By | March 11, 2023

jija sali ki chudai: सभी लंड वाले मर्दों के मोटे लंड पर किस करते हुए और सभी खूबसूरत जवान चूत वाली रानियों की चूत को चाटते हुए सभी का मैं स्वागत करती हूँ। अपनी कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम के माध्यम से आप सभी मित्रो तक भेज रही हूँ। ये मेरी पहली स्टोरी है। इसे पढकर आप लोगो को मजा जरुर आएगा, ये गांरटी से कहूंगी।

ये भी पढे-> नयी कहानी — होली वाले दिन माँ और आंटी ने लिया बेटे का मोटा लंड 

Jija Sali Ki Chudai

मेरा नाम नीना पांडे है। मैं देवरिया जिले की रहने वाली हूँ। मैं खूबसूरत और सुंदर युवती हूँ इस वजह से अक्सर ही मर्द मेरे दीवाने बन जाते है। मेरे यौवन का शिकार मेरे जीजा जी भी हो गये। बात 6 महीने पहले की है। मेरी दीदी के बच्चा हुआ था। उनके घर पर कोई काम करने वाला नही था इसलिए मुझे दीदी ने बुलाया था। +

मुझे नही पता था की आगे चलकर क्या हो जाएगा। मैं अपने ही जीजा से चुद जाउंगी। मैं दीदी के घर चली गयी। मेरे जीजा बहुत ही अच्छे और मजाकिया इंसान है। वो शुरू से मुझे लाइक करते थे पर कभी मेरे नजदीक आने का वक़्त नही मिला था। पर अब तो टाइम ही टाइम था। मैं अपने बैग पैक की और जीजा के घर चली गयी। मुझे देखकर वो बहुत जादा ही खुश हो रहे है।

“कैसी हो नीना?? ट्रेन में जादा दिक्कत तो नही हूँ??” वो पूछने लगी

“थोड़ी हुई थी। पर कोई नही” मैं बोली

“यहाँ आने के लिए बहुत थैंक्स!!” जीजा बोले

“योर वेलकम!!” मैंने कहा jija sali ki chudai:

Sali ki chudai story

वो मुझे ध्यान से देखने लगे। मैंने डार्क पिंक कलर सलवार कमीज पहन रखा था। मैं सुंदर सेक्सी लड़की दिख रही थी। आपको अपने फिगर के बारे में बताना चाहूंगी। मेरा जिस्म काफी सेक्सी है। 36 30 36 का फिगर है मेरा। मेरे बड़े बड़े दूध अब जवानी के रस से भर चुके है। मेरे बूब्स देखकर ही सभी मर्दों के लंड मचल जाते है। मेरा चेहरा भी काफी मनमोहक है। मेरी बड़ी बड़ी आँखे सभी मर्दों को अपनी तरफ बाँध लेती है। जीजा भी मेरे आकर्षण से बच नही सके।

कामुक चुदासी नजरो से मुझे देखने लगे। मैं अपना बैग लेकर अपने रूम में चली गयी। फिर बाथरूम में जाकर नहाने लगी। कुछ दिनों बाद मेरी दीदी के पेट दर्द शुरू हो गया। उनको अस्पताल में भर्ती करना पड़ा। अब उनके बच्चा होने वाला था। 3 दिन बाद मेरी दीदी के लड़की हो गयी। सब लोग बहुत खुश थे। पर डॉक्टर्स ने 1 हफ्ते होस्पिटल में ही रहने को बोला। अब रोज ही मेरी जीजा से मुलाकात होने लगी और वो मुझे पटाने लगे। एक दिन घर पर अकेले में उन्होंने मुझे पकड़ लिया और गाल पर किस करने लगे।

“नीना!! तुम्हारी जैसी खूबसूरत मल्लिका मैंने आज तक नही देखी। मुझे तुमसे बहुत मुहब्बत हो गयी है। अगर तुमने मेरे प्यार का कबूल न किया तो जहर खाकर जान दे दूंगा” वो कहने लगे

“पर मैं तो आपकी साली हूँ जीजा जी??” मैंने कहा

“साली तो आधी घर वाली होती है” वो कहने लगे

मैं सोचने लगी की कहीं सच में उन्होंने जहर खा लिया तो मेरी दीदी राड़ हो जाएगी। इसलिए मुझे उनके प्यार को कबूल करना पड़ा। वो मुझे बाहों में लेकर किस करने लगे। इस तरह से रोज ही होने लगा। मेरी दीदी होस्पिटल में थी इसलिए घर में हमे रोकने वाला कोई नही था। मेरी दीदी की सास और ससुर काफी बुड्ढे थे। वो अपने कमरे में ही रहते थे। धीरे धीरे जीजा की हिम्मत बढ़ने लगी। जब देखो मेरी कमरे में चले आते और मुझे सीने से लगा लेते।

“जीजा जी!! कही ये सब गलत तो नही है??” मैंने कहा

“नही!! हर साली अपने जीजा से इश्क लड़ाती है। हर साली का अधिकार है उसके जीजा पर” वो कहने लगे

मैं एक दिन काले रंग की मैक्सी पहनी थी। फ्रेंड्स, आप लोग तो जानते ही होंगे की काली मैक्सी में कोई लड़की कितनी सेक्सी माल लगती है। जीजा ने मुझे कसके पकड़ के सीने से चिपका लिया और बेतहाशा गालो पर चूमने लगे।

“ऐसा मत करिये!!” मैंने कहा jija sali ki chudai:

Jija aur sali ki chudai

“नीना !! काली मैक्सी में तुम बहुत गजब की लगती हो!! आज मुझे अपनी जवानी की शराब पिला दो” जीजा बोले। फिर मुझे बाहों में कसके भींच लिया। गालो पर खूब किस किया। फिर मैं भी अपनी तरफ से गरमा गयी। मेरे 36” की बड़े बड़े बूब्स पर मैक्सी के उपर से हाथ लगाने लगे और दबाने लगे। मुझे नशा सा होने लगा।

फिर मेरे होट पर होट रखकर खूब किस किया। सारा रस चूस डाला। मैंने कॉपर ब्राउन कलर की लिपस्टिक लगा रखी थी जिसे वो चूस चूसकर छुड़ा दिए। वो सेक्सी महसूस करने लगे। खड़े खड़े मुझसे प्यार करने लगे। मेरे दोनों बूब्स को खूब हाथ लगाकर मसल दिया। फिर मेरी कमर में हाथ डालकर सहलाने लगे। मेरी गांड पर मैक्सी के उपर से हाथ लगाने लगे। मैं कामुक होकर “ओह्ह माँ….ओह्ह माँ…उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ….” करने लगी।

उन्होंने मुझे किस करना जारी रखा और मुझे सीने से चिपकाकर मेरे दोनों चूतड़ को हाथ से खूब दबाया। आपको बता दूँ की मेरी गांड बहुत ही सॉफ्ट और मुलायम है। कितने मर्द मेरी गांड को हाथ से दबाना चाहते थे। पर आज ये गोल्डन चांस मेरे जीजा को मिला।

“आज मुझसे कोई पर्दा मत करो। मुझसे खुलकर प्यार करो” जीजा कहने लगे

“कहीं मैं पेट से न हो जाऊं??” मैंने कहा

“डरो मत तुमको कंडोम लगाकर चोदूंगा” जीजा बोले

मैं भी उनको पागलो की तरह किस करने लगी। हम दोनों खड़े होकर किस कर रहे थे। हालात इतने गर्म हो गये की मुझे आनन फानन में अपनी मैक्सी उतारनी पड़ी। अब मैं जीजा के सामने ब्रा और पेंटी में खड़ी थी। उन्होंने भी अपनी शर्ट पेंट आनन फानन में उतार दी। वो भी बहुत बेताब दिख रहे थे। अब वो बनियान और कच्छे में मेरे सामने खड़े खड़े थे। मुझे फिर से चिपका लिया और बार बार होटो को चूसने लगे। मेरे गाल और गले पर उन्होंने काटना शुरू कर दिया। मैं भी चुदासी लड़की बन गयी थी।

“ब्रा को भी उतार दो नीना!!” जीजा का अगला आदेश था

शर्म की भयंकर अवस्था को पार करते हुए मैंने अपने हाथ पीछे किये और ब्रा का हुक खोल दिया। ब्रा निकाल दी। जीजा तो देखकर बिलकुल पागल हो गये थे। मेरी चूचियां 36” की बड़ी बड़ी और काफी शानदार थी जिसे देककर कोई भी आदमी पागल हो जाए। अब जीजा ने मुझे कसके पकड़ा और हल्का सा पीछे झुका दिया। खड़े खड़े मेरे दूध को दबाने लगे और किस करने लगे। मैं सेक्सी होकर “ओहह्ह्ह….अह्हह्हह…अई..अई. .अई… उ उ उ उ उ…” करने लगी। jija sali ki chudai:

Jija sali ki chudai hindi mein

फिर जीजा मेरे रसीले स्तनों को मुंह में लेकर चूसने लगे। खड़े खड़े मैं उनको स्तनपान कराने लगी। मेरी दोनों चूची को खूब पीया उन्होंने। मेरी चूत बहने लग गयी क्यूंकि जीजा आज मेरी जवानी की शराब पी रहे थे। मेरी दोनों चूची को उन्होंने दबा दबाकर खूब पीया। फिर मेरे पेट पर हाथ लगा लगाकर खूब किस किया। जीजा जी अब नीचे जमीन पर बैठ गये। मेरी नाभि ठीक उनके मुंह के सामने थे। फ्रेंड्स मेरी नाभि भी बहुत सेक्सी थी। काफी गहरी थी।

जीजा जी मुंह लगाकर जीभ डालकर मेरी नाभि को चूसने लगे। मैं रासलीला करने लगी। “आआआअह्हह्हह…..ईईईईईईई….ओह्ह्ह्….अई. .अई..अई…..अई..मम्मी….” बोलकर मैं पागल होने लगी। जीजा कुछ देर मेरी चूत को निहारते रहे। मेरी चूत अच्छी तरह से साफ सुथरी थी। बाल सफा थी। काफी सेक्सी और सुंदर दिख रही थी।

“नीना अब एक अच्छी साली की तरह मुझे अपनी चूत पिलाओ!! कोई नौटंकी मत करना” जीजा बोले

उसके बाद खड़े खड़े ही मेरी चूत पर मुंह लगाकर चाटने लगे। बहुत कस कसके पीने लगे। मुझे लगा की जल्द की झड़ जाउंगी। जीजा भी बहुत खिलाडी आदमी थे। उनको चूत का शिकार करना आता था। वो मेरी चूत में जीभ घुसा घुसाकर चाटने लगे की मैं तो कांपी जा रही थी। मेरी गुलाबी चूत को पी पीकर उन्होंने मुझे स्वर्ग दिखा दिया। मैं बुरी तरह से कांपने लगी। फिर मुझे बेड पर लिटा दिया। मेरे दोनों पैर खुलवाकर मेरी चूत चाटने लगे।

मेरी चूत का दाना काफी बड़ा था और उपर को उठा हुआ था। जीजा मुंह लगाकर दाने को चूसने लगे। मेरी चूत के दोनों लबो को इतना चूस डाला की मेरी चूत से तेल निकलने लगा। “……मम्मी…मम्मी…..सी सी सी सी.. हा हा हा …..ऊऊऊ ….ऊँ. .ऊँ…ऊँ…उनहूँ उनहूँ…..” बोलकर मैं अपनी कमर उठाने लगी। जीजा ने मेरी कमर को कसके पकड़ा और मुझे भागने नही दिया। मेरी कामुक चूत को उन्होंने 30 मिनट पीया। और अंत में मैं हार गयी। मेरी चूत ने अपना कीमती पानी गिरा दिया। 3 मिनट तक मेरी बुर से पानी का झरना ही निकलता रहा। काफी उचाई तक वो फव्वरा उठ रहा था।

“जीजा जी!! किस स्टाइल में मुझे आप चोदेंगे???” मैंने धीरे से कहा jija sali ki chudai:

Sali ki chudai ki kahani

“प्योर मिशनरी स्टाइल में” वो बोले

मैंने धीरे से सिर हिलाकर अपनी इजाजत दे दी। जीजा ने अपनी बनियान और कच्छा उतार डाला। हाथ में लंड लेकर फेटने लगे। जीजा का लंड 6” लम्बा था और काफी मोटा भी था। हाथ से जल्दी जल्दी मुठ देकर खड़ा किया। जब सख्त रॉड जैसा हो गया था उन्होंने अपनी पेंट की जेब से कंडोम का पाउच निकाला।

उसे फाड़ा और लंड पर कंडोम चढ़ा लिया और सीधा मेरी चूत में डाल दिया। जल्दी जल्दी वो मुझे चोदने लगे। मैं अपने पैर खोल दिए जिससे लंड चूत में अच्छे से समा सके। कुछ ही देर में जीजा का लंड मेरी बुर में अद्रश्य हो गया। वो फटाफट चोदने लगे। उनके धक्को से मुझे बहुत मीठा मीठा अनुभव मिल रहा था।

मेरी दीदी अस्पताल में थी और मैं इधर जीजा से साथ रंगरलिया मना रही थी। जीजा जल्दी जल्दी मेरी चूत का चौराहा बनाने लगे और खूब चोदा मुझे। फिर लंड निकालकर मेरी चूत चाटने लगे। वो जरा भी जल्दबाजी में नही थे। बड़े आराम से मेरे साथ चुदाई का आनन्द ले रहे थे।

“आओ चूसो इसे नीना!!” वो अपने लंड की तरफ इशारा करके बोले jija sali ki chudai:

Sali ki chudai story

वो बेड पर बैठ गये। मैं लंड को फेटने लगी। मुठ दे देकर लंड को अच्छे से खड़ा करने लगी। फिर चूसने वाला कार्यक्रम शुरू कर दी। जीजा जी “हूँउउउ हूँउउउ हूँउउउ ….ऊँ..ऊँ…ऊँ सी सी सी… हा हा.. ओ हो हो….” करने लगे। मुझे ऐसा चस्का लग गया की मैं भी आज उनकी दूसरी बीबी जैसी बन गयी और खूब चूसी लंड को जैसे कोई क्रीमरोल चूसता है। मैं उनकी दोनों गोलियों को दबा दबाकर मजा लेने लगी। उसे भी चूस डाला।

“चलो नीना!! डोगी स्टाइल में आ जाओ” जीजा जी का अगला हुक्म था

मैं घोड़ी बन गयी अपने घुटनों पर। जीजा जी मेरी गांड को मसलने लगे। हाथ लगा लगाकर मेरी गांड को दबाने लगे। फ्रेंड्स मेरी गांड हलुआ जैसी मीठी थी। मेरे चूतड़ बहुत सेक्सी और सॉफ्ट थे। जीजा जी दबा दबाकर मजा लेने लगे। फिर पीछे से मेरी सेक्सी चूत पर मुंह लगाकर जल्दी जल्दी चूसने लगे। मैं स्खलित हुई जा रही थी। जीजा ने मेरी चूत को फिर से गर्म करना शुरू कर दिया। पीछे से उसमे ऊँगली करने लगे। जोर जोर से ऊँगली करके अंदर का माल निकाल रहे थे। मुंह में लेकर चूस चाट रहे थे। मेरी चूत का सब रस पी लिया जीजा जी ने।

“क्या आप मेरी गांड मरेंगे???” मैंने पूछा

“हां नीना!!” जीजा बोले

फिर मेरी गांड को जल्दी जल्दी जीभ लगाकर चाटने लगे। उसपर तेल लगाकर चिकना बना दिया और खूब चाटा उन्होंने। जैसे वो मेरी चूत को पी रहे थे उसी तरह से गांड का छेद पीने लगे। मैं कामुक होकर “उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ… सी सी सी सी….. ऊँ…ऊँ…ऊँ….” करने लगी। मैं अच्छी बच्ची की तरह घोड़ी बनी हुई थी। jija sali ki chudai:

Sali ki chudai hindi mein

अपने दोनों हाथो पर झुकी हुई थी। मेरे दोनों चूतड़ बड़े बड़े 36” के सफ़ेद खरबूज जैसे थे। जीजा जी उसे भी किस करना नही भूलते थे। मेरे मस्त मस्त लपालप करते चूतडो पर उन्होंने कई बार दांत से काट लिया। फिर गांड के कसे छेद में ऊँगली डालकर अंदर बाहर करने लगे।

“नीना!! अपने आपको रिलैक्स करो और गांड को ढीला छोड़ दो तो कम दर्द होगा” जीजा जी कहने लगे

मैंने ऐसा ही किया। अपने आपको तनावमुक्त किया। इससे ये फायदा हुआ की मेरी गांड में जीजा की ऊँगली बड़े आराम से अंदर बाहर होने लगी। जीजा जीभ लगाकर चाट भी रहे थे और ऊँगली भी कर रहे थे। ऐसी कामुक भरी अवस्था में मेरी चूत का रस बहने लगा। मैं खुद अपनी चूत में ऊँगली करने लगी। जीजा ने 15 मिनट मेरी गांड में ऊँगली करके ढीला किया। ऐसा करने से मेरी गांड काफी ढीली हो गयी थी। फिर एक मोटी मोमबत्ती में ढेर सारा तेल लगाकर मेरी गांड के कड़े छिद्र में डाल दिया और अंदर बाहर करने लगे।

“….उंह उंह उंह हूँ.. हूँ… हूँ..हमममम अहह्ह्ह्हह—दर्द हो रहा है जीजा जी!! अई…अई…अई…..”मैं घोड़ी बने बने बोली

“अभी तेरा दर्द खत्म हो जाएगा” वो कहने लगे

उन्होंने जल्दी जल्दी 6” की मोमबत्ती में मेरी गांड में घुसा दिया। 15 मिनट अंदर बाहर करते रहे। उससे ही उन्होंने मेरी गांड ढीली कर दी। फिर लंड पर काफी तेल लगाकर गांड में पिला दिया। जल्दी जल्दी मुझे चोदने लगे।

“अपनी गांड को ढीला करो नीना” जीजा जी बोले

मैंने ऐसा ही किया। इससे बहुत फायदा हुआ और मुझे दर्द होना बंद हो गया था। जीजा जी मस्ती से किसी सेक्सी कुत्ते की तरह मेरी गांड चोदने लगे। मुझे भी स्वर्ग की प्राप्ति हो रही थी। उन्होंने जल्दी जल्दी धक्का देना शुरू किया। कुछ देर में मुझे इतना अधिक आनन्द आने लगा की क्या बताऊ। जिस तरह से मेरी चूत चिकनी हो गयी थी उसी तरह से गांड भी ढीली पड़ गयी। जीजा ने खूब चोदा मुझे। jija sali ki chudai:

Ghar aayi sali ki chudai

“जीजा जी!! मैं थक गयी हूँ” मैंने कहा

“लेट जाओ। थोड़ा रेस्ट मार लो” वो कहने लगे

कुछ देर रेस्ट किया। अब जीजा ने मुझे लिटा दिया और कमर के नीचे बड़ा मोटा तकिया लगा दिया। फिर गांड में लंड डालकर मस्ती से मुझे चोदा। फिर चूत पर लंड पकड़कर मुठ मार दी। मेरी चूत जीजा के माल से नहा गयी। आपको स्टोरी कैसी लगी मेरे को जरुर बताना और सभी फ्रेंड्स नई नई स्टोरीज के लिए नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पढ़ते रहना। आप स्टोरी को शेयर भी करना।

Read More Sex Stories..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *