चूत में पानी आ जाता था.

मैं अपनी 2 ऊँगली चूत में डाल लेती थी और कभी कभी बैगन और खीरे से काम चला लेती थी

ऐसी ही दिन निकल रहे थे घर में कुछ भी काम नहीं था बस घर के काम करके टीवी देख लो मगर ऐसी ही एक दिन पापा के कमरे की सफाई करते हुए मुझे कुछ ब्रा पेंटी मिली जिसमें पापा ने अपना पानी निकाला था ब्रा पेंटी देखकर लग रहा था जैसे की वह मम्मी की है

क्युकी अगर कोई और औरत होती तो पापा ब्रा पेंटी में अपना पानी क्यों निकालते पापा 50 प्लस है उनके बाल जरूर सफ़ेद हो गयी है मगर वह अभी भी दिखने में जवान लगते है पापा के कमरे की सफाई करके मैं अपने कमरे में आ गयी और यही सोच रही थी की पापा कितने अकेले है

जो उन्हें इन सब का सहारा लेना पढ़ रहा है फिर बहार से पापा की आवाज आयी मेरा बेटा रो रहा था मैं जल्दी से बहार गयी और पापा बहार सोफे पर बैठे हुए थे पापा के बारे में सोच के पता नहीं क्यों अजीब से लग रहा था.

पापा – बेटा इसे शायद भूख लगी है इसीलिए ये रो रहा है मैं अपने बेटे को लेके कमरे में आ गयी और अपनी चुचि खोल के उसके मुँह में दे दी
मेरा बेटा दूध पीने लगा कुछ देर बाद बेटा चुप हो गया और फिर वह अपने नाना के साथ खेल रहा था.

मैं काम करने किचन में आ गयी तभी मेरे पति का कॉल आ गया क्युकी ऐसे लोखड़ौन में चुदाई जो नहीं कर पा रहे थे मैंने कॉल उठा लिया और सामने मेरे पति अपना लंड दिखा रहे थे Baap ne ki apni Beti Ki Chudai

मैं – डार्लिंग अभी दिन में नंगे बैठे हो? पति – तुम जो नहीं हो मेरे पास अगर यहाँ होती तो तुम्हारे भी कपडे फाड़ देता अब मुझे भी तो अपनी चूत दिखा दो
मैं – बेबी दिमाग ख़राब हो गया है क्या? पापा बहार ही है और मैं नंगी हो जाऊ पति – बाबू पूरी नंगी मत हो मगर अपनी चूत तो दिखा ही सकती हो मेरे पति मान नहीं रहे थे इसीलिए मैंने भी टाइम ख़राब नहीं किया और अपनी लेग्गिंग नीचे कर दी मेरे पति मेरी चूत देखते ही अपना लंड हिलाने लगे

Baap beti ki chudai hindi mein

और यहाँ मेरी चूत में भी आग लगने लगी मैंने अपनी टी-शर्ट ऊपर कर ली और मैं खुद अपनी चूचिया दबाने लगी जैसे ही मैंने अपनी चूचिया दबायी मेरी चूचियों से दूध निकलने लगा जो किचन की स्लैब पर गिरने लगा अभी बस कुछ ही देर हुए थी.

तभी मुझे लगा जैसे कोई है और मैंने तुरंत अपने कपडे ठीक कर लिए और फिर तभी पापा किचन में आ गए
पापा – क्या बना रही हो बेटा बड़ी अच्छी खुसबू आ रही है मैं -बस पापा आपके फेवरेट दम आलू बना रही हु.

पापा – वाह बेटी वैसे भी बहुत टाइम हो गया था दम आलू खाये हुए तभी पापा की नज़र स्लैप पर पड़ी जहा मेरी चूचियों से निकली दूध की कुछ बूंदे पड़ी थी

पापा -अरे बेटी ये दूध कैसे गिर गया.

मैं – अरे बस पापा वह दूध गरम कर रही थी तो रखते हुए थोड़ा छलक गया उसके बाद पापा ने जो किये उसे देखकर मेरा दिमाग ही ख़राब हो गया पापा ने अपनी ऊँगली से वह दूध उठाया और उसे चाट गए मैंने ऐसा नहीं सोचा था की पापा ऐसा करेंगे मगर फिर मुझे लगा उन्हें शायद ये नार्मल वाला दूध लगा होगा इसीलिए उन्होंने ऐसा किया.

पापा फिर किचन से निकल गए और मैं भी खाना बनाने लगी.

फिर दोपहर को मैंने और पापा ने खाना खाया और पापा अपने कमरे में चले गए मेरा बेटा हमेशा पापा के पास ही रहता था इसीलिए मैं उसे बीच बीच में दूध पिलाने के लिए कमरे में ले आती थी.

मैं बेफिक्र होक अपना दूध पिलाती थी क्युकी कमरे में किसी का डर नहीं होता था Baap ne ki apni Beti Ki Chudai

मगर इस बार मैंने देखा जब मैं अपने बेटे को दूध पीला रही थी तब दरवाजा हल्का सा खुला हुआ था और मैंने वहा से पापा को झाकते हुए देखा पापा की नज़र मेरी चुचि पर थी.

जिसे मेरा बेटा दूध पी रहा था मुझे बहुत अजीब लग रहा था जब मैंने बिलकुल उस दरवाजे की तरफ देखना शुरू किया तो पापा वहा से निकल गए पापा को ऐसे झाकते देखते मुझे भी अजीब सा लगने लगा.

मेरी भी चूत पर आग लगी हुई थी मैं वही लेट गयी और पापा के बारे में सोचने लगी मैं आँखे बंद करती तो मुझे ऐसा लगता पापा अभी भी मुझे देख रहे है और उनका धयान मेरी बड़ी बड़ी चूचियों पर है पापा के बारे में ऐसा सोच के अंदर जहर झूरी हो रही थी.

मैंने पहले कभी पापा के लिए ऐसा नहीं सोचा था मगर उन्हें ऐसे करते देख मैं उनके बारे में सोचने लगी थी और एक औरत होने के नाते में समझ सकती थी की पापा को भी एक औरत चाहिए जो उनके अंदर की भरी हुई गर्मी निकाल दे मेरा एक मन कह रहा था की ये सब गलत है

Baap beti ki chudai ki story

मगर एक मन कह रहा था की मैं पापा की मदद कर दू और फिर मेरी वासना ने पापा की मदद करने का फैसला लिया मगर मैं पहले देखना चाहती थी की क्या पापा भी यही चाहते है.

इसीलिए मैंने अपनी ब्रा निकल दी अब मैं बिना ब्रा के टी-शर्ट पहनी थी और मेरा दूध निकलने की वजह से मेरी टी-शर्ट आगे से गीली हो गयी थी मैं ऐसी ही पापा के कमरे में गयी और पापा की भी नज़र तुरंत मेरी चूचियों पर गयी

मैं पापा के पास बैठ गयी और पापा मुझसे नज़र बचते हुए मेरी चूचियों को देख रहे थे मैं – पापा ये लीजिये सम्भालो अपने शैतान को वैसे ये आपको परेसान तो नहीं रहा है.

पापा – अरे नहीं बेटा उल्टा इसकी वजह से मेरा मन लगा हुआ है वर्ण पुरे दिन बस ऐसी ही निकल जाता था मैं -पापा आप भाई के पास क्यों नहीं चले जाते है? वह आपको बुलाते भी रहते है पापा -बेटा तेरा भाई बुलाता तो है मगर मैं समझाता हु बहु को भी थोड़ी आज़ादी चाहिए

मैं रहता हु तो वह हमेशा थोड़ी असहज महसूस करती है मैं -अरे पापा ऐसा कुछ नहीं है और आप मेरे घर भी तो आ सकते है पापा -बेटी के घर जयादा नहीं जाना चाहिए ये अच्छा नहीं होता है.

मैं -अरे पापा ये सब पुराणी सोच है वैसे अजय (मेरे पति का नाम) भी बहार जाते रहते है और मैं घर पर बोर होती रहती हु Baap ne ki apni Beti Ki Chudai

मैंने पापा को एक हिंट दिया था जिससे वह समझ जाये की मैं घर पर अकेली ही होती हु और मेरी अंदर भी वही भावना है जो पापा के अंदर है मेरी चूचियों से दूध की बूँद निकल निकल के मेरी टी-शर्ट को गीला कर रही थी और पापा की भी नज़र लगातार वही बनी हुई थी

मैं अपनी चूचियों पर धयान नहीं दे रही थी मगर फिर पापा ने आखिरकार बोल ही दिया.

पापा -स्वाति तुम्हारी टी-शर्ट ख़राब हो रही है जाओ जाके बदल लो और तब मैंने पापा के कहने पर नीचे देखा और मैं जल्दी से अपने कमरे में चली गयी और वह जाके अपनी टी-शर्ट निकाल के फेक दी और दूसरी टी-शर्ट पहन .ली.

फिर मैं पापा के कमरे में गयी और पापा भी मुझे ही देख रहे थे
मैं -पापा वह बोतल देना मैं दूध भर देती हु कही ये शैतान रोने न लगे मैंने फिर से पापा को एक हिंट दिया अब पता नहीं उन्हें समझ आया या नहीं मगर मैं पापा से बोतल लेके किचन में आ गयी किचन में आते ही मैंने अपनी टी-शर्ट ऊपर कर ली और मेरी दोनों चूचिया बहार निकल आयी मैं अपनी चुचि से दूध निकालने लगी

मेरी चूचियों से दूध निकल के बोतल में आने लगा मैं अपनी चूचियों को मसल रही थी जिससे मैं अपना दूध भी निकल रही थी मेरी सास ने मुझे बहुत कुछ अच्छा खिलाया था जब मैं प्रेग्नेंट थी इसीलिए मेरा दूध कुछ जयादा ही बनता है हमेशा तो मेरे पति ही मेरा दूध पे जाते थे मगर इस टाइम वह मेरे पास नहीं थे

Baap beti ki chudai ki kahaniyan

पापा को ऐसे देखकर मुझे उन्हें अपना दूध पिलाने का मन हो रहा था
मैं अपनी चूचिया दबा दबा के दूध निकाल रही थी तभी एक आहट से मेरे कान खड़े हो गए मैंने हलके से साइड से देखा तो पापा चुपके किचन में झांक रहे थे मैं अपनी चूचिया मसल रही थी पापा मेरी चूचिया ही देख रहे थे और कुछ देर बाद मैंने बोतल को भर दिया तभी पापा भी वहा से चले गए फिर मैंने रात का खाना बनाया फिर मैंने और पापा ने साथ में खाना खाया

पापा -बेटा तुम यहाँ फसी हुई हो तुम्हारी सास तो कुछ नहीं कहगी या दामाद जी गुस्सा तो नहीं होंगे मैं -नहीं पापा वहा पर मेरी जेठानी है और वैसे भी आपके दामाद तो टूर पर रहते है.

यहाँ कम से कम आप तो है वर्ण मुझे वह अकेले ही रहना पड़ता है वैसे भी आपके दामाद ने ही कहा है मैं यहाँ सेफ हु पापा -हा बेटा ये तो सही किया क्युकी ये बीमारी बहुत खतरनाक है

मैं -पर पापा मैं जयादा कपडे नहीं लेके आयी हु मुझे लगा था 4 दिन में वापस चली जाउंगी मगर अब तो मैं भी फस्स गयी हु पापा -बेटा इसमें क्या चिंता वाली बात है तुम्हारी मम्मी के कपडे पड़े है तुम उन्हें पहन सकती हो Baap ne ki apni Beti Ki Chudai

मैं -हा पापा ये बिलकुल ठीक रहेगा फिर पापा खाना खाके अपने कमरे में चले गए और मैं अपने काम में लग गयी फिर मैं और मेरा बेटा कमरे में आ गया मैंने अपने कपडे निकाल दिए और अपने बेटे को दूध पिलाने लगी तभी मेरे पति का वीडियो कॉल आ गया और मैंने कॉल उठा लिया वह मेरे पति नंगे बैठे थे

और यहाँ मैं अपने बेटे को दूध पीला रही थी पति -वहा जानु क्या गरम सीन दिखा रही हो काश मैं भी वह होता तो ऐसे ही तुम्हारा दूध पी लेता मैं -बेबी वैसे भी तो मेरा दूध तुम ही ख़तम करते हो मन तो मेरा भी नहीं लग रहा है

मगर क्या करे मजबूरी है पति -डार्लिंग जल्दी ही मैं तुम्हारे पास आ जाऊंगा फिर तो तुम्हारी खेर नहीं मैं -मैं भी यही चाहती हु की तुम मुझे बस अपने साथ ही रखो तभी मेरा बेटा दूध पिटे पिटे सो गया और उसके मुँह से मेरी चुचि बहार आ गयी.

पति -डार्लिंग तुम्हारी चुचि से तो अभी भी दूध निकल रहा है काश मैं इसे चाट पाता.

मैं -डार्लिंग अगर चाटना ही है तो पहले इसे अच्छे से चाटो मैंने मोबाइल अपनी चूत के सामने कर दिया और मेरी चिकनी चूत मेरे पति के सामने थी पति -वहा जानु तुम्हारी ये अदा ही तो मुझे पसंद है अपनी चूत को एक दम चिकनी रखती हो देखते ही लंड और मुँह में पानी आ जाता है

बाप ने अपनी बेटी को रात मे चोदा

मैंने अपनी टेबल से खीरे को उठा लिया जो मैं किचन से लायी थी और उसे अपने पति को दिखने लगी पति -वहा डार्लिंग ये तो बिलकुल मेरे लंड जैसा है मैं -हा जानू ये मेरे पति का लंड ही है.

जो जब वह नहीं रहते है तो ये मेरी इस आग को शांत करता है पति -वैसे जानू ये खीरा तुम खुद खरीद के लायी हो क्या?

मैं -नहीं डार्लिंग पापा से मंगवाया था सलाद बनाने के लिए मेरी बात सुनके पति हसने लगे पति -वहा मेरी काम देवी अपने पापा से ही खीरा मंगवा लिया Baap ne ki apni Beti Ki Chudai

अब उन्हें क्या पता ये खीरा सलाद में नहीं बल्कि किसी और जगह जायेगा वैसे पापा साइज भी अच्छा ही लाये है मैं भी अपने पति की बात सुनके हसने लगी और तभी मुझे ऐसा लगा जैसे मेरे कमरे के बहार कोई है दरवाजे के नीचे से परछाई दिख रही थी

मैं समझ गयी थी की आज जो नज़ारा पापा ने देखा है उसके बाद उन्हें नींद नहीं आ रही है और वह मेरे कमरे के अंदर जरूर देख रहे है मैंने भी खीरा अपनी चूत में डाल लिया और अपने पति को दिखने लगी वहा मेरे पति अपना लंड हिलाने लगे.

मैं -जानू ऐसा लग रहा है जैसे सच में तुम्हारा लंड मेरी चूत में आ गया है अह्ह्ह अह्ह्ह ममम.

पति -डार्लिंग जयादा आवाज मत करो कही पापा न सुन ले कही उनके भी आक्रमण मत जगा देना.

मैं -डार्लिंग वह सो चुके है तुम बस एन्जॉय करो मैं अपनी चूत में खीरा करती रही और अपनी मोअन भी करती रही और जल्दी ही मेरा और मेरे पति का पानी निकल गया.

उसके बाद हमने थोड़ी देर बात की और फिर हम सो गए पापा 3 से 4 दिन रोज मेरी बड़ी बड़ी चूचियों और गांड को घूरते थे
वह मुझे देखने का कोई मौका हाथ से नहीं जाने देते थे.

पापा ने मुझे कई बार अपना दूध पिलाते भी देखा फिर एक सुबह मेरी आँख जल्दी खुल गयी और मेरा बेटा भी रो रहा था जिसे पापा ने संभाल लिया

फिर मैं नहाने चली गयी और जब नाहा के वापस आयी तब पापा की नज़र मुझपे गयी क्युकी आज मैंने अपनी माँ की साड़ी पहनी थी वैसे घर में साड़ी पहनना अजीब लग रहा था मगर मर्दो को औरत सबसे अच्छी साड़ी में ही लगती है.

मेरी चूचिया मम्मी के ब्लाउज में समां नहीं रही थी मम्मी की चूचियों का साइज थोड़ा काम था मगर मेरा उनसे बड़ा है जिसकी वजह से मेरी चूचियों की लाइन जयादा ही दिख रही थी मैंने मम्मी की साड़ी अपनी नाभि से 3 से 4 इंच नीचे थी जो मुझे और भी हसीं बना रहा था

पापा की नज़र मेरे ऊपर ही थी.

पापा -बेटा आज तुम बिलकुल अपनी माँ जैसे लग रही हो वह भी इस साड़ी में बहुत खूबसूरत लगती थी .

मैं -थैंक यू पापा मगर मैं थोड़ी मोटी हो गयी हु इसीलिए ब्लाउज टाइट हो गया है.

पापा -अरे नहीं बेटा ये तो प्रेगनेंसी के बाद हो ही जाता है मगर इसमें भी तुम अच्छी लग रही हो जैसे तुम्हारी माँ लगती थी
मैंने पापा को गले लगा लिया और पापा ने भी अपनी बाहे मेरी पीठ पर कश दी मेरी दोनों चूचिया पापा के सीने में दब रही थी जिसे मैं जानकार दबा रही थी और इसी वजह से पापा का लंड जाग गया था Baap ne ki apni Beti Ki Chudai

पापा ने रात मे अपनी सगी बेटी की चुदाई की

पापा सोफे पर बैठ गए और मैं उनके बिलकुल सामने खड़ी थी जिससे मेरा खुला हुआ पेट और गहरी नाभि उनके बिलकुल पास थी पापा की नाक की गरम सासे मुझे अपने पेट पर महसूस हो रही थी ।

फिर पापा उठके बाथरूम में चले गए, और मैं वही अपना ब्लाउज खोल के अपने बेटे को दूध पिलाने लगी मेरी नज़र बाथरूम की तरफ भी थी कुछ देर बाद पापा बहार आ गए और मुझे बेटे को दूध पिलाते हुए देखने लगे मैंने भी ड्रामा करते हुए साड़ी से अपनी चुचि ढक ली पापा तैयार होक हमारे पास ही आ गए और

तभी मैंने अपने बेटे के मुँह से अपनी चुचि बहार निकाल ली और पापा के सामने ही उसे ब्लाउज में डाल दिया मैं उठके किचन में चली गयी और पापा के लिए नास्ता बनाने लगी मगर तभी पापा भी आ गए और इस बार उन्होंने सीधे मेरे दोनों कंधे पकड़ लिए।

मैं -(चोकते हुए) अरे पापा आप है मैं तो डर ही गयी थी।

पापा -बस बेटा देखने ही आया था की क्या बना रही हो?

मैं -पापा आप जो बोलो मैं बना सकती हु.

पापा -बेटा आज उपमा खाने का मन कर रहा है और सच बताऊ तुझे तेरी मम्मी के साड़ी में देखकर लग रहा है जैसे वह ही मेरे सामने खड़ी हो पापा की आँखों में आशु आ गए और मैंने उन्हें पौच दिया।

मैं -पापा मेरे रहते आपको किसी चीज की कमी नहीं होगी मैं हमेशा आपके साथ हु मैंने फिर से पापा को गले लगा लिया और इस बार पापा का हाथ मेरी कमर पर था जिसे वह सेहला रहे थे थोड़ी देर गले लगके हम दोनों अलग हो गए।

फिर हम दोनों ने नास्ता किया और पापा टीवी देखने लगे और मैं भी अपने कमरे में आ गयी कुछ टाइम बाद पापा भी मेरे बेटे को मेरे पास छोड़ गए जब मेरा बेटा रोने लगा तो मैंने भी अपने ब्लाउज के सारे हुक खोल दिए

और अपने बेटे को दूध पिलाने लगी मेरा बेटा दूध पी रहा था।

मैं आँखे बंद किये लेटी हुई थी तभी कुछ देर बाद पापा कमरे में आ गए मेरी दोनों चूचिया बहार थी और बेटा भी दूध पीते पीते सो गया था।

मैंने हलके से आँखे खोल के देखा तो पापा मेरी दोनों चूचियों को ही देख रहे थे पापा हलके हलके बिलकुल मेरे पास सा गए और अपना हाथ बढ़ाने लगे मगर तभी उन्होंने हाथ पीछे कर लिया Baap ne ki apni Beti Ki Chudai

ऐसा उन्होंने कई बार किया मगर फिर भी उन्होंने मुझे छुआ नहीं पापा जल्दी से अपने कमरे में निकल गए फिर दोपहर को हम सबने खाना खाया और फिर दोपहर के टाइम सब आराम करने लगे मेरा बेटा रो रहा था।

इसीलिए पापा उसे मेरे पास छोड़ गए मैं अपने बेटे को दूध पिलाने लगी और खुद आँखे बंद किये लेट गयी मेरा बेटा दूध पीके सो गया था मगर मैं पापा का इंतज़ार कर रही थी.

Apne baap ne ki beti ki chudai

कुछ देर इंतज़ार करने के बाद हलके से दरवाजा खुलने की आवाज आयी मैं वैसे ही आँखे बंद किये लेटी हुई थी पापा हलके हलके मेरे पास आये और कुछ देर तक बस वह मेरी चूचियों को घूरते रहे, पापा अपना लंड सेहला रहे थे
और मेरी चूचियों को घूर रहे थे।

मैं वैसे ही लेटी हुई थी तभी पापा ने अपना हाथ मेरी चुचि पर रख दिया मेरे अंदर करंट सा आ गया और फिर उन्होंने हलके से मेरी चुचि को दबाया जिससे दूध की धार निकल गयी.

पापा हलके हलके मेरी चुकी को दबा रहे थे जिससे दूध की कुछ बूंदे निकल रही थी।

जब पापा को बर्दाश्त नहीं हुआ तो उन्होंने अपना मुँह मेरी चुचि पर लगा दिया और तभी मैंने अपनी आँख खोल दी मेरी आँखे खुले देखकर पापा की हालत ख़राब हो गयी उन्हें समझ नहीं आया की वह क्या करे पापा जल्दी से वहा से भाग गए।

पापा के अंदर एक तूफ़ान आ चूका होगा मगर उनके छूने भर से मेरी चूत में पानी का झरना बहने लगा था।

मैं सोचने लगी काश मैं आँख ना खोलती फिर कुछ देर सोचने के बाद सो गयी, शाम को पापा मार्किट से सामान लेने जाने लगे तभी मैंने उन्हें रोक लिया।

मैं -पापा मुझे भी कुछ सामान लेना है क्या मैं आपके साथ चल सकती हु?

पापा (नीचे देखते हुए) -नहीं बेटा बहार अभी ठीक नहीं है तुम यही रहो जो लाना है मुझे बता दो में ले आऊंगा Baap ne ki apni Beti Ki Chudai

मैं -चलिए कोई बात नहीं वैसे भी वह जयादा जरुरी नहीं है पापा जल्दी से निकल गए और मैंने भी साड़ी निकाल के मैक्सी पहन ली कुछ देर बाद पापा भी आ गए वह मेरे बेटे के साथ खेल रहे थे.

मगर मुझसे कोई भी बात नहीं कर रहे थे मैं भी खाना बनाने लगी और फिर रात में हम दोनों ने खाना खाया पापा ने अभी तक मुझसे आँखे नहीं मिलायी थी।

मैं अपने काम में लग गयी और सारा काम करके मैं अपने कमरे में जाके लेट गयी।

मैं आँखे बंद किये पापा के बारे में सोच रही थी मुझे लगा पापा तो शायद नहीं आएंगे इसीलिए मुझे ही आगे बढ़ना पड़ेगा

मगर तभी मेरे पैरो पर किसी का हाथ लगा मैंने जैसे ही आँखे खोल के देखा तो पापा मेरे पैर पकड़े हुए थे।

मैंने जल्दी से पेअर पीछे खींच लिए।

मैं -पापा ये आप क्या कर रहे है?

पापा -बेटा मैं उस पाप की माफ़ी मांग रहा हु जो मैंने किया है मैं खुद से आँखे नहीं मिला पा रहा हु प्लीज मुझे माफ़ कर दे

मैं -पापा मैं समझ सख्ती हु अपने ऐसा क्यों किया? पापा एक बेटी होने के नाते ये गलत हो सकता है मगर मैं एक औरत होने के नाते ये समझती हु की ये कोई गलत नहीं है पापा मेरी बात सुनके सन्न रह गए।

पापा -बेटा ये तुम क्या कह रही हो? तुम जानती हो एक बाप अपनी बेटी के साथ ऐसा करे तो उसे क्या कहते है?

मैं -पापा एक मर्द और औरत जयादा टाइम तक अकेले रहे तो ऐसा होना लाज़मी है

Baap beti ki chudai sex Story

आप तो बहुत टाइम से अकेले हो वैसे भी जो हुआ है वह इस घर के अंदर है ।

पापा -बेटा वही तो गलत किया है आज तुम्हे तुम्हारी माँ की साड़ी में देखा तो मैं पागल हो गया और वह कर बैठा जो मुझे नहीं करना चाहिए था.

मैं -पापा एक औरत होने के नाते मैं समझ सकती हु की एक मर्द को एक औरत की कितनी जरुरत होती है आप अपने दामाद को ही देख लो कितना बहार रहते है और मैं उनके बिना आप जैसे हो जाती हु Baap ne ki apni Beti Ki Chudai

आज इस कहानी मे बस इतना ही दोस्तो बाकी भाग 2 मे।
Read More Sex Stories..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *