By | January 23, 2023

Devar Bhabhi Ki Chudai ki kahani:-हैलो दोस्तो, कैसे हो आप सब आज मैं आपके साथ फिर से पिछली कहनी का भाग 3 लेके आया हु अगर आपने इस कहनी के पिछले भाग अभी तक नहीं पढे तो आप यहा क्लिक करके पढ़ सकते है।

ये भी पढे->भाभी से मज़ाक से सुरू फिर चुदाई की 2 मेरी भाभी मौजे जिम लेके गए गयी थी , तो अब आगे.
आकाश की शोभा भाभी

मैं आकाश. लास्ट टाइम मैंने बताया की किस तरह से शोभा मुझे जिम ले जाती है और वहां उसकी हॉट सेक्सी फ्रेंड्स से मिलती है. उनमे से ज़्यादातर शादी शुदा ही थी. उसके बाद किस तरह से उसके तीन और फ्रेंड्स घर पर आये और किसी पार्टी को गए.इसके बाद मैं और शोभा अब घर में अकेले थे. मेरा पूरा ध्यान किसी भी तरह से शोभा के साथ मस्ती करने का था. शोभा के फ्रेंड्स के जाने के बाद मैंने सोचा की बाथरूम में जाकर उनके अभी आकर गयी तीन सेक्सी फ्रेंड्स को सोच कर मुठ मार लू.पर फिर सोचा की खामखा मुठ मार कर बर्बाद न करू क्यों की अब जाकर मैं और शोभा अकेले थे घर पर.

Devar Bhabhi Ki Chudai

तो यही सोच मैं अपने कमरे से निकल कर लिविंग रूम में बैठ गया और टीवी देखने लगा. और काम ही क्या था. एक हाथ में मोबाइल तो दूसरे हाथ में टीवी का रिमोट.इतने में शायद टीवी की आवाज़ सुनकर शोभा भी अपने रूम से निकल कर आयी. उसे देखा तो स्माइल मारा और मन में सोचा की भैया साले कमीने को कैसे इतनी खूबसूरत माल मिल गयी. इतने में शोभा ने भी स्माइल दी और आकर मेरे साइड वाली सोफे पर बैठ गयी. Devar Bhabhi Ki Chudai ki kahani:

Desi bhabhi ki chudai Ki kahani

शोभा: क्या देख रहे हो?मैं: कुछ खास नहीं. ऐसे ही बस चैनल पलट रहा था. आपको कुछ देखना है क्या?शोभा: नहीं नहीं मैं उतना टीवी कुछ खास नहीं देखती.मैं: तो आप करते क्या हो पुरे दिन?शोभा: बस ऐसे ही फ्रेंड्स आते है नहीं तो उनसे फ़ोन पे चैट कर लेती हूँ. नहीं तो कभी बहार जाती हूँ.मैं: ओह तो आज मेरे कारन आप घर पर हो? वरना आप भी जाते उनके साथ.
शोभा: अरे नहीं यार ऐसा कुछ नहीं. मुझे जाने का मन नहीं है.मैं: वैसे यहाँ बैंगलोर में लोग दिन में भी पार्टी करते है क्या

शोभा: है है है! तुमसे किसने कहा की पार्टी सिर्फ रात को होती है? और तुम्हे क्या लगता है ये किस तरह की पार्टी में गए है?मैं (थोड़ी हैरानी से पुछा): तो कहा गयी? ड्रेस तो पूरा पार्टी वाली थी.शोभा: यहाँ न एक जगह है – नाम की. वहां एक क्लब है. वही गए है.मैं: वहां उस क्लब में पार्टी के अलावा क्या होता है जो आप ऐसे बोल रही हो?शोभा: पार्टी ही होती है पर वह वाली.मैं: क्या वह वाली खुल कर बोलना. आपने ही बोला की खुल कर बात करो और आप ही वह शब्द लगाके बोलती हो.

शोभा: ओके बाबा सेक्स पार्टी होती है. कामिनी लोग चुदने गयी है.इतना कहते हुए वह फिरसे सोफे पर पूरा आराम से टांग रख कर बैठ गयी. मैंने तब मज़ाक में पुछा क्यों की अब तो मुझे नॉन बात करने की छूट मिल गयी थी.मैं: अच्छा तो वह चुदने गयी और उन्होंने आप को भी बुलाया? आप क्यों नहीं गयी भाभी जी. मैं यहाँ था उसी लिए? है है है!

शोभा: है है है! अरे तुम्हारे भैया जब यहाँ है तो मैं क्यों जाओ बहार वही मेरी हालत ख़राब कर देते है.मैं: ओह ऐसा? तो मतलब कल रात को पूरी जैम कर ली होगी उन्होंने आपकी.शोभा खिलखिला कर हस्स पड़ी: हाँ ली तो सही. सच पूछो तो उसके माँ बाप ने क्या खिलाकर पैदा किया है उसे यार.मैं: क्यों?शोभा: कल रात 3 बजे तक ओके 3 समझे 10 बजे से 3 बजे तक. अब खुद ही सोचलो. Devar Bhabhi Ki Chudai ki kahani:

मैं: 10 से 3???? मतलब की (अपने उंगलियों में गिनते हुए बोलै) एक दो तीन चार पांच? पांच घंटे?शोभा: हाँ 5 घंटे.
मैं अपने शॉर्ट्स में उभरते उभार को हलके से दबाते हुए बोला: है है है! आप तब भी ठीक ठाक चल रही हो?शोभा अपने बालो में हाथ फेरते हुए बोली: अरे यार हफ्ते में कुछ भी नहीं तो 5 दिन होता ही है और शादी से पहले भी ऐसा ही था वह.

Sexy bhabhi ki chudai ki story

मैं: आपको तो मान न पड़ेगा. मतलब 5 घंटे? वाह.शोभा: इसमें मान ने की क्या बात है. 4 बार होने के बाद अगली बार मैंने ही बोला उनसे.इतना कहते हुए मुस्कुराते हुए उन्होंने अपनी ऊँगली हलके से काट दी.मैं: सचमे? और 4 बार के बाद फिर?शोभा: फिर मैंने उनसे 2 बार और. है है है! मुझे अच्छा लगता है. क्यों?

मैं: वाओ भाभी काश बस काश मुझे भी आप जैसी बीवी मिल जाये. या फिर…शोभा अपने एक भवर को उठाते हुए पूछी: या फिर बोलो.मैं भी आँख मारते हुए कह दिया: या फिर आप ही मिल जाओ. है है है!शोभा ज़ोर से हस्स पड़ी और बोली: है है है! बताती हूँ तेरे भैया को की उसके भाई को उनकी बीवी की लेने का मन हो रहा है.

मैं घबराहट वाला चेहरा बनाते हुए बोला: अरे भाभी आप न स्टार मोवीएस में आस्था चैनल मत लगाओ.शोभा: मतलब?मैं: आपकी बातो में मज़ा आता है उसके बीच आप भैया को बताने की बात करके पूरा मज़ा नीचे ले आते हो.शोभा: मज़ा आता है तुझे या तेरे उसको. है है है!

मैं: दोनों को भाभी. तो आपको सेक्स बहुत पसंद है क्या?शोभा: हाँ. किस्से पसंद नहीं सेक्स? तुम्हे?मैं: भला किश मर्द को सेक्स नहीं पसंद होगा?शोभा: नहीं नहीं मुझे लगा तुम सिर्फ गोरी जांघो में इंटरेस्टेड हो.हाहाहा?मैं: अरे भाभी ऐसा नहीं बाकी सब भी पसंद है. वैसे थी एक गर्लफ्रेंड कॉलेज में. पर आप लोगो के तरह ऐसे हफ्ते में 5 दिन सब नहीं.

शोभा हस्ते हुए बोली: है है है! तो जल्दी शादी करलो. फिर करना हफ्ते में पांच या 7 दिन.मैं: अरे भाभी अभी कहा काम धंदा कुछ है नहीं.शोभा: हम्म! तो यहाँ गर्लफ्रेंड बनालो. इतनी सारी लड़किया तो है देखा न. पटा कर ले आओ. और कर लो अपनी मुराद पूरी.मैं: कहा यहाँ? इस घर पे?शोभा: हाँ. क्यों?मैं: पागल हो क्या भैया न मुझे घर से तो दूर बैंगलोर से भी लाथ मारके निकाल देंगे. Devar Bhabhi Ki Chudai ki kahani:

hot bhabhi ki chudai ki story

मैं: ओह भाभी तो मतलब आपको थ्रीसम भी पसंद है.शोभा: पोर्न में कभी कभी देख लेती हूँ तरय करने का मौका मिला तो कर लुंगी.मैं: आपकी न एक एक बाते अब सामने आ रही है.शोभा अंगड़ाई लेते हुए बोली: अच्छा ये बताओ मुझमे तुम्हे क्या अच्छा लगता है?मैं: अरे भाभी आपका तो मुझे सब कुछ अच्छा लगता है.शोभा खूबसूरत हसी देते हुए बोली: सब कुछ तुमने अभी तक देखा ही कहा सिवाए मेरे टाँगो के जो ऐसा कह रहे हो?

ये कहते हुए उन्होंने एक हाथ से अपनी लम्बी नाइटी को थोड़ा ऊपर खींचा जिससे उनकी नाइटी का छोड़ उनकी घुटनो से थोड़ा ऊपर आ गया. मेरी नज़र उससे हट ही नहीं रही थी.ये देख शोभा अपने टैंगो को देख बोली: बहुत अच्छा लगता है क्या तुम्हे मेरे टांग.ओह सहित उनके आने के कारन क्रीम लगाना ही भूल गयी टैंगो पर. पूरा ड्राई स्किन हो गया.
एक मिनट में आती हूँ.इतना कहते हुए वह झट से उठी और अपने रूम को जाने के लिए खड़ी हो ही रही थी की मैंने पुछा: क्या हुआ आप कहा क्रीम लगाने?शोभा: हाँ क्यों?मैं थोड़ा बच्चो के जैसे मुस्कुराते हुए शरमाते बोला: अगर आप चाहो तो मैं लगा दूँ?शोभा मुस्कुराते हुए बोली: अच्छा तो अब देवर जी को मेरी टाँगो को छूने का भी मन होने लगा.

Nai bhabhi ki chudai ki kahani

मैं शरमाते हुए: सोचा एक हलकी मसाज दे दूँ भाभी जी को. देवर का तो फ़र्ज़ बनता है न भाभी की सेवा करना.शोभा इस पर ज़ोर से है पड़ी और बोली: है है है! तुम बड़े चालू हो अच्छा बहाना बनाया लेकिन. आती हूँ यही बैठो.इतना कह कर आँख मारते हुए वह अपने रूम को गयी और डोर बंद कर दिया. तब सोचा की अगर क्रीम लेने गयी थी तो डोर लॉक नहीं करती पर फिर डोर लॉक हुआ तो सोचा अच्छा खासा मौका गया. फिर में टीवी देखने लगा और एक पांच मिनट हुआ तो भाभी डोर ओपन करके बहार आयी. Devar Bhabhi Ki Chudai ki kahani:

भाभी को देख मेरी जो न हालत अब हुई की क्या बताऊँ. मैं एक ही झटके में उनके ठीक आँखों के सामने ही अपने शार्ट के ऊपर से ही अपने लंड को पकड़ लिया.वह एकदम छोटी सी बच्चो के ड्रेस जैसे एक बेबीडॉल ड्रेस पहन कर मेरे सामने मुस्कुराते हुए खड़ी थी.सफ़ेद रंग पे गुलाबी फूलो की प्रिंटिंग और इतना छोटा की वह बस उनके चूत से थोड़ा नीचे था.
जिससे अब में उनकी पूरी टांग को साफ़ देख पा रहा था. और ऊपर बस कंधे को जाता हुआ दो स्ट्राप था. यकीनन भाभी ने कोई ब्रा नहीं पहना था उसके अंदर. और साथ सोच रहा था की काश नीचे पेंटी भी न हो.इन सबके बीच में भूल ही गया की में अब भी होश खो कर अपने लंड को शार्ट के ऊपर मसल रहा हूँ. मुझे और मेरे हाथ को देख भाभी दूर के पास ही वैसे ही हाथ में एक लोशन का डब्बा लिए हस्स पड़ी और बोली: क्या हुआ ऐसे लग रहा है मानो भूत देख लिया.

मैं होश में आ कर झट से मेरे बगल में रखा सोफे का पिलो उठा कर अपने गोद में रख लिया. और बोला: कुछ नहीं भाभी. भूत नहीं जन्नत ही देख लिया.शोभा हस्ते हुए अपने एक हाथ में रखे लोशन के डब्बे को उछाल कर अपने दूसरे हाथ से कैच करते हुए बोली: है है है! जनत इतनी जल्दी मिल गयी?

सोचा देवर जी की इच्छा मैं पूरी कर दूँ.मैं ये सुन ख़ुशी से पागल हो गया. वह धीरे धीरे चलते हुए मेरे सामने एते हुए लोशन के डब्बे को मेरे तरफ फेकि और बोली: तो बताओ मैं कैसी लग रही हूँ अब.मैं लोशन के डब्बे को कैच करते हुए बोला: बहुत बहुत सेक्सी लग रही हो भाभी सचमे.

शोभा झूठ मूट के गुस्से वाली शकल बनाते हुए पूछी: क्यों इससे पहले नहीं लग रही थी क्या?मैं: नहीं नहीं मतलब इससे पहले तो आप सेक्सी लग रही थी पर अब तो ज़बरदस्त.शोभा: वह क्यों?मैं: अरे आपने जो पहना है वही कमाल कर रही है भाभी.शोभा: जब सोची की तुमसे लोशन लगवा लून तो ख्याल आया की तुम्हारी मेरे टाँगो को निहारने की इच्छा भी पूरी कर दूँ. कैसा लगा मेरा आईडिया. Devar Bhabhi Ki Chudai ki kahani:

भाभी ने देवर से कारवाई चुदाई

मैं पूरी खुशो ज़ाहिर करते हुए बोला: मस्त भाभी मस्त आईडिया. क्या मस्त दिखती हो आप.इतना कहने पर वह पूरी अदाओ के साथ अपने दोनों हाथ अपने सर के पीछे टिका कर खड़ी हो गयी. जिससे उनका छोटा सा ड्रेस थोड़ा और ऊपर को उठ कर ठीक उनके चूत के एकदम करीब धक् कर रह गया. मेरे नज़र नीचे की थी की थोड़ी और उठ जाये काश. और साथ ही ऊपर उनकी चिकनी कांक जिसमे बाल की एक नमो निशान नहीं था उसे देख पागल हो गया.

इसी तरह खड़ी हो कर अपने कमर को हलके से दाए बाए घूमते हुए भाभी ने कहा: इतनी मस्त दिख रही हूँ क्या? पता है अगर तुम्हारे भैया सिर्फ हो घर पे तो में हमेशा ऐसी ही कपडे पहने रहती हूँ. और बहुत बार बिना किसी कपडे के. उन्हें भी में छोटे कपड़ो में और घर में नंगी घूमती हुई बहुत मस्त लगती हूँ.

मैं: तभी तो भैया आपको पांच पांच घंटे तक चोदते है.वह हस्ते हुए अपने हाथो को नीचे डाली और बोली: तुम अब भी वही सोच रहे हो क्या? चलो जल्दी से क्रीम लगाके दो. कहा बैठु मैं?मैं पूरे फ्लिर्टी होकर बोला: आप मेरी गोद में बैठ जाओ भाभी.
शोभा: नाह वहां खतरा है.मैं: कैसा खतरा?शोभा अपने मुँह पर हाथ रख हस्ते हुए बोली: मैं आयी तो दिखा मुझे. अगर कोई डंडा घुस गया तेरे गॉड में बैठने से तो.मैं सर झुका कर शर्मिंदगी के साथ बोला: क्या करू भाभी सब आपका किया धरा है.

शोभा मुँह से हाथ हटाकर बोली: चलो उस बड़े वाले सोफे पे एक कोने पर तुम बैठ जाओ.शोभा ने उधर बैठने को बोल तो दिया पर अब मेरी हालत ऐसी थी की मैं उठु कैसे. शार्ट में तो लंड डंडा बना हुआ है. तो इसी लिए मैं धीरे धीरे उठ रहा था की थोड़ा देर से उठु तो शोभा की नज़र हटे मुझसे. और झट से कूद कर दूसरे सोफे पर बैठ जाऊ.Devar Bhabhi Ki Chudai ki kahani:

इसके आगे क्या होता है यह आप अगले भाग में पढ़ सकते हैं.
Read More Sex Stories..

One Reply to “भाभी से मज़ाक से सुरू फिर चुदाई की 3 Devar Bhabhi Ki Chudai”

  1. Vikky

    भाभी से मज़ाक से सुरू फिर चुदाई की 11 post kb ayega

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *