By | April 7, 2023

Maa Bete Ki Chudai ki kahani 11: हैलो दोस्तो, मेरा नाम रिंकू है मेरी उम्र 21 साल है और मैं उत्तर प्रदेश के एक गाओं का रहने वाला हु मेरी ये कहानी मेरी मम्मी और मेरे बीच बने रिश्ते की है मेरी फॅमिली में हम 4 लोग है पापा मम्मी मैं और मेरा बड़ा भाई, मेरा बड़ा दिल्ली में जॉब करते है और पापा खेतो को सँभालते है और मैं शहर में रहकर पढ़ाई कर रहा हु।

ये भी पढे->– पिछला भाग मम्मी की हवस की आग मिटाई 10

हमारी वैबसाइट से चुदाई की मस्त कहानिया पढ़ने के लिए यहा क्लिक करे-> www.xstory.in

Maa Bete Ki Chudai ki kahani 11

मैंने करण से 1 घंटा बात की और उसके बाद मैं अपने दोस्तों के पास चला गया।

फिर थोड़ी बाद मैं घर आ गया जब मैं घर आया तब भी पड़ोस वाली चाची बैठी हुई थी वह मम्मी से बाते कर रही थी।

मम्मी हमेशा से पड़ोस वाली चाची के साथ जयादा टाइम बिताती थी वैसे भी वह और क्या करती घर में कोई रहता भी तो नहीं था।

फिर कुछ देर बाद चाची चली गयी और चाची के जाते ही मम्मी किचन में चली गयी, 

मैं भी सीधा मम्मी के पास गया वह मुझे देखकर मुस्कुराने लगी मैंने सीधे जाके मम्मी को पीछे से पकड़ लिया और उनके बूब्स दबाने लगा।

मम्मी – क्या कर रहा है बेटा ? हैट मुझे रोटी बनाने दे तेरे पापा आते ही होंगे।

मैं – अरे मम्मी जब पापा आएंगे तो मैं हैट जाऊँगा, मम्मी अपना काम करती रही और मैं उनके बूब्स से खेलता रहा।

मम्मी – बेटा अगर तू ऐसे ही करता रहा तो मैं काम नहीं कर पाऊँगी फिर मैंने मम्मी का हाथ ऊपर कर दिया और उनकी बगल को चाटने लगा और मम्मी मुझे देखने लगी। Maa Bete Ki Chudai ki kahani 11

Antarvasna maa ki chudai

मम्मी – बेटा तू मेरी बगल को क्यों चाट ता है तुझे अजीब नहीं लगता।

मैं – मम्मी मुझे तो आपकी बगल चाटने में बहुत मज़ा आता है।

मम्मी – लगता है बेटा बावला हो गया।

मैं मम्मी की बगल चाट ही रहा था की तभी किसी ने दरवाजा की घंटी बजा दी मैं समझ गया पापा आ गए है फिर मैंने जाके गेट खोल दिया और पापा अंदर आ गए।

फिर मम्मी ने पापा और मुझे खाना दिया और खाना खाके पापा थोड़ी देर लेट गए और कुछ देर आराम करने के बाद वह चले गए।

उसके बाद मम्मी ने भी खाना खा लिया फिर वह अपने कमरे में आ गयी आज मम्मी ने साड़ी और ब्लाउज पहना था।

मैं – मम्मी आज आपने मैक्सी क्यों नहीं पहनी?

मम्मी – बेटा वह धो के डाली है इसीलिए नहीं पहनी मगर तू क्यों पूछ रहा है

मैं – मम्मी मैक्सी खुली खुली रहती है और उसमें आपको भी आराम मिलता है और मुझे आपको देखकर आराम आता है मम्मी मेरी बात सुनके हसने लगी।

फिर वह सिंगार दान के सामने कुछ करने लगी और मैंने उन्हें पीछे से जाके पकड़ लिया फिर मैं मम्मी की पीठ को चूमने लगा और मम्मी आँखे बंद करके खड़ी रही।

मैं मम्मी की पीठ और गर्दन को चुम रहा था फिर मैं ब्लाउज के ऊपर से ही उनके बूब्स  दबाने लगा मम्मी मुझे और खुद को शीशे में देख रही थी और मुझे भी खुद को देखकर अच्छा लग रहा था।

तभी मैंने मम्मी के ब्लाउज को पकड़ा और उसे जोर से खींच दिया जिससे ब्लाउज के सारे हुक टूट गए और ब्लाउज के खुलते ही मम्मी के बूब्स उछाल के बहार आ गए।

मम्मी मेरी इस हरकत से चौक गयी, 

मम्मी – ये क्या किया तूने? मेरा ब्लाउज क्यों फाड़ दिया मैंने मम्मी की बात का कोई जवाब नहीं दिया और उनके होंठों को चूसने लगा।

फिर मम्मी भी मेरा साथ देने लगी मैं मम्मी के होंठों को चूसते हुए उनके बूब्स को दबा रहा था और अब मम्मी भी गरम होने लगी थी मम्मी मुझे ये सब करते हुए शीशे में देख रही थी वह थोड़ी थोड़ी शर्मा रही थी।

फिर मैंने मम्मी का ब्लाउज और पेटीकोट निकाल दिया और अब मम्मी नंगी शीशे के सामने खड़ी थी।

फिर मैं भी नंगा हो गया और मेरा लंड एक दम टाइट हो गया था तभी मम्मी ने मेरा लंड पकड़ लिया वह उसे आगे पीछे करने लगी। Maa Bete Ki Chudai ki kahani 11

Maa ki chudai

फिर मम्मी नीचे बैठ गयी और मेरा लंड चूसने लगी और लंड चूसते हुए उनकी नज़र बार बार शीशे पर जा रही थी जिसे देख देखकर उन्हें भी शर्म आ रही थी।

कुछ देर लंड चूसने के बाद मम्मी खड़ी हो गयी फिर मैंने मम्मी को शीशे के सामने ही झुका दिया और पीछे से उनकी चूत और गांड को चाटने लगा।

मम्मी झुकी झुकी अपनी गांड और चूत को चटवा रही थी और शीशे में उनके मुह के बदलते भाव मुझे साफ़ दिख रहे थे।

मम्मी खुद को शीशे में देखकर अपनी आँखे बंद कर रही थी कुछ देर चूत और गांड चाटने के बाद मैं खड़ा हो गया फिर मैंने अपना लंड मम्मी की चूत में लंड डाल दिया और मम्मी झुककर मेरा लंड अपनी चूत में लेने लगी।

मैं मम्मी को शीशे के सामने चोद रहा था और मम्मी अह्ह्ह आह्ह्ह्ह सीईई कर रही थी मेरा लंड मम्मी की चूत में जाता शीशे में साफ़ दिख रहा था और मम्मी अपने होंठों को काट रही थी और मुँह बना रही थी।

मैं – मम्मी शीशे में देखो कैसे मेरा लंड आपकी चूत में जा रहा है और आपके बूब्स और मंगलसूत्र कैसे उछल रहा है, मम्मी खुद को बार बार देखती फिर अपनी आँखे फेर लेती मगर मुझे तो सच में बहुत मज़ा आ रहा था कुछ देर खड़े खड़े चोदने के बाद मैंने मम्मी को बेड के कोने पर लिटा दिया।

फिर से मम्मी की टाँगे पकड़ के चोदने लगा मम्मी को भी मज़ा आ रहा था और इस चुदाई में मैंने 2 बार मम्मी का पानी निकाल दिया और उसके बाद हम दोनों ही नंगे सो गए।

शाम को जब मेरी आँख खुली तो मैंने देखा मम्मी अभी भी सो रही थी फिर मैंने उनके माथे को चुम लिया और तभी मम्मी भी उठ गयी।

उन्होंने मेरी आँखों में देखा और एक मुस्कान उनके मुह पर आ गयी, फिर मैं मम्मी के लिए बहार सुख रही उनकी मैक्सी ले आया और उन्होंने अपनी मैक्सी पहन ली नीचे अभी भी मम्मी का पेटीकोट और ब्लाउज पड़ा हुआ था।

फिर मम्मी उठ गयी और अपने कपडे उठा के रखने लगी। Maa Bete Ki Chudai ki kahani 11

फिर मम्मी अपना काम करने लगी और कुछ देर बाद उन्होंने चाय बनायीं फिर मैं चाय पिके बहार आ गया और अपने दोस्तों के साथ घूमने निकल गया रात करीब 7 बजे मैं वापस आया और आते हुए मम्मी के लिए गोल गप्पे और मोमोस लेके आया।

Maa ki chudai kahani

जो उन्हें बहुत पसंद है फिर मैं पापा और मम्मी ने बैठके सब खाया और उसके बाद मम्मी टीवी देखने लगी।

फिर कुछ देर बाद मम्मी ने सबके लिए खाना निकाला और हम सब खाना खाने लगे खाना खाने के बाद मैं छत पर चला गया और मम्मी अपना काम करने लगी काम ख़तम करके मम्मी भी छत पर आ गयी और मेरे साथ खड़ी हो गयी।

फिर मैं मम्मी के पीछे आ गया और उनके कंधे को दबाने लगा।

मैं – मेरी मम्मी थक गयी क्या?

मम्मी – अरे नहीं बेटा मैं ठीक हु।

मैं – मम्मी आप पुरे दिन काम करती हो थक तो जाती ही हो।

मम्मी – आज बड़ा प्यार आ रहा है अपनी मम्मी पर क्या बात है बेटा ?

मैं – प्यार तो हमेशा से था मम्मी बस आज आपने भी मुझे वह प्यार करने का मौका दिया है जिसकी जरुरत आपको भी थी।

मम्मी – ओह्ह मेरा बच्चा तू सच में इतना प्यार करता है मुझसे।

मैं – आप कहो तो यहाँ से कूद जाऊ आपके लिए।

मम्मी – ये कैसे बात कर रहा है अगर दुबारा बोला तो थप्पड़ खायेगा तू क्यों मरेगा मरे तेरे दुश्मन, मम्मी की बात सुनके मैंने उनके गाल पर एक किश कर दिया।

मैं – मम्मी एक बात पूछो अगर आप बुरा न मानो तो।

मम्मी – है बेटा पूछो क्या बात है?

मैं (हलकी आवाज में) – मम्मी उस दिन जब करण और साहिल आपकी चुदाई कर रहे थे तो आपने अपनी गांड में भी लंड डलवा लिया था क्या वह पहली बार आपने किया था या पापा भी आपकी गांड मारते है।

मम्मी मेरा सवाल सुनके मुझे देखने लगी फिर वह बोली।

मम्मी – हा  बीटा तेरे पापा भी मेरे पीछे करते है।

मैं – मम्मी इससे आपको दर्द नहीं होता क्युकी मैंने सुना है इससे बहुत दर्द होता है 

मम्मी – हा शुरू शुरू में हुआ था और अगर ठीक से किया जाये तो जयादा दर्द नहीं होता है।

मैं – वैसे मम्मी जब मैं आपकी गांड को चाट के गीला कर देता हु तो आपको इसमें मज़ा आता या नहीं।

मम्मी – है बेटा मुझे अच्छा लगता है जब तू मेरे नीचे चाट ता है तो सच कहु तो तेरे पापा ने भी कभी मुझे इस तरह प्यार नहीं किया जैसे तू करता है।

मैं – मम्मी मुझे भी आपके साथ बहुत अच्छा लगता है आज सुबह और दोपहर को जो प्यार भरे पल मैंने आपके साथ बिताये है वह मेरी ज़िन्दगी के सबसे हसीं पल है।

मेरा लंड मम्मी से बाते करते हुए खड़ा हो चूका था और मम्मी ने छत पर ही उस पर हाथ रख दिया और कच्छे के ऊपर से ही उसे पकड़ लिया। Maa Bete Ki Chudai ki kahani 11

Maa ki chudai story

मम्मी – बेटा तेरा ये हमेशा खड़ा ही रहता है क्या?

मैं – मम्मी जब आप मेरे सामने या पास में होती हो तब ये अपने आप ही खड़ा हो जाता है।

मम्मी ने मेरे कच्छे के अंदर हाथ डाल दिया वह मेरे लंड को सहलाने लगी।

मैं – मम्मी आप मेरे शैतान को जगा रही हो फिर सोच लो इसे सोने के लिए 2 गुफा की जरुरत पड़ेगी।

मम्मी – तो मैंने तुझे कब मना किया है बेटा मम्मी की बातो से साफ़ लग रहा था की वह मुझसे और चुदवाना चाहती है बस वह खुल के नहीं कह रही थी।

मगर समझदार को इशारा ही काफी होता है।

मैं – मम्मी पापा जब सो जायेंगे तो आप छत पर ही आ जाना मैं अभी छत पर ही टहल रहा हु।

फिर मैं नीचे बैठ गया और मम्मी खड़ी ही रही फिर मैंने मम्मी की मैक्सी में हाथ डाला और सीधा उनकी चूत पर चला गया मम्मी की चूत पानी पानी हो रही थी वह मुझे ही देख रही थी।

मैं मम्मी की चूत को सहलाने लगा फिर कुछ देर चूत सहलाने के बाद मम्मी बोली।

मम्मी – बेटा अब रहने दे मैं नीचे जा रही हु, मम्मी की बात सुनके मैं खड़ा हो गया।

मैं – मम्मी मैं आपका इंतजार करूँगा जब तक आप नहीं आ जाओगे, फिर मम्मी नीचे चली गयी और मैं छत पर ही टहलने लगा मैं लगभग आधे घंटा टहलता रहा और मम्मी अभी तक नहीं आयी इसीलिए में नीचे आ गया और सीधा पीछे खिड़की के पास चला गया।

मैंने देखा कमरे की लाइट जल रही थी फिर मैंने हलके से अंदर देखा तो पापा नीचे लेटे हुए थे और मम्मी उनके लंड पर थी मम्मी पापा के लंड पर उछल रही थी और उनके बूब्स और मंगलसूत्र भी उछल रहे थे।

पापा मम्मी के बूब्स दबा रहे थे और मम्मी बड़े ही आराम से चुदवा रही थी।

फिर पापा ने मम्मी को नीचे लिटा दिया वह उनके ऊपर आ गए पापा ने आपने लंड मम्मी की चूत में डाल दिया।

फिर से वह धक्के लगाने लगे मम्मी बस लेटी हुई थी और पापा धक्के लगा रहे थे फिर कुछ देर बाद पापा ने अपना पानी मम्मी की चूत में निकाल दिया। Maa Bete Ki Chudai ki kahani 11

Dost ki maa ki chudai

वह उनके ऊपर लेट गए मम्मी पापा की चुदाई देखकर, मैं वापस ऊपर छत पर आ गया और आँगन की तरफ देखने लगा।

फिर कुछ देर बाद मम्मी आँगन में दिखाई दी वह हैंडपंप के पास जाके बैठ गयी फिर वह पानी से अपनी चूत को साफ़ करने लगी।

अपनी चूत को साफ़ करने के बाद जब मम्मी वापस आ रही रही थी तो उनकी नज़र मुझपे पड़ी और उन्होंने मुझे अपने हाथ से रुकने का इशारा किया फिर वह वापस कमरे में चली गयी और मैं वापस टहलने लगा, लगभग 1 घंटे टहलने के बाद मम्मी ऊपर आ गयी और मुझे देखते ही उन्होंने मुझे ज़मीन पर बिठा लिया वह मेरे होंठों को चूसने लगी।

मैं भी मम्मी के होंठों को चूस रहा था हम दोनों बिना किसी के डर के लगभग 5-मिनट तक एक दूसरे के होंठों को चूसते रहे।

फिर मम्मी अलग हो गयी।

मैं – मम्मी पापा सो गए क्या?

मम्मी – हा बेटा तेरे पापा सो गए इसीलिए तो तेरे पास आयी हु।

मैं – मम्मी आज पापा ने फिर से आपको गरम ही छोड़ दिया।

मम्मी – हा बेटा वह तो हमेशा से ही ऐसा करते है वैसे क्या आज भी तू हमें देख रहा था?

मैं – हा  मम्मी जब आप ऊपर नहीं आये तो मैं नीचे देखने आया था तो मैंने आप दोनों को देखा वैसे अब पापा उठेंगे तो नहीं।

मम्मी – नहीं बेटा अभी तो कुछ देर नहीं उठेंगे तब तक हमारे पास टाइम है।

मम्मी ने पास में पड़ी चटाई उठायी और उसे नीचे बिछा दिया फिर मैं और मम्मी चटाई पर आ गए और मैंने मम्मी के होंठों को चूसते हुए उन्हें लिटा दिया।

फिर मैं मम्मी की मैक्सी ऊपर करने लगा।

इस बार मम्मी ने खुद अपनी मैक्सी अपने बूब्स के ऊपर तक उठा ली फिर मैं नीचे झुक कर मम्मी की चूत चाटने लगा और मम्मी ने अपना हाथ मेरे सर पर रख दिया।

यहाँ मैं मम्मी की चूत चाट रहा था वहा मेरा सर सेहला रही थी बीच बीच में मम्मी मेरा सर अपनी चूत पर भी दबा रही थी।

उन्हें देखने से साफ़ पता चल रहा था की वह अंदर से कितनी गरम है और हो भी क्यों न पापा ने उन्हें गरम जो छोड़ दिया था।

कुछ देर मैं मम्मी की चूत चाटता रहा फिर मम्मी ने मुझे लिटा दिया वह मेरा लंड चूसने लगी।

सच में दोस्तों खुली छत पर चुदाई करने में एक अलग ही मज़ा आ रहा था मम्मी गपा गप मेरा लंड चूस रही थी।

फिर कुछ देर अपना लंड चुसवा के मैंने मम्मी को सीधा लिटा दिया और उन्होंने खुद अपनी टाँगे फैला ली और इस बार खुद उन्होंने मेरा लंड अपनी चूत में डाल लिया। Maa Bete Ki Chudai ki kahani 11

Maa ki chudai ki kahani

फिर मैंने धक्के लगाने शुरू कर दिए छत पर इतनी रोशिनी नहीं थी जो सब कुछ साफ़ साफ़ दिखे।

मगर फिर भी मम्मी की चुदाई में मज़ा आ रहा था मैं धक्के लगाए जा रहा रहा था और मम्मी अहह आठ यह मममम कर रही थी।

मम्मी ने अपनी टाँगे मेरी कमर में बांध ली थी और उनका हाथ मेरी गांड पर आ गया था मैंने देखा मम्मी मेरी गांड को पकड़ के अपनी चूत की तरफ धकेल रही थी।

जिससे मेरे धक्के तेज तेज पड़ रहे थे मुझे और मम्मी को छत पर मच्चर काट रहे थे।

मगर फिर भी हम दोनों चुदाई में लगे हुए थे और आज देखने से लग रहा था की मम्मी कुछ जयादा ही गरम है।

शायद मैंने ही एक भूखी शेरनी के मुँह खून लगा दिया था जब मच्चर जयादा काटने लगे और मम्मी को भी दिक्कत होने लगी तो मम्मी बोली।

मम्मी – बेटा यहाँ मच्चर बहुत काट रहे है चल नीचे चलते है मम्मी की बात सुनके मैंने अपना कच्छा पहन लिया और मम्मी मेरा हाथ पकड़ के नीचे ले गयी नीचे जाते ही जब मैं मम्मी के कमरे के पास गया और दरवाजा थोड़ा सा खोल के देखा तो पापा चैन की नींद सो रहे थे।

मैं (हलकी आवाज में) – मम्मी पापा तो घोड़े बेच के सो रहे है।

मम्मी – हा बेटा  तेरे पापा अपना काम करके ऐसे ही सो जाते है उन्हें दूसरे की कोई परवा ही नहीं है मम्मी की बात सुनके मैंने मम्मी को दरवाजे के पास झुका दिया और मम्मी भी तुरंत झुक गयी और उन्होंने अपनी मैक्सी ऊपर कर ली।

मम्मी – तू आज भी अपने पापा के सामने ही मुझे चोदेगा, मम्मी के मुँह से चोदेगा शब्द सुनके मज़ा आ गया अब मुझे लग रहा था की मम्मी मेरे साथ खुल रही है।

मैं – हा  मम्मी आपको पापा के सामने ही चोदुगा, आपको ना  खुस करने की सजा उन्हें भी तो मिलनी चाहिए।

वैसे मेरा बस चले तो पापा की आँखों के सामने आपको चोदू और उन्हें कहु की क्यों मेरी मम्मी को आप गरम ही छोड़ देते हो।

मम्मी मेरे सामने झुकी हुई थी फिर मैंने अपना लंड उनकी चूत में डाल दिया और मम्मी की कमर को पकड़ के धक्के लगाने लगा। Maa Bete Ki Chudai ki kahani 11

Maa ki chudai hindi

मम्मी अपने मुँह पर हाथ रखकर झुकी हुई थी और मैं धक्के लगा रहा था।

मैं (हलकी आवाज में) – देखो पापा मम्मी को कितना मज़ा आ रहा है मेरे लंड से काश आप भी मम्मी की इस जन्नत का सही से सुख ले पाते।

मम्मी – बस ऐसे ही आह्ह्ह्ह रुकना मत बेटा रुकना मत मम्मी सच में बहुत गरम हो गयी थी जो इतने खुले खुले शब्द बोल रही थी और मैं धक्के पे धक्के लगाए जा रहा था।

फिर कुछ देर बाद मम्मी का शरीर कांप गया वह दीवार पकड़ के आगे होने लगी।

मैं वही रुक गया और मम्मी का पानी निकल गया मम्मी कुछ देर ऐसे ही खड़ी रही फिर कुछ देर बाद मम्मी अपनी गांड को मेरे लंड पर मारने लगी और मैंने फिर से धक्के लगाने शुरू कर दिए।

सच में ऐसे चुदाई करने में बहुत मज़ा आ रहा था और अब मेरा भी रुकना मुश्किल हो रहा था फिर कुछ और धक्के लगाने के बाद मेरा भी पानी निकल गया और इस बार मैंने अपना सारा पानी मम्मी की गांड पर निकाल दिया।

मम्मी और मैं दरवाजे के बहार खड़े होके हाफ रहे थे और हम दोनों ही पापा को सोते हुए देख रहे थे।

फिर मैंने मम्मी की मैक्सी से सारा पानी साफ़ कर दिया फिर मैंने मम्मी को गोदी उठा लिया और उन्हें लेके अपने कमरे में आ गया।

कमरे में आते ही हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूसने लगे और मम्मी मेरा लंड सहलाने लगी और मम्मी के जादू भरे हाथ लगते ही मेरा लंड फिर से खड़ा होने लगा।

मम्मी भी देखकर हैरान थी की मेरा लंड इतनी जल्दी कैसे खड़ा हो रहा है।

मम्मी – बेटा तेरा ये तो बड़ी जल्दी खड़ा हो गया।

मैं – मम्मी आपके हाथ मैं जादू जो है वैसे मम्मी अब आप खुस तो हो ना आपकी चूत की थोड़ी गर्मी जो निकल गयी।

मम्मी – हा बेटा सच में अब जाके चैन पड़ा मेरे अंदर वरना हमेशा तो मैं पानी मारके शांत कर लेती थी खुद को।

मैं – मगर मम्मी आप खुद को ऊँगली करके भी तो शांत कर सख्ती थी।

मम्मी – बेटा मुझे ये सब करना पसंद नहीं है इससे और भी जयादा दिमाग गन्दा होने लगता है अगर मैं वह सब करने लगती तो पक्का बहार मेरा किसी से चक्कर चल जाता। Maa Bete Ki Chudai ki kahani 11

Maa ki chudai hindi mein

मैं – मम्मी अब मेरे होते हुए आपको कभी किसी और को नहीं देखना पड़ेगा।

मम्मी – हा मेरे बच्चे मैं जानती हु और कल रात से लेके अभी तक 4 बार तेरा इसका कमाल देख चुकी हु।

फिर मैं मम्मी की गांड दबाते हुए उनके होंठों को चूसने लगा फिर मैंने उन्हें बीएड पर घोड़ी बना दिया और उनकी गांड को चाटने लगा मैंने चाट चाट के मम्मी की गांड को गिला कर दिया।

फिर अपनी ऊँगली मम्मी की गांड में डाल दी और ऊँगली को अंदर बहार करने लगा फिर कुछ देर बाद मैंने अपना लंड पर थूक लगाया और उसे मम्मी की गांड के छेद पर लगा दिया।

अब अंधेरे  की वजह से मैं लंड अंदर नहीं डाल पा  रहा था तब मम्मी ने मेरा लंड पकड़ा और उसे अपनी गांड के छेद पर लगाके अंदर करने लगी।

जैसे ही मेरे लंड का सूपड़ा थोड़ा अंदर गया तभी मम्मी एक दम से उछल पड़ी और आगे हो गयी मगर मम्मी ने मुझे मना नहीं किया उन्होंने फिर से मेरा लंड पकड़ के अपनी गांड में लगा दिया और इस बार उन्होंने हलके हलके मेरा सूपड़ा अपनी गांड में दाल लिया।

मम्मी – बेटा ऐसा आह्हः रहने देना मैं वैसे ही खड़ा हुआ था और मेरे लंड का सूपड़ा मम्मी की गांड में था।

फिर मम्मी के कहने पर मैंने हलके हलके अपना लंड अंदर डालने लगा और बीच बीच में मैं रुक भी जाता था।

फिर कुछ देर बाद मेरा पूरा लंड मम्मी की गांड के अंदर समां गया और मैं मम्मी की गांड पकड़ के धक्के लगाने लगा मम्मी ऐसे ही झुकी रही और मैं उनकी गांड चोदता रहा।

मैं – मम्मी आपकी गांड तो बहुत टाइट है ऐसा लग रहा है पहली बार इसके अंदर लंड जा रहा हो।

मम्मी – बेटा पीछे आह्हः ऐसे ही लगता है आह्ह्ह्ह इसीलिए तो हर मर्द सीई औरत के पीछे ही करना चाहता है।

मैं हलके हलके धक्के लगा रहा था और मम्मी अपने मुँह पर हाथ रखकर झुकी हुई थी 

फिर मैंने अपना लंड निकाल  लिया और उसे अपने कच्छे से साफ़ कर लिया। Maa Bete Ki Chudai ki kahani 11

Indian maa ki chudai

मैं – मम्मी मैं आपकी गांड बहार पापा के सामने मारना चाहता हु, मम्मी ने पीछे मुड़ के मुझे देखा वह मुस्कुराने लगी।

फिर मम्मी ने मेरा हाथ पकड़ के मुझे बहार ले गयी और दरवाजे के पास जाके झुक गयी मैंने अपना लंड मम्मी की गांड पर लगा दिया और उन्होंने खुद मेरा लंड अपनी गांड में डाल लिया।

मैं पापा को देखते हुए मम्मी की गांड चोद रहा था और मम्मी भी अपने मुँह पर हाथ रखकर पापा को ही देख रही थी।

फिर मैं  मम्मी की गांड मारेट हुए मैं उनकी चूत सेहला रहा था और मम्मी की चूत भी पानी छोड़ रही थी।

फिर मैंने अपना लंड गांड से निकाल लिया और उसे साफ़ करके मम्मी की चूत में डाल दिया और वही खड़े खड़े मम्मी की चूत मारने लगा, कुछ देर बहार चुदाई करके हम दोनों वापस कमरे में आ गए और मम्मी खुद जाके बेड के कोने पर लेट गयी और मैं फिर से उनकी चूत मारने लगा और कुछ ही देर बाद मम्मी ने फिर से पानी छोड़ दिया।

फिर मैंने अपना लंड मम्मी की गांड में डाल दिया और उनकी गांड को चोदते हुए वही अपना पानी निकाल दिया।

मैं और मम्मी हम दोनों हाफ रहे थे फिर मम्मी ने मेरे होंठों को चूसा फिर मम्मी ने अपनी मैक्सी ठीक कर ली और मैंने दूसरा कच्छा पहन लिया। Maa Bete Ki Chudai ki kahani 11

Apni maa ki chudai

मम्मी – बेटा ये कच्छा बहार डाल देना मैं सुबह धो दूंगी।

मैं – ठीक है मम्मी, फिर हम दोनों बहार आ गए मम्मी हैंडपंप के पास पेशाब करने लगी और मैं उन्हें देखने लगा पेशाब करने के बाद हम दोनों अंदर आ गए।

मैं – मम्मी आप खुस तो हो ना।

मम्मी -हा मेरे  बच्चे मैं बहुत खुस हु जिस चीज के लिए मैं हमेशा तरसती थी वह कमी तूने पूरी कर दी है अब तू भी जाके सो जा कही तेरे पापा जाग न जाये।

मैंने जाते हुए मम्मी के होंठों को चुम लिया फिर वह अपने कमरे में जाके सो गयी और मैं भी अपने कमरे में आके सो गया और अब मेरी और मम्मी की दुनिया ही बदल गयी टाइम के साथ साथ मम्मी मेरे साथ पूरी तरह खुल गयी।

Dharmik maa ki chudai

जब भी उनका मन चुदाई के लिए करता वह मुझसे खुल के बोल देती मम्मी और मैंने घर के हर कोने में चुदाई की और जब भी घर पर हम दोनों होते तो वह बिना कपड़ो के ही मेरे साथ लेटी रहती थी । Maa Bete Ki Chudai ki kahani 11

तो दोस्तों कैसे लगी आपको मेरी ये कहानी मुझे आपने फीडबैक देना न भूले ताकि मैं ऐसे ही कहानी आपके लिए और लाता रहु तब तक आप सबका बहुत बहुत सुक्रिया और मेरे उन दोस्तों का बहुत बहुत सुक्रिया जिन्होंने मुझे वोट किया और मुझे २ण्ड नंबर का रैंक दिलवाया थैंक यू सो मच दोस्तों मिलते है अगली कहानी के साथ.

Read More Sex Stories…

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *