By | February 18, 2023

Bhabhi Ki Chudai Se Khun: हैलो दोस्तो, पिछले भाग मे आपने पढ़ा था कैसे भावना और मैंने आकाश के साथ मस्ती की थी , अब उसके आगे क्या हुआ  आओ पढ़ते है॥

शाम की दारु मस्ती के बाद भावना आकाश और मैंने पिज़्ज़ा खाया,  पिज़्ज़ा खाने के बाद अब वक़्त था आकाश के साथ अगले खेल का आकाश के सर तो 4 पेग का नशा सर चढ़ बोल रहा था।

Bhabhi Ki Chudai Se Khun

शायद कई दिनों बाद उसने दारू पी थी या फिर वह कभी इतना पीता नहीं उसकी आँखे लाल थी शायद दारु से कम और हम दोनों लड़कियों की हुस्न की भूख से ज़्यादा लाल थी पिज़्ज़ा खाने के बाद वक़्त था आकाश के साथ अगला खेल खेलने का हम तीनो बाते करते हुए पिज़्ज़ा ख़त्म किया और फिर अपने अपने प्लेट लेकर किचन चले गए॥

किचन में पहले आकाश अपने प्लेट को धोने लगा शायद उसे काफी जल्दी थी भावना उसे पीछे से देखती हुई बोली: कितना मस्त लग रहा है लड़कियों के कपडे में काम करते हुए।

मैं: हाँ न मैं तो सोच रही थी की आकाश के सारे कपडे फेक दूँ और उसे मेरे कपडे दे दू, आकाश तुरंत मूड कर देखा की कही मैं ये बात गंभीरता से तो नहीं कह रही उसके घबराहट पर मैं और भावना हसने लगी, Bhabhi Ki Chudai Se Khun:

इतने में वह अपनी प्लेट धोकर पलटा और हमें देख खड़ा हो गया अब तक उसका लंड थोड़ा सिकुड़ चुक्का था तो भावना बोली: तुम तो मुरझा गए आकाश अपना मुँह पोछने लगा शायद उसे लगा की भावना उसकी शकल देख बोल रही हो तब भावना आगे बोली: मैं तुम्हारी शकल की नहीं उसकी बात कर रही हूँआकाश अपने नीचे देखा और समझ गया की भावना क्या कह रह है और बोला: एक मिनट मैं अभी आया।

Devar bhabhi ki chudai

ये कहता हुआ वह किचन से बहार जाने लगा तो मैंने पूछा : कहा चले? मुरझाये पौधे को पानी देने है है है!

आकाश: नहीं इतनी देर पीया तो सुसु लग गयी अभी हल्का होकर आता हूँ

भावना हस्ती हुई बोली: है है है! मैं भी आऊं क्या? पकड़ के करवा दूँगी ।

आकाश ये सुन खुश होता हुआ बोला: हाँ बिलकुल आओ तभी मैं टोकती हुई बोली: नहीं नहीं तुम जा कर आराम से आओ हम लिविंग रूम में ही होंगे तुम्हारे इंतज़ार में॥

भावना समझ गयी की मेरे दिमाग में कुछ तो चल रही है और वह बोली: हाँ आकाश अभी तुम जाकर जल्दी आओ आकाश तुरंत किचन से निकल कर अपने रूम को भागा उसके जाते ही।

भावना मुझसे पूछी: क्या हुआ? क्या चल रहा है तेरे दिमाग में?

मैं: अभी बताती हूँ तू यही रुक।

मैं भावना को किचन में छोड़ कर अपने रूम को गयी और फिर राकेश के ड्रावर से कुछ लेकर तुरंत किचन को गयी वह भावना अपने और मेरे प्लेट को धो रही थी और मुझे देख पूछी: क्या तू भी हलकी होने गयी थी?

मैं: नहीं ये लेने गयी थी।

भावना मेरी तरफ देख और फिर मेरे हाथ में पकड़ी एक टेबलेट देखते ही वह समझ गयी की वह कौनसी टेबलेट है।

भावना: ओहो! लगता है तू सचमे आज आकाश को सोने नहीं देने वाली।

मैं: हाँ वह तो है पर मैं नहीं तू नहीं सोने देगी आज उसे।

भावना: मतलब?

मैं: आज नवीन ने एक बात कही मुझसे।

भावना: क्या?

मैं: की इसका असर हम लड़कियों पर भी होती है। Bhabhi Ki Chudai Se Khun:

भावना: रियली? तो तू क्या कहना चाहती है की ये हमारे लिए है?

मैं: हाँ।

indian bhabhi ki chudai ki story

भावना: सुन कर तो उत्तेजना हो रही है लेकिन इसका कोई साइड इफ़ेक्ट तो नहीं होगा न हमपे?

मैं: नहीं नहीं बिलकुल नहीं।

भावना: अगर ऐसा है तो मैं तैयार हूँ।

मैं: पर एक बात है हम ये आकाश को नहीं बताएँगे।

भावना: तो फिर उसे कैसे खिलाएंगे ये?

मैं: उसकी ड्रिंक में मिलाकर उसके आने से पहले उसकी ड्रिंक बनाकर उसमे मिलाकर रखते है।

भावना: तू तो बड़ी वाली रंडी भाभी है।

मैं: तू कौन सी कम है?ये कहते हुये मैं उस टेबलेट को आधा थोड़ी और एक भावना को दे दी और दूसरे को बेलन लेकर मसलती हुई उसका पाउडर बनाने लगी।

भावना: ये आधा मुझे दे दी तो तू नहीं लेगी क्या?

मैं उसे आँख मारती हुई बोली: मैंने तो आधी ले भी ली।

भावना: कब?

मैं: जब में अंदर रूम में गयी पिछली बार राकेश आधा खाकर रखा था वह आधा मैंने ले ली।

भावना मेरी गांड पर थपड मारती हुई बोली: कमीनी पूछती नहीं तो बताती भी नहीं।

मैं उससे झूठ बोली मैंने कोई टेबलेट नहीं खायी थी हम बात तो ये थी की मैं जानना चाहती थी की क्या सच मे इस टेबलेट को दारु के साथ लिया जाए तो कुछ याद नहीं रहता और ये बात मैं भावना को बता नहीं सकती थी।

वरना वह शायद नहीं लेती भावना तुरंत आधी टेबलेट मुँह में डाली और थोड़ा पानी पी ली मैं बाकी बची टेबलेट को अच्छे से पाउडर बनाकर एक छोटी सी कागज़ में लेली और फिर हम दोनों किचन से निकल ही रहे थे की आकाश अपने कमरे से निकल आया।

भावना: आकाश! इतनी जल्दी?

आकाश: मैं कौन सा  आईएएस की एग्जाम देने गया था इस बार हम दोनो लड़कियों ने नीचे देखा तो उसका लंड थोड़ा सा तना हुआ था यक़ीनन बाथरूम में हम दोनों को सोच शायद हिलाया होगा. Bhabhi Ki Chudai Se Khun:

Sexy Bhavana Bhabhi ki chudai

आकाश लिविंग हाल  में जाकर सोफे पर अपने टांग फैलाकर बैठा, हमे देख बोलै: तो फिर अब आगे क्या होने वाला है आज की दारु पार्टी का,

हम दोनों उसके सामने वाले सोफे पे बैठ गए और फिर मैं बोली: तुम्हारा क्या इरादा है वह तो बताओ।

भावना: हाँ हाँ आकाश पहले तुम बताओआकाश हमारे सामने पूरी बेशर्मी के साथ अपने लंड को हाथ में लेकर बोला: मेरे तो बहुत सारे इरादे है, तुरंत भावना उठी और फिर उसके कंधे पर अपने हाथ रख उसकी गोद में बैठ गयी और बोली: क्या क्या इरादे है बोलो?।

इस तरह उसके बैठने से आकाश का लंड ठीक उसकी गांड के नीचे दब गया,

आकाश के सामने भावना थी तो पीछे बैठी मैं उसे नहीं दिख रही थी।

भावना मेरे तरफ मुड़ी और आँख मारती हुई बोली: ड्रिंक्स बची हुई है ना? एक और पेग बनाओ हमारे आकाश के लिए, तब मैं समझी वह यु ऐसे जाकर उसकी गोद में क्यों बैठी।

 मैं तुरंत आकाश की गिलास में उसके लिए पेग बनाने लगी और फिर धीरे से हाथ में दबाकर लायी कागज़ की पुड़िया निकल सारा पाउडर उसकी गिलास में धीरे धीरे घोल कर रख दिया।

मैं गिलास लेकर भावना के तरफ गयी और बोली: ये लो भावना अपने हाथो से पिलाओ उसे अच्छे से भावना मेरे हाथ से गिलास लिया और उसकी गोद में ही बैठती हुई उसके होठो पे गिलास लगाकर बोली: चलो पियो।

आकाश: इतना न पिलाओ कही मैं टल्ली होकर सो न जाओ।

भावना अपने एक हाथ से उसकी गाल को दबाती हुई उसका मुँह खुलवाई फिर उसे पेग पिलाती हुई बोली: उसकी चिंता तुम मत करो तुम टल्ली भी हो गए तो सोने नहीं देने वाली तुम्हें मैं। Bhabhi Ki Chudai Se Khun

Hot Shobha bhabhi ki chudai

आकाश भावना के हाथ से गिलास लेने की कोशिश करता हुआ बोला : चलो अब मैं तुम्हे पिलाता हूँ भावना तुरंत उसे रोकती हुई बोली: नहीं नहीं मैं व्हिस्की नहीं पीती ये तो पूरा तुम ही पियो मुझे तो कुछ और चूसकर पीना है।

ये बोलती हुई भावना उसे और पिलाने लगी और वह उसकी बातो से मदमस्त होता हुआ पीता गया ।

मैं भी खुश थी की चलो जैसा मैं सोच रही हूँ सब वैसा ही हो रहा है थोड़ी घूँट और पीने के बाद आकाश भावना से पुछा: क्या चूसकर पियोगी बताओ?

भावना: जैसे की तुम्हे पता नहीं?

आकाश: नहीं नहीं पता, इसपर भावना उसके हाथ में उसका गिलास पकड़ा कर उठी और बोली: बोल कर बताऊँ या…ये बोलती हुई भावना सीधे उसके टाँगो के बीच ज़मीन पर घुटनो पर बैठी फिर उसके आधे तने लंड को हाथ में लेकर बोली: या करके बताऊँ?

आकाश पूरा खुश होता हुआ एक और घूँट पिया और बोला : करके के बताना।

भावना उसकी आँखों से आँखे मिलाती हुई उसके लंड को धीरे धीरे ऊपर नीचे हिलाने लगी और पीछे से ये देख मेरे अंदर भी रोमांच उठने लगी थोड़ी देर ऐसे ही हिलाने के बाद भावना उसके लंड के सिरे को चाटती हुई बोली: ऐसे चाट चाट कर मैं हर बूँद चाट जाउंगी तुम्हाराआकाश: अह्ह्ह! ममममम और?

भावना उसके लंड के सर को उंगलियों से निचोड़ती हुई बोली: ऐसे निचोड़ निचोड़ कर सारा रस निकलूंगी।

आकाश: अह्ह्ह्ह! और?भावना थोड़ी आगे बड़ी और उसके लंड के सिरे को दांतो से हलके काटी हुई बोली: ऐसे काट खाउंगी तुम्हारे रस भरे केले को।

आकाश: अह्ह्ह्ह! वाह!

भावना: और फिर तुम्हारे इस बीन को नागिन की तरह निगल जाउंगी ऐसे ये  कहती हुई भावना अपनी मुँह में उसके लंड को आधा ले ली और अपने मुँह में घूमती हुई ऊपर आकाश को देखने लगी।

आकाश: वाओ! मज़ा आ गया॥

भावना की हरकत देख अब मेरी रोमांच नयी मोड़ ले रही थी भले कल रात से राकेश और फिर आज दिन में नवीन से चुदी  थी।

फिर भी चूत में चुदने की प्यास उमड़ने लगी। Bhabhi Ki Chudai Se Khun

भावना अपने सर को ऊपर नीचे हिलाती हुई आकाश के लंड को अपने मुँह में अंदर बहार करने लगी।

आकाश का लुंड अब सख्त होने लगा और अपने पूरे अकार में आने लगा जिस तरह उसके लुंड का अकार बढ़ता गया वैसे ही भावना उसे और अंदर लेती हुई मुँह में भरने लगी आकाश अपने गिलास में बची आखिरी घूँट पीकर गिलास को सोफे पर फेका।

Bhabhi ki chudai hindi mein

 फिर भावना के सर को पकड़ अपने लुंड को उसकी मुँह में धीरे धीरे चोदने लगा इन दोनों को देख अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था पर मन  में ये भी था की  मैं नहीं चाहती थी की आकाश और मेरे बीच इतनी जल्दी कुछ हो तब सोचा की ज़रूरी तो नहीं की मज़ा लेने के लिए आकाश के साथ कुछ करू।

मैं उठी और सामने रखी सेंटर टेबल थोड़ी साइड को सरकायी और ठीक भावना के पीछे जाकर कुतिया बनके  बैठ गयी,

फिर उसकी बेबीडॉल के सिरे को नीचे से ऊपर उठायी और उसकी गांड पर थपड मर कर बोली: चुड़क्कड़ ये भी नहीं की मुझे भी बुलाओ अकेले अकेले खा रही हो।

भावना अपने मुँह से आकाश के लंड को निकाल पीछे मुड़ी और बोली: तुझे बुलाने की क्या ज़रूरत यू अरे ऑलवेज इन्वितेद माय डिअर।

मैं इस पर थोड़ी आगे झुकी और उसकी गांड को फैलती हुई पीछे से उसकी चूत में अपनी होंटो को सटाकर चूमने लगी।

भावना वापस अपने मुँह में आकाश के लंड को लेकर मुँह चुदवाने लगी और पीछे से मैं उसकी चूत को चूमने और चाटने लगी चूत को जीभ से चट्टी हुई मेरी नाक उसकी गांड की छेद पर रगड़ती हुई उसकी वासना की खुशबू का मज़ा भी ले रही थी।

थोड़ी देर चूत चाटने के बाद में अपनी जीभ को ऊपर उसकी गांड पर चाटने लगी और भावना मज़ा लेती हुई आकाश के लंड को और ज़ोर से चूसने और मुँह में चुदवाने लगी।

मैं अपनी बाया हाथ अपनी चूत पर ले गयी और साथ ही दाया  हाथ को भावना की जांघो के बीच से उसकी चूत पर अपनी चूत में ऊँगली करती हुई भावना की चूत को उंगलियों से रगड़ती हुई उसकी गांड को चाटने लगी। Bhabhi Ki Chudai Se Khun

कुछ ही देर बाद मैंने अपनी 2 ऊँगली भावना की चूत में उतार दी और फिर उसे अचे से चोदने लगी जैसे जैसे मेरी ऊँगली मेरी चूत में घुसती निकलती वैसे ही अपनी बाए हाथ  की उंगलियों को भावना के अंदर बहार खेलती हुई मस्ती की लहर को बढ़ाने लगी।

भावना मस्ती में आकर आहे भरना चाहती थी पर आकाश उसके सर के बालो को पकड़ अपने लंड को उसके मुँह से निकलने ही नहीं दे रहा था।

भाभी की चुदाई की रात मे

ये देख मुझे भावना को और तरसाने का मन हुआ और मैंने अपनी 3 ऊँगली उसकी चूत में घुसाकर चोदने लगी साथ ही अपनी चूत में 2 ऊँगली करती हुई भावना की गांड को अच्छे से चाटने लगी।

भावना कुतिया बनी आकाश को मज़ा दे रही थी और मैं कुतिया बनी भावना को कुछ देर यही सिलसिला चलता रहा फिर भावना आकाश के हाट को अपने सर से हटाकर मुँह से लंड निकाल।

 मेरे तरफ मुड़ मेरे होंटो से होंठ मिलकर मुझे चूमने लगी ऐसे करने पर अब भावना अपनी गांड आकाश को दिखाती हुई घुटनो पर थी।

आकाश भी नीचे ज़मीन पर ठीक उसकी टाँगो के बीच बैठा फिर अपना मुँह उसकी गांड में चिपका कर उसकी चूत और गांड चाटने लगा भावना मुझसे चूमती हुई अपने चूत रस का भी स्वाद मेरे मुँह से ले रही थी।

 भावना चूमना रोक कर मुझसे बोली: आकाश तो काम पे लग गया चल अब तू पलट मैं समझ गयी और तुरंत एक अच्छी कुतिया की तरह उसकी मुँह के तरफ अपनी गांड दिखाती हुई बैठ गयी इसके बाद तो मानो भावना मेरे करनी का बदला ले रही थी।

वह अपनी 2 उंगलिया मेरी चूत में घुसाई और अपनी जीभ से मेरी गांड चाटने लगी भावना के अंदर टेबलेट का असर दिख रहा था ।

वह बड़ी ही चाव से मेरी गांड की छेद पर अपनी जीभ टटोलती हुई चाट रही थी मानो किसी बच्चे को आइस क्रीम मिल गयी हो वैसे ही शायद आकाश भी उसके साथ कर रहा था।

ऐसे लग रहा था मानो एक कुत्ता और 2 कुटिया आपस में सम्भोग का मज़ेदार खेल खेल रहे हो यह सोच कर ही मेरी उत्तेजना काफी तेज हो रह थी। Bhabhi Ki Chudai Se Khun

करीब 5 मिनट ऐसे ही मेरी चूत और गांड भावना ने खायी और उसकी चूत और गांड को आकाश ने इसके बाद में उठी और उन दोनों के तरफ पलट कर बोली: क्या सब फ्लोर पे करने का इरादा है?

भावना पीछे पलटी और आकाश के सर के बाल को पकड़ उसे अपनी गांड से अलग कर बोली: इसे तो लगता है कुछ सुनाई ही नहीं दे रहा।

आकाश: क्या…या हुआ? किसने क्या बोला ?

भावना: सब यही करोगे? फ्लोर पे?

आकाश अपने लंड को पकड़ हिलाते हुए बोला : अरे मुझे तो कही भी कोई फरक नहीं पड़ता।

मैं: हाँ हाँ इसे तो बस तुम्हारी छेद चाहिए भावना।

भावना वापस आकाश के बालो को पकड़ उसके मुँह को अपनी गांड में लगाकर बोली: तो फिर रुको मत अच्छे से खाओ मुझे।

आकाश वापस भावना की गांड और चूत चाटने के काम पर लग गया मैं भावना को किश करने लगी और फिर भावना धीमी आवाज़ में मुझसे बोली: मुर्गा तो पूरा फस्स चूका है।

हॉट सगी भाभी की चुदाई कहानी

मैं: और तरसा तरसा कर उसकी भूख बढ़ाओ।

भावना: वह इतने अच्छे से मेरी चूत और गांड चाट रहा है की शायद मेरी भी भूख बढ़ जाए।

मैं: घबराओ मत उससे पहले मैं कुछ कर के इस खेल को बंद करवा दूंगी।

भावना मेरी कान को हलके से काट बोली: पागल हो क्या वैसा कुछ किया तो तेरी जान ले लुंगी।

मैं: पर आज ये हमारे प्लान में नहीं है। Bhabhi Ki Chudai Se Khun

भावना: भाड़ में गया तेरा प्लान अभी मुझे इससे चुदवाने का बड़ा मन हो रहा है उसके बाद देखेंगे तेरे प्लान के बारे में उसकी बात से मैं समझ गयी की ये टेबलेट का असर है जो भावना को सेक्स के लिए भड़का रही थी, मतलब नवीन सही कह रहा था इस टेबलेट का असर हम लड़कियों पर भी होता है.

मैं कुछ आगे बोली नहीं और वापस भावना को प्यार भरी लेस्बियन किश करने लगी, आगे बोलकर भी शायद कोई फायदा नहीं होता और तो और मेरी मन में भी भावना को चुदते देखने की इच्छा हो रही थी।

हम दोनों लड़किया आँखे बंद कर एक दूसरे को चूमने में लगी हुए थी, अचानक से भावना के मुँह से आह निकल गयी आँख खोल कर उसे देखा तो वह तुरंत पीछे पलटी और उसके साथ मैं भी उसके पीछे आकाश के तरफ देखि आकाश जो पहले अपना मुँह भावना की गांड में चिपकाये हुए था ।

वह अब अपने घुटनो पे खड़ा था उसके हाथ भावना के कमर पर थी और वह धीरे धीरे अपनी कमर हिला रहा था।

भावना: ओह! बिना बोले ही डाल दिए मेरी चूत में बता तो सकते थे।

सेक्सी भाभी की चुदाई स्टोरी

आकाश: अच्छे काम पूछ कर नहीं करते क्यों अच्चा नहीं लगा क्या? अभी तो पूरा घुसाया भी नहीं डालु क्या पूरा?

भावना: पहले तो पूछे नहीं तो अब क्यों पूछ रहे हो घुसवा पूरा।

भावना की बाते मेरी चूत में खलबली मचा रही थी शायद वही असर आकाश पर भी था जिस कारन उसने अपना कमर ज़ोर से भावना की गांड की तरफ दे मारा भावना ज़ोर की आह बोल पड़ी जिससे शांत करने के लिए मैंने अपनी 3 उंगलिया उसकी मुँह में डाल दी।

भावना मेरी उंगलियों को चूसती हुई आकाश के लंड के अकार को अपनी चूत में सँभालने लगी।

मैं: काफी बड़ा है क्या इसका? Bhabhi Ki Chudai Se Khun

भावना: मममम हम्म्म्मऊँगली मुँह में होने के कारन वह कुछ बोली नहीं बस सर हिलती हुई ‘हम्म्म’ करने लगी आकाश अपना कमर थोड़ा पीछे लिया और फिर ज़ोर का एक और धक्का दे मारा भावना मुँह में आहे दबती हुई मेरी उंगलियों को काट गयी आकाश ने शायद इस बार अपना लंड भावना की जड़ तक दे मारा।

भावना के काटने से मैंने अपनी उंगलिया उसके मुँह से खींच ली तो भावना पलट कर आकाश को बोली: अब चोदगे भी या ऐसे ही बस मेरी चूत बजाते रहोगे? चोदो न मुझे आकाश भावना की कमर पकड़ कर शुरू हो गया वह अपनी कमर हिला कर भावना की चूत  में अपना लंड उतरता गया और भावना हवस की प्यास भूझता गया।

भावना को इतने मज़े में देख अब मेरी आग भड़क कर चूत से रस निकालने लगा ।

मैं भावना को देखती हुई उसके सामने अपनी टाँगे फैलाकर बैठी और अपनी हाथ से अपनी चूत को मज़ा देने लगी ।

Mast bhabhi ki chudai ki kahani

मैं आकाश को देख अपनी फैली टैंगो क बीच चूत को मसल रही थी और अपने होठो को काट नशीली आँखों से उसे देख रही थी वह मुझे और मेरी हरकतों को देख और उत्तेजित हुआ।

वह भावना की चूत  में लंड मारने  लगा आकाश को थोड़ा और पागल करती हुई मैं अपना हाथ चूत  से हटाकर अपने मुँह के पास लायी, उसे दिखती हुई अपनी उंगलियों पे लगी चमकती चूत  के रस को चाटने लगी, अचानक से भावना ने मेरी टांग पकड़ी और मुझे अपनी तरफ खींचने लगी।

वहबोली: इधर आना तुझे भी मज़ा देती हूँ मैं अपनी गांड फ्लोर पर रगड़ती हुई बौना के पास खिसकती हुई गयी और अपनी चूत  ठीक उसके मुँह के नीचे ले गयी भावना मेरी जांघो को पकड़ फैलती हुई मेरी चूत को चूमने लगी।

उसके होंठ मेरी चूत की होठो को पलट पलट कर चूमने लगे। Bhabhi Ki Chudai Se Khun

मेरी चूत से निकलती रस की बुँदे को अपने जीभ से रगड़ती हुई चाटने लगी जैसे जैसे आकाश पीछे से भावना को धक्के मार रहा था,  वैसे ही भावना आगे पीछे हिलती थी अपनी जीभ से मेरी चूत पर रगड़ रगड़ कर चाट रही थी,

मैं तो बस नशीली आँखों से भावना और आकाश को देखती हुई अपनी जंघे और ज़्यादा फैलाकर दे रही थी उसकी जीभ मेरी चूत के दाने पर जब भी मचलती तो मेरी चूत से मस्ती की लहर मेरे तन बदन में उतर जाती, धीरे धीरे जल्द ही मेरे हाथ भावना के बालो को नोच रहे थे।

आकाश पुरे ताकत के साथ भावना को पीछे से चोद रहा था भावना मुँह से लार टपकती हुई मेरी चूत को खाये जा रही थी थोड़ी ही देर हुई की मुझे एहसास हुआ, की भावना की जीभ के नीचे से मेरी चूत में उसने अपनी दो उंगलिया उतार दी मेरे मुँह से ‘आह’ निकल गयी।

jawan bhabhi ki chudai ki story

 जिससे वह समझ गयी वह समझ गयी की मुझे और चाहिए थी उसने अपनी चूत  में जाते लंड के ताल मेल के साथ मेरी चूत  में ऊँगली करनी शुरू कर दी ऐसा लग रहा था मनो आकाश भले भावना को चोद रहा हो पर चुद मैं रही थी।

 मैं ये जान कर ज़ोर से बोली: ओह यस आकाश और ज़ोर से चोदो इसे मेरी बात सुन आकाश धना धना तेज़ी के साथ भावना की चूत को पीछे से चोदने लगा और सात ही भावना अपनी उंगलिया मेरी चूत में उसी तेज़ी के सात घुसाने लगी।

कुछ 5 मिनट भी मैं संभल नहीं पायी खुद को मैं बोल पड़ी: यस! यस! यस! अह्ह्ह! मेरा होने वाला है ये सोच ही रही थी की मैं अकेली पहले झड़ रही हूँ की तब भावना बोल पड़ी: हैं! मेरा भी हो रहा है यह इसके साथ हम दोनों लड़किया आहे भर्ती हुई अकड़ने लगी, और 15-20 सेकंड के बाद मदहोश होकर फर्श पर बेजान हो कर रह गए। Bhabhi Ki Chudai Se Khun

आकाश भावना की हालत देख रुक गया भावना अब भी कुतिया बनी पड़ी थी और आकाश का लंड अब भी भावना के अंदर था।

5 मिनट बाद मैं उठ कर आकाश को देखा और फिर भावना को भावना सर उठा कर मुझे देख बोली: मज़ा आ गया यार।

ये बोलती हुई भावना आकाश के लंड को अपनी चूत से छुड़ा कर मेरे हाथ को पकड़ अपने साथ मुझे भी उठायी तभी आकाश बोलै: ऐसा मत बोलना के तुम दोनों का हो गया और अब तुम लोग सोने जा रहे हो।

भावना उसके लंड को पकड़ खींचती हुई उसे मेरे बैडरूम के तरफ चलती हुई बोली: ऐसा सोचना भी मत क्यों शोभा?

मैं पीछे से उनके साथ चलती हुई आकाश के गांड पर थप्पड़ मार कर बोली: बिलकुल सही!

ऐसा कुछ सोचना भी मत आकाश अभी तो काफी रात बाकी है आज की!

तो दोस्तो आज इस कहानी मे बस इतना ही , गले भाग मे बतऔगा कैसे फिर शोभा भाभी भी मुजशे चुदने आई .

Read More Sex Stories..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *