By | April 12, 2023

Sasur Bahu Sex Story: हैलो दोस्तों मेरा नाम है निकिता घोष और मैं वापस आ गयी हु अपनी अगली कहानी के साथ जो लोग मुझे नहीं जानते वह ये जान ले की मैं आपकी हॉट भाभी हु.

जिसके बारे में सोच कर आप दिल खोल के अपना लंड हिला सकते हैमैं ३४ साल की हु और कोई कमसिन काली नहीं हु बल्कि हर मर्द का लंड जिसको देखके पैंट से बहार आने लगता है।

हमारी वैबसाइट से चुदाई की मस्त कहानिया पढ़ने के लिए यहा क्लिक करे-> www.xstory.in

Sasur Bahu Sex Story Hindi Me

मैं वह औरत हु मेरे गोरे गोरे बडी बड़ी चुचि और मेरी मटकती गांड के सभी दीवाने है मेरे पति घोष बाबू मेरी चुत की गर्मी नहीं निकालते तो मुझे दुसरे मर्दो का सहारा लेना पड़ता है।

जो बिस्तर में मुझे अछि तरह पेल सके अब मैं शुरू करती हु अपनी अगली कहानी, आज मैं घर की सफाई कर रही थी सफाई करते हुए जब मेरे स्वर्गीय ससुर जी की तस्वीर हाथ में आयी तो कुछ पुराणी यादें ताज़ा हो गयी, ऐसी यादें जिनको याद करके आज भी जिस्म में खलबली सी मच जाती है.

वही याद आज मैं आप सबसे सांझा करने जा रही हु। Sasur Bahu Sex Story

Sasur bahu ki chudai

घोष बाबू से मेरी शादी 10 साल पहले हुई थी जब इनसे मेरी शादी हुई तब मुझे इस बात का कोई अंदाज़ा नहीं था की मेरा पति इतना बड़ा नल्ला निकलेगा गरीब घर की थी मैं तो उस वक़्त अच्छा घर मिलना ही मेरे लिए काफी था।

जब मेरी शादी हुई तो मैं 24  साल की थी जवानी के रस से भरा हुआ था मेरा जिस्म 36 की मेरी गांड 34 की ब्रैस्ट और 28 की कमर उसपे से गोरा दूध जैसा रंग जो किसी की भी नीयत खराब कर दे,

 शादी के कुछ ही दिनों में मुझे पता चल गया था की मेरा पति किसी औरत को अच्छे से नहीं चोद सकता है तो वह मुझपे चढ़ता ज़रूर था लेकिन जैसे ही मेरी चुत आग पकड़ती थी उसका लंड ठंडा पड़ जाता था सिर्फ दिल का अच्छा होना काफी नहीं होता तगड़ा लंड भी चाहिए होता है औरत को मजबूरन मुझे अपने आप को सटिस्फी करने के लिए अपनी उंगलियों का सहारा लेना पड़ता था।

घोष बाबू के फादर यानी की मेरे ससुर बड़े अच्छे आदमी थे घोष बाबू की माँ तो बहुत पहले से गुज़र चुकी थी और उनके फादर ने ही उनको पाला पोसा था।

मैं अपने ससुर की बहुत इज़्ज़त करती थी लेकिन मुझे क्या पता था की मेरा ससुर ही मुझे अपने बिस्तर की रौनक बना लेगा, शादी के काफी दिनों तक भी घोष बाबू मेरी गर्मी नहीं निकाल पाए तब अपनी जलती हुई चुत को ठंडा करने के लिए मैंने अपने हाथो से काम लेना शुरू कर दिया।

जब मेरी चुत में इतनी आग थी की मैं दिन रात बाथरूम में जा-जा कर पानी निकालती थी लेकिन मेरी आग ठंडी नहीं होती थी, एक दिन ऐसे ही मैं बाथरूम में गयी और मैंने अपनी प्यास मिटाने के लिए अपनी चुत को सहलाना शुरू कर दिया मैं बेफिक्र होके पूरी मगन हुई पड़ी थी चुत सहलाने में मुझे आस पास कोई है के नहीं इस बात का अंदाज़ा नहीं था।

जब मेरा पानी निकला तो मेरा ध्यान बाथरूम के दरवाज़े की तरफ गया, मुझे लगा की बहार कोई खड़ा है मैंने जल्दी से अपनी चुत साफ़ की और बहार आयी लेकिन तब तक वहा पे कोई नहीं था। Sasur Bahu Sex Story

उस रात घोष बाबू काफी रोमांटिक हो रहे थे तो मुझे लगा बाथरूम के बहार वही होंगे, उस दिन के बाद जब भी मैं बाथरूम में जाती मुझे हमेशा यही लगता की कोई बहार खड़ा है लेकिन कभी पता नहीं चलता की कौन था एक दिन मैं किचन में काम कर रही थी घोष बाबू काम पे जा चुके थे और ससुर जी सो रहे थे।

Sasur bahu ki chudai ki kahani

वहा पे कुछ गाजर पड़ी थी लम्बी और मोती गाजर देख के मेरा मन मचलने लगा मैंने नाईट सूट पहना हुआ था मैंने एक गाजर उठाई और उसको चूसना शुरू कर दिया।

मुझे बहुत मज़ा आने लगा मुझे उस गाजर से लंड वाली फीलिंग आने लग गयी, फिर मैंने उस गाजर को अपनी टी-शर्ट में डाल के अपने बूब्स पे रगड़ना शुरू किया।

मेरा जिस्म गर्मी पकड़ रहा था मुझे ऐसा लग रहा था की वह गाजर मेरे लंड की प्यास बुझा देगी मैंने अपना पैजामा नीचे किया और गाजर को चुत पे रगड़ना शुरू किया मुझे ज़बरदस्त मज़ा आया, मुझसे रहा नहीं गया और मैंने अपनी पंतय नीचे करके गाजर अपनी चुत में लेनी शुरू कर दी।

मेरी तरसती हुई चुत को बहुत ज़्यादा सुकून मिल रहा था मैं इतनी गरम हुई पड़ी थी की 10-12  बार गाजर अंदर बहार करने पे ही मेरा बहुत सारा पानी निकल आया और पूरी गाजर भीग गयी।

पानी के कुछ छींटे ज़मीन पे भी गिर गयी पानी निकलते ही मैंने गाजर डस्टबिन में फेंकी और अपनी पंतय और पैजामा ऊपर कर लिया लेकिन जैसे ही मैं किचन से बहार आयी तो मेरे ससुर सामने खड़े थे। Sasur Bahu Sex Story

उनको देखते ही मेरे हाथ पेअर ठन्डे पड़ गए मैं बहुत शर्मसार महसूस कर रही थी मैं उनसे आँखें भी नहीं मिला पायी वह चुप चाप अपने कमरे में चले गए और मैं अपने कमरे में चली गयी काफी देर सोचने के बाद मैंने उनसे माफ़ी मांगने का फैसला किया फिर कैसे न कैसे हिम्मत करके मैं उनके रूम की तरफ चल पड़ी, उनके रूम का दरवाज़ा थोड़ा खुला हुआ था .

मैंने दरवाज़ा नॉक करने से पहले अंदर झाँक के देखा की कही वह सो तो नहीं रहे जैसे ही मैंने अंदर नज़र मारी मेरी आँखें खुली रह गयी मेरा ससुर बेड पे बैठा अपना लंड हिला रहा था और लंड भी ऐसा वैसा नहीं 6 इंच का मोटा लंड जितने ज़ोर से वह लंड हिला रहे थे उससे लंड की मज़बूती का पता चलता था।

Sasur bahu ki chudai kahani

लंड हिलाते हुए वह मेरा नाम लिए जा रहे थे पहले तो मुझे बहुत शर्म और गुस्सा आया उनपे इस उम्र में ऐसा कर रहे है और वह भी अपनी बहु के बारे में सोच के लेकिन फिर जब मैंने शान्ति से सोचा मुझे महसूस हुआ की जैसे मेरी सेक्स की ज़रुरत पूरी नहीं होती हस्बैंड के होते हुए भी वैसे ही उनकी भी ज़रूरते होंगी और उनकी तो वाइफ भी नहीं है ये सोचके मुझे उनपे तरस आने लगा।

मैं चुप चाप वहा से चली गयी मैं ये भी समझ गयी की जब भी मैं चुत सहलाती थी बाथरूम में तो ससुर जी ही बहार खड़े होते थे सारा दिन मेरे दिमाग में ससुर जी के ही ख्याल आते रहे उनके मुँह से लंड हिलाते हुए जो मेरा नाम निकल रहा था।

वह चीज़ मेरे दिमाग में बैठ गयी थी जैसे तैसे मैंने फिर से माफ़ी मांगने की हिम्मत इकठी की और मैं ससुर जी के रूम में गयी मैंने टाइट पजामा और टी-शर्ट पहनी हुई थी मैंने दरवाज़ा खटखटाया और अंदर चली गयी ससुर जी सोफे पे बैठे टीवी देख रहे थे।

मैंने उनसे कहा की मुझे उनसे कुछ बात करनी है उन्होंने टीवी बंद कर दिया और मेरी तरफ देखने लगे मैंने उनसे कहा की मैं आज की हरकत के लिए माफ़ी मांगना चाहती हु उन्होंने कहा की माफ़ी की कोई बात नहीं है बस थोड़ा ध्यान रखो आगे से, मैंने थैंक यू बोला और वापस आने लगी ससुर जी ने मुझे पीछे से आवाज़ लगाई और पुछा 

ससुर: “मेरे बेटे और तुम्हारे बीच सब कुछ ठीक है न?” 

मैं अपने दुःख को रोक न पायी और मेरी आँखों में आंसू आ गए उन्होंने मुझे अपने पास बिठाया और रोने का कारण पुछा।

मैं: मैंने उनको सब बता दिया उन्होंने मुझे होंसला देते हुए कहा की सब ठीक हो जायेगा मैंने उनको हुग कर लिया उन्होंने मुझे एक बच्चे की तरह होंसला दिया मैं काफी देर तक उनसे लिपटी रही अचानक मुझे उनके लंड हिलाने वाला सीन याद आ गया और मेरे दिमाग में गंदे ख्याल आने लगे। Sasur Bahu Sex Story

Sasur bahu ki chudai story

उनके आग़ोश की गर्मी मे पहले से ही महसूस कर रही थी मेरा ध्यान उनके लंड की तरफ गया और मेरे मुँह में पानी आने लगा।

मेरी नीयत खराब हो रही थी और मैं उनसे चुदना चाहती थी मैंने अपने बूब्स उनकी छाती के साथ टच करने शुरू कर दिए और उनकी गर्दन पे अपने लिप्स टच करने शुरू किये ये करते हुए मुझे उनका लंड खड़ा होता दिखा औरत चाहे तो कुछ भी कर सकती है।

मैं अपना हाथ उनके लंड पे ले गयी जैसे ही मैंने उनका लंड टच किया वह और बड़ा हो गया ससुर जी ने मुझे अपने से दूर किया और मुझे हैरानी से देखने लगे उन्होंने मुझे कहा।

ससुर:  “ये क्या कर रही हो तुम?”इस्पे मैंने जवाब दिया।

मैं:  “जो आप मेरे बारे में सोचते है वही कर रही हु” ये सुनके वह हैरान हो गए मैं फिर से आगे बढ़ी और मैंने अपना हाथ उनके लंड पे रख लिया इस बार वह सिर्फ मुझे देखते रहे और कुछ नहीं बोले मैंने लंड हिलना शुरू किया और उनके और पास चली गयी।

मैंने उनको एक सेक्सी स्माइल दी और उन्होंने भी मुझे स्माइल दी मैंने उनका एक हाथ पकड़ के अपने बूब्स पे रख दिया ताकि उनकी झिझक निकल जाये जैसे ही उन्होंने मेरे बूब्स दबाया मेरी आह निकल गयी।

वह आगे आये और उन्होंने मेरे गालो पे किश करना शुरू कर दिया उनका टच मुझे गरम कर रहा था।

अब हम दोनों एक दुसरे के साथ कम्फर्टेबले हो चुके थे मैंने अपना हाथ उनके पैजामे में डाला और उनका लंड बहार निकाल के हिलाने लगी।

ससुर जी अपना हाथ मेरे पीठ पे फेरते हुए मेरी गांड पे ले गए और गांड को दबाने लगे अब उन्होंने मेरे लिप्स चूसने शुर कर दिए। Sasur Bahu Sex Story

उन्होंने मेरा फेस अपने लंड की तरफ किया मैं समझ गयी की वह लंड चुसवाना चाहते है उन्होंने अपना पैजामा उतार दिया और पूरा लंड मेरे मुँह में डालने लगे वह बड़े प्यार से लंड चूसते हुए मेरे बाल ठीक कर रहे थे।

थोड़ी देर लंड चुसवाने के बाद उन्होंने मेरे लिप्स चूसे और मेरी टी-शर्ट उतार दी अब मैं उनके सामने ब्रा और पजामा में थी उन्होंने मेरी ब्रा भी निकाल दी फिर  मेरे बूब्स चूसने शुरू किये।

Sasur bahu ki chudai hindi

उनके लिप्स मेरे निप्पल्स को खींच-खींच के चूस रहे थे और मुझे बड़ा सुकून मिल रहा था।

मैं उनका लंड साथ साथ हिला रही थी उन्होंने ने भी अपना एक हाथ मेरी टांगो के बीच डाल लिया और मेरी चुत दबाने लगे मैं इतनी गरम हो चुकी थी की मेरा पानी निकलने वाला हो गया था।

लेकिन मैं लंड पे चढ़के पानी निकालना चाहती थी मैं सोफे से खड़ी हुई और मैंने अपना पजामा उतार दिया और पंतय भी उतार दी ससुर जी ने मुझे अपनी तरफ खींचा और मेरी चुत पे किश करने लगे उन्होंने अभी चुत चाटना शुरू ही किया था की मेरे पानी की पिचकारी उनके फेस पे चल गयी ससुर जी ने वह पानी निगल लिया और खड़े हो गए।

वह मुझे बेड पे ले गए और लिटा दिया फिर उन्होंने मेरी टाँगे खोली और मेरी जांघों पे हाथ फेरते हुए मेरी चुत में ऊँगली डाल के घुमाने लगे वह मेरे ऊपर आये मेरी टाँगे और ऊपर की और अपना लंड मेरी चुत में डाल दिया 

मैं: अब  मेरी चीख निकल गयी, उनका लंड काफी मोटा था जैसे ही उन्होंने लंड अंदर बहार करना शुरू किया मुझे काफी दर्द हुआ लेकिन मज़ा भी आ रहा था धीरे धीरे दर्द कम हुआ और मज़ा ज़्यादा आने लगा हम दोनों ने पूरी आग पकड़ी हुई थी वह मुझे चोदते रहे और मैं चुद रही थी।Sasur Bahu Sex Story

मैंने अपनी टाँगे उनकी कमर पे लपेट ली और वह मेरे निप्पल्स पे काटने लगे बड़ी मुश्किल से मुझे एक मर्द मिला था और मैं अपनी सारी ख्वाहिशे पूरी करना चाहती थी।

 थोड़ी देर में ससुर जी का पानी निकल गया और वह मेरे ऊपर से हैट गए मेरी भी कुछ आग शांत हो गयी लेकिन अभी बहुत कुछ करना बाकी था ससुर जी का भी पानी तो निकल गया था।

लेकिन मन  उनका भी नहीं भरा था, 10  मिनट हम साथ में लेटे रहे उसके बाद मैं कपडे पहनने के लिए बेड से खड़ी हुई ससुर जी ने मुझे पीछे से पकड़ लिया और मेरे बूब्स दबाने लगे।

मुझे अपनी गांड पे उनका लंड फील हुआ जब मैंने पीछे देखा तो उनका लंड फिर से खड़ा था मैं उनका खड़ा हुआ लंड देखके खुश हो गयी वह अपना लंड मेरी गांड पे रगड़ते रहे और आगे से मेरे निप्पल्स मसलते रहे।

अब मैं पूरे मज़े में थी उन्होंने मुझे अपनी तरफ घुअमाया और बूब्स चूसने लगे और गर्दन और लिप्स पे किश करने लगे।

मैंने उनका लंड फिर से हिलना शुरू कर दिया उन्होंने मुझे फिर से घुमाया और नीचे झुका दिया मैं बेड का सहारा लेकर घोड़ी बन गयी उन्होंने अपना लंड मेरी गांड पे रखा और अंदर डालने की कोशिश की, मेरी गांड बहुत टाइट थी और उनका मोटा लंड मैं नहीं ले सकती थी जैसे ही उन्होंने ज़ोर लगाया मेरी चीखे निकल गयी मैंने उनको गांड न मारने को बोला उन्होंने कहा,

Sasur bahu ki chudai ki kahaniyan

मैं: ससुर जी आज  गांड नहीं मारो लेकिन कल ज़रूर मारेंगे उन्होंने लंड मेरी चुत में डाल दिए और फिर से चुत चोदनी शुरू की, इस बार उनका लंड मेरी चुत में पहले से ज़्यादा चोट कर रहा था।

मेरी चुत से पानी निकले जा रहा था और टांगो तक पहुंच चूका था उन्होंने अपनी स्पीड बढ़ायी और मेरे बूब्स मसलने शुरू कर दिए मैं दर्द और प्लेअसुरे की चरम सीमा पे पहुंच चुकी थी, मेरी चुत लाल हो चुकी थी कुछ देर चुदाई के बाद उन्होंने अपना पानी मेरी चुत में ही निकाल दिया। Sasur Bahu Sex Story

चुदाई करने के बाद मैंने अपने कपडे पहने और उनके रूम से बहार आ गयी उन्होंने मुझे कहा की अगले दिन वह मेरी गांड चोदेगे तो मैं त्यार राहु, 

मैंने घोष बाबू के आने से पहले नाहा ली  मेरी चुत में से तब भी थोड़ा थोड़ा पानी निकल रहा था रात को सोते हुए भी मेरा मन  कर रहा था की कोई मेरे ऊपर चोदे लेकिन उस वक़्त ये पॉसिबल नहीं था।

सुबह जब घोष बाबू चले गए तो मैं फिर से ससुर जी के रूम में चली गयी, मेरी चुत सूजी हुई थी और टाँगे अकड़ी हुई थी फिर भी मेरा चुदाई करवाने का मन  था ससुर जी ने मुझे बेड पे लिटाया और मेरे और अपने सारे कपडे उतार दिए 

वह मेरे बगल में आके लेट गए और हम दोनों के जिस्म एक दुसरे की गर्मी महसूस करने लगे, उन्होंने मेरे सारे बदन पे किश किये और मुझे उल्टा लिटा दिया उन्होंने मेरे पेट के नीचे दो तकिये रखे ताकि मेरी गांड ऊपर हो जाये उन्होंने मेरी गांड पे किश किये और मेरी गांड के छेद को जीभ से गीला किया साइड टेबल पे एक क्रीम की डिब्बी पड़ी थी।

ससुर जी ने वह डिब्बी खोली और उसमे से क्रीम लेके मेरी गांड से छेद पे अच्छे से लगाई फिर उन्होंने पहले एक और फिर दो उंगलिया अंदर डाली क्रीम की वजह से अब उंगलिया आसानी से गांड में जा रही थी। Sasur Bahu Sex Story

Hindi mai sasur bahu ki chudai

फिर उन्होंने अपने लंड पे भी क्रीम लगाई और मेरी गांड पे सेट किया, उन्होंने अपना वेट मुझपे डाला ताकि मैं हिल न पाव फिर उन्होंने धीरे से लंड का ऊपरी  पार्ट अंदर डाला मुझे दर्द होना शुरू हो गया उन्होंने मुझे शोल्डर्स से ज़ोर से पकड़ लिया और एक झटके में पूरा लंड मेरी गांड में घुसा दिया।

मैं तिलमिला गयी दर्द से उन्होंने लंड अंदर घुसा के पूरा वेट मेरे ऊपर डाल दिया ताकि मैं हिल न स्कू मैं दर्द से तड़प रही थी 1-2  मिनट लंड अंदर रखने के बाद उन्होंने लंड बहार निकला मुझे एक अजीब सा सुकून मिला दर्द होने के बावजूद मैं फिर से उनका लंड अपनी गांड में लेना चाहती थी।

उन्होंने मुझे घोड़ी बनाया और मेरी गांड मारनी शुरू की उन्होंने मेरे बूब्स पे अपनी पकड़ बनाई हुई थी अब मुझे बहुत मज़ा आ रहा था उन्होंने मेरे बालो को घोड़ी की लगाम की तरह पकड़ रखा था और वह शिकारी की तरह मेरी गांड पे सवार थे।

थोड़ी देर गांड मारने के बाद उन्होंने मुझे सीधा किया और मेरी टाँगे उठा के लंड मेरी चुत में डाल दिया मेरी चुत पहले से सूजी हुई थी लेकिन मैं फिर से पानी पानी हो जाना चाहती थी। Sasur Bahu Sex Story

Sasur bahu ki chudai ki story

वह मेरी चुत चोदते रहे और मैं चुदती रही उन्होंने मेरे निप्पल्स चूस चूस के लाल कर दिए और मेरी गर्दन और छाती पे उनके काटने के निशाँ थे ससुर जी में ज़बरदस्त मर्दानगी थी।

उस दिन के बाद से रोज़ हम एक दुसरे की ज़रुरत को पूरा करने लगे 22 साल तक मेरे ससुर ने मेरे जिस्म का पूरा आनंद लिया और मुझे पूरा आनंद दिया।

हम दोनों में पति पत्नी की तरह सम्बन्ध बन चूका थे 2 साल बाद उनकी एक एक्सीडेंट में मौत हो गयी और मेरी चुत का दीवाना मुझे छोड़ के चला गया जाने से पहले उन्होंने मुझमे लंड की ऐसी प्यास जगा दी की आज तक मैं अलग अलग लंड पे चढ़के अपनी प्यास बुझा रही हु।

आप भी मेरा पानी निकलने में मेरी मदद कर सकते है 📲मुझे कॉल करके तो कमेंट मे अपना नंबर भेजो फिर मेरे साथ मज़ा करने के लिए मैं आपको कॉल ज़रूर करुगी।

Read More Sex Stories…

5 Replies to “पति बाहर ससुर का मोटा लंड बहू के अंदर Sasur Bahu Sex Story”

  1. Pingback: मम्मी को पटा के चोदा Bhai ne Mom ki chudai ki

  2. Naushad

    Bahut sexy kahani thi mere lund me aag lag gai AAP ye aag bujhao

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *