By | May 31, 2023

Maa Ki Chudai Stories: हेलो दोस्तों हाजिर हु एक और कहानी के साथ आप कहानी पढे और मुझे फीड बैक देना न भूले, दोस्तों मेरा नाम अभिषेक है और मेरी उम्र 24 साल है मैं हरीयाणा का रहने वाला हु मेरी ये कहानी मेरे चाचा और माँ की चुदाई के बीच की है।

मैं मम्मी की पैरो की मस्सगे कर रहा था और बीच बीच में उनकी पैरो की उँगलियों को चूस भी लेता था मम्मी को इसमें मज़ा आ रहा था और मुझे मम्मी को देखकर अच्छा लग रहा था।, कुछ देर मस्सगे करने के बाद मम्मी बोली:

Maa Ki Chudai Stories

मम्मी – चल बेटा मैं कपडे बदल लेती हु फिर कुछ खाते है।

मैं – वैसे मम्मी आपके लिए एक सरप्राइज है।

मम्मी – तूने आज भी मेरे लिए पास्ता बनाया है?

मैं – हा मम्मी वह तो बनाया है मगर उसके अलावा कुछ और भी है।

मम्मी – तो दिखा बेटा क्या सरप्राइज है? मैं सोफे से उठा और मम्मी को गोदी उठा लिया।

फिर मैं उन्हें बैडरूम में ले गया मम्मी ने अपना बेड देखा जहा एक चद्दर बिछी थी और तेल की बोतल रखी थी मम्मी ये देखकर मुझे देखने लगी।

मम्मी – ये क्या है बेटा?

मैं – मम्मी आप कपडे उतार के लेट जाओ आज मैं आपकी मालिश करूँगा जिससे आपकी सारी थकान उतर जाएगी।

मम्मी मुझे देखने लगी फिर मैंने मम्मी की साड़ी का पल्लू पकड़ लिया और मम्मी गोल गोल घूमने लगी जिससे उनकी साड़ी निकलने लगी और साड़ी निकलने के बाद मैंने मम्मी का पेटीकोट भी निकाल दिया।

अब मम्मी सिर्फ पेंटी और ब्लाउज में खड़ी थी फिर मैं मम्मी के ब्लाउज के हुक खोलने लगा और मम्मी मुझे देख रही थी ब्लाउज निकालने के बाद मम्मी सिर्फ ब्रा पेंटी में खड़ी थी।

फिर मैंने मम्मी की ब्रा और पेंटी भी निकाल दी और उनके सारे कपडे उठा के साइड में रख दिए अब मम्मी मेरे सामने बिलकुल नंगी खड़ी थी और मैं उनके सामने कच्छे में खड़ा था और मेरा लंड कच्छे में तम्बू बनाये हुए था। Maa Ki Chudai Stories

Maa ki Chudai

मम्मी बिलकुल मुझसे चिपक गयी और उन्होंने खुद मेरा कच्छा निकाल दिया और कच्छे के निकलते ही मम्मी ने मेरा लंड पकड़ लिया मम्मी मेरा लंड आगे पीछे करने लगी।

फिर हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूसने लगे कुछ देर मम्मी के होंठों को चूसने के बाद वह बेड पर चढ़ गयी और पेट के बल लेट गयी।

फिर मैं भी बेड पर आ गया और तेल की बोतल उठा के थोड़ा तेल मम्मी की पीठ पर डाल दिया।

फिर मैं उनके पैरो के ऊपर बैठकर मम्मी की पीठ की मालिश करने लगा मेरे हाथ मम्मी की पीठ पर चल रहे थे और मम्मी आँखे बंद करके आराम से लेटी हुई थी।

मैं – मम्मी आपकी किटी पार्टी कैसे रही और आपने क्या क्या एन्जॉय किया?

मम्मी – बेटा पार्टी अच्छी रही हम सब लोग काफी देर तक गेम खेलते रहे फिर कुछ स्नैक्स खाये और काफी सारी बाते भी हुई।

मैं – अच्छा मम्मी वैसे आपको मालिश अच्छी तो लग रही है न।

मम्मी -हा बेटा बहुत आराम मिल रहा है सच बताऊ तो आज पता नहीं कितने टाइम के बाद मेरी ऐसे मालिश हो रही है पहले तेरे पापा कर देते थे मगर फिर सब बंद हो गया और अब आज तू मेरी मालिश कर रहा है।

मैं – मम्मी आपका जब भी मन करे आप बस मुझसे कह दिया करो मैं आपकी मालिश कर दिया करूँगा मैं मम्मी के पैरो पर बैठा बैठा जब उनके कंधे पर मालिश करने लगा तो मेरा लंड मम्मी की गांड के ऊपर रगड़ मार रहा था जिससे मुझे बहुत मज़ा आ रहा था।

फिर एक एक मम्मी हसने लगी मुझे लगा शायद मेरा लंड लगने की वजह से है रही है तब मैंने पूछा।

मैं – मम्मी आप है हश क्यों रहे हो? कही मेरा लंड आपकी गांड पर लग रहा है इसीलिए तो नहीं।

मम्मी – अरे नहीं बेटा वह बस किटी पार्टी में हुई बात याद आ गयी उसी पर हस  रही थी।

मैं – ऐसी क्या बात है मम्मी? मुझे भी तो बताओ।

मम्मी – आज जब मैं अपनी फ्रेंड्स से मिली तो सब मेरी बहुत तारीफ़ कर रही थी फिर कुछ देर बाद सब बोलने लगी क्या बात कुसुम आज तुम्हारे चेरे पर एक अलग ही खुसी दिख रही है और तुम आज कुछ जयादा ही चमक रही हो लगता है पतिदेव ने कुछ जयादा ही परेशां किया है तुम्हे तभी आज तुम्हारे चेरे पर एक अलग ही स्माइल दिख रही है। Maa Ki Chudai Stories

Maa ki Chudai kahani

अब मैं उन्हें क्या बताती की मुझे खुसी देने वाला मेरा पति नहीं बल्कि मेरा बेटा है जिसकी वजह से मैं आज इतनी खुस थी।

मैं – मम्मी क्या चेरा देखकर ही ये अंदाज़ा लगाया जा सकता है? की एक औरत खुस है या नहीं।

मम्मी – हा बेटा जब एक औरत को वह हर सुख मिले जिसकी जरुरत उसे होती है तो औरतो के चेरे पर एक अलग ही तेज होता है और मैं सिर्फ सेक्स की बात नहीं कर रही हु एक औरत को सिर्फ सेक्स ही नहीं चाहिए होता है एक औरत चाहती है की कोई उसके साथ बैठे बाते करे उसे समझ जैसे तू मुझसे बाते करता है मुझे हसाता है मुझे समझता है मुझे अपनी बाहो में लेके बाते करता है जो अब तेरे पापा बिलकुल नहीं करते  हैऔर जब ये सब घर पर नहीं मिलता है तो इसीलिए औरतो के चक्कर बहार चलने लगते है।

मैं – मम्मी एक पर्सनल बात पूछो अगर बुरा न मनो तो।

मम्मी – बेटा जो पूछना है पूछा ले।

मैं – मम्मी अगर पापा आपको टाइम नहीं देते है तो क्या कभी आपका मन नहीं हुआ किसी और से चक्कर चलने का।

मम्मी – बेटा मन तो हुआ था और मेरी एक फ्रेंड ने भी मुझसे ये बात कही थी मगर मैंने ऐसा नहीं किया क्युकी मुझे सिर्फ सेक्स नहीं चाहिए था मुझे ऐसा इंसान चाहिए था जो प्यार के साथ सेक्स करे और मुझे समझे भी जैसे तूने किया था उस होटल वाले कमरे में जब तूने मेरे साथ ऐसा किया था तब भी तेरे हर शब्द में और तेरे छूने में एक प्यार था।

जिसे समझने में मुझे भी टाइम लगा क्युकी अगर तुझे सिर्फ सेक्स चाहिए होता तो तू शिमला से आने के बाद रोज मेरे साथ वही करता मगर तूने मुझे टाइम दिया और मुझे बार बार समझाने लगा और अब देख ले मैं भी तेरे साथ हु।

मम्मी की ये बाते सुनके मुझे अच्छा लग रहा था और मेरा हाथ मम्मी की पूरी पीठ पर घूम रहा था।

फिर मैंने थोड़ा तेल मम्मी की गांड पर डाल दिया और अब मैं उनकी गांड को मसलने लगा मम्मी की पूरी गांड एक दम चिकनी हो गयी थी और अब मेरा हाथ मम्मी की चुत और गांड को सेहला रहा था।

मम्मी की गांड का छेद देखकर मेरे मुँह में पानी आ रहा था फिर मैंने मम्मी की गांड के छेद पर जीभ फिर दी जीभ के गांड के छेद पर लगते ही मम्मी पीछे देखने लगी और हसने लगी।

मम्मी – बेटा तू मेरे पीछे भी चाट लेता है तुझे अजीब नहीं लगता है।

मैं – नहीं मम्मी बल्कि मुझे तो बहुत अच्छा लगता है वैसे क्या पापा ने कभी ऐसा नहीं किया?

मम्मी – नहीं बेटा तेरे पापा ने सिर्फ आगे थोड़ा बहुत किया है मगर पीछे कभी नहीं किया है।

मैं – वैसे मम्मी आपको तो अच्छा लगता है न जब मैं आपकी चुत और गांड को चाटता हु।

मम्मी – हा बेटा बहुत अच्छा लगता है काश मैं ये बात अपनी एक फ्रेंड को बता पाती जो अपनी सेक्स की बाते कर कर के मुझे जलाती है। Maa Ki Chudai Stories

Maa ki chudai story

मैं – ये कोण सी फ्रेंड है मम्मी जो आपको जलाती है और वह किसके साथ सेक्स करती है।

मम्मी – बेटा ये वह निशा आंटी है जो हमारे घर भी आ चुकी है जानता है वह आपने भांजे के साथ सेक्स करती है और हमेशा मुझे बताती थी की कैसे उसका भांजा उसकी नीचे चाट चाट के उसे खुस करता है सच कहु जब उस दिन तूने मेरे नीचे चाट चाट के मुझे संतुष्ट कर दिया था तब मैं समझी थी की मेरी फ्रेंड आपने भांजे की इतनी तारीफ क्यों करती है।

काश मैं उसे बता पाती की मेरा बेटा उसके भांजे से भी जयादा अच्छा है।

मैं – हा मम्मी ये तो है हम ये बात किसी को बता नहीं सकते है मगर मैं तो आपके साथ ऐसे ही खुस हु।

मम्मी – बेटा मैं भी तेरे साथ खुस हु मम्मी की गांड की मालिश करते करते मैंने आपने अंगूठा मम्मी की गांड में घुसा दिया और उन्होंने तुरंत पीछे देखा तो मैंने स्माइल करके दिखा दिया कुछ देर मम्मी की गांड की मालिश करने के बाद वह सीधी लेट गयी और मैं उनके पेट पर आ गया।

फिर मैंने मम्मी की चूचियों पर तेल डाल दिया और अब मैं मम्मी की चूचियों को मसलने लगा और मम्मी मुझे देखकर स्माइल करने लगी मम्मी की चूचियों की मालिश करते हुए।

मैं उनके पेट से होता हुआ उनकी चुत पर आ गया और मैंने तेल मम्मी की चुत पर डाल दिया।

फिर मैं मम्मी की चुत को मसलने लगा चुत को मसलने से मम्मी आहे भरने लगी मम्मी अब पूरी तरह गरम हो चुकी थी और मुझे भी मालिश करते हुए काफी टाइम हो गया था।

फिर मैंने मम्मी की टाँगे पकड़ के फैला दी और मम्मी ने खुद मेरा सर अपनी चुत पर लगा दिया और मैं मम्मी की चुत चाटने लगा अभी बस कुछ ही देर हुई थी की तभी मम्मी के मोबाइल पर कॉल आने लगी मम्मी ने मोबाइल उठा के देखा तो वह कॉल पापा का था।

मगर मम्मी ने उसे साइलेंट करके रख दिया फिर से मेरा सर अपनी चुत पर दबाने लगी मगर फिर से पापा कॉल करने लगे और मम्मी ने मेरी तरफ देखा तो मैंने मम्मी के हाथ से मोबाइल लेके कॉल उठा लिया और उसे स्पीकर ऑन  करके मम्मी की चूचियों पर रख दिया। Maa Ki Chudai Stories

Maa ki chudai ki kahani

मम्मी ने एक दम से मुँह खोल के चौकने वाला मुँह बनाया मगर मैं उन्हें देखकर हसने लगा तभी पापा बोले।

पापा – क्या हुआ डार्लिंग? कॉल क्यों नहीं उठा रही थी?

मम्मी – अरे मैं बाथरूम गयी थी इसीलिए नहीं उठा पायी मम्मी पापा से बात करने लगी और तभी मैंने मम्मी की चुत पर मुँह लगा दिया और मैं बड़े प्यार से उनकी चुत चाटने लगा मम्मी मेरा सर अपने हाथ से हटा रही थी और साथ के साथ पापा से बात कर रही थी।

पापा – डार्लिंग शायद आज रात को मैं आ नहीं पाउँगा हो सकता है बॉस दूसरे सिटी भेज दे इसीलिए सोचा कॉल करके बता दू जब पापा मम्मी से ये बात बोल रहे थे तब मेरी जीभ मम्मी की चुत के अंदर घूम रही थी और वह अपने मुँह पर हाथ रखकर खुद की आवाज को दबा रही थी और साथ ही साथ मुझे आँख भी दिखा रही थी।

मम्मी – ठीक है जी जैसे भी हो आप मुझे शाम तक कॉल करके बता देना वैसे आपने खाना खा लिया, मम्मी मुझे आँखे दिखाने लगी और तभी मैं रुक गया।

पापा -हा  अभी अभी खाना खाके हटा हु तो सोचा तुम्हे जाने के बारे में बता देता हु वैसे अभी कहा है।

मम्मी – वह आपने कमरे में खाके पढ़ रहा है मम्मी की ये बात सुनते ही मैं हसने लगा और मम्मी भी मुझे हस्ते देखकर स्माइल करने लगी हम दोनों पापा के ऊपर हस  रहे थे अब उन्हें क्या पता की मैं इस वक़्त मम्मी की चुत चाट रहा था।

पापा – चलो ठीक है तुम भी आराम करो अगर मैं शाम को कॉल न करू तो समझ लेना की मैं बहार चला गया हु मम्मी ने जल्दी से कॉल काट दिया और मोबाइल उठके साइड में रख दिया फिर उन्होंने मेरी तरफ देखा और बोली।

मम्मी – बेटा तू पागल हो गया है क्या? तेरे पापा मुझसे बात कर रहे है और तू मेरे मेरे नीचे चाट रहा है अगर तेरे पापा को पता चल जाता तो।

मैं – अरे मम्मी कैसे पता चल जाता पापा ने वीडियो कॉल थोड़ी की थी उन्हें कहा दिखाए देता।

मम्मी – अरे बेटा दिखाई नहीं देता मगर सुनाई तो देता तू जानता है मैं कितनी मुश्किल से खुद की आवाज को दबा रही थी और तू ऊपर से ये सब कर रहा था।

मैं – वैसे मम्मी मैंने ये देखा है जब भी आपको पापा का डर होता है तो आपकी चुत कुछ जयादा ही गीली हो जाती है।

मम्मी – है है तुझसे तो सिर्फ बाते बनवा लो। Maa Ki Chudai Stories

Maa ki chudai hindi

मैं – मम्मी वैसे पापा बहार कुछ जयादा ही रहते है मुझे तो लगता है उनका बहार चक्कर चल रहा है।

मम्मी – बेटा लगा तो मुझे भी था मगर इस बात का कोई सबूत नहीं है मगर शक तो मुझे भी है वैसे अब मुझे इस बात से कोई फरक नहीं पड़ता और अब तो तू भी मेरे साथ ही है अब तेरे पापा जितना बहार रहेंगे हम दोनों उतना साथ रह पाएंगे।

मैं – वैसे मम्मी मेरा तो मन करता है एक दिन आपको सारा दिन और सारी रात नंगा रखु और पूरी रात आपको सोने न दू।

मम्मी – (आपने सर पर हाथ मरते हुए) हे भगवान् पता नहीं तू क्या क्या सोचता है? अब जो शुरू किया है पहले उसे ख़तम कर।

मैं – मम्मी क्यों न हम दोनों 69 पोजीशन करे?मुझे लगा मम्मी को 69 पोजीशन पता नहीं होगा इसीलिए मैं उन्हें जैसे ही समझने लगा मम्मी ने मुझे बेड पर गिरा दिया और खुद मेरे ऊपर आ गयी और अपनी गांड मेरे मुँह पर रखकर मेरा लंड चूसने लगी।

मैं जितना सोचता था मम्मी उससे कही गुना जयादा आगे थी मम्मी मेरा लंड चूसने लगी और मैं मम्मी की गांड और चुत पर अपनी जीभ चलाने लगा।

मम्मी लंड चूसने में सच मे  बहुत माहिर थी वैसे कम तो मैं नहीं था हम दोनों एक दूसरे को चूस चूस के मज़े दे रहे थे।

फिर जब मम्मी का पानी निकलने ही वाला था तो उन्होंने मेरा लंड छोड़ दिया और वह सीधी होक मेरे मुँह पर अपनी चुत रगड़ने लगी और कुछ ही देर में उनका पानी निकल गया और वह निढाल होक मेरे ऊपर गिर गयी मैं ऐसे ही नीचे लेटा रहा।

फिर मम्मी मेरे ऊपर से उठ गयी मैं भी बेड से उठ गया तभी मम्मी ने मेरा हाथ पकड़ लिया और वह फिर से मेरा लंड चूसने लगी।

मैं बेड के नीचे खड़ा था और मम्मी बेड पर झुकी झुकी मेरा लंड चूस रही थी मम्मी का मुँह मुँह नहीं बल्कि एक वैक्यूम क्लीनर था जो मेरा लंड को अंदर खींच रहा था मम्मी की गीली जीभ जब मेरे लंड के सुपडे पर घूम रही थी तो क्या बताऊ दोस्तों मुझे कितना मज़ा आ रहा था।

मेरे लिए खुद को रोकना मुश्किल हो रहा था फिर जैसे ही मेरा पानी निकलने वाला था तब मैं अपना लंड निकलने लगा मगर मम्मी उसे छोड़ ही नहीं रही थी।

मैं – मम्मी मेरा निकलने वाला है मेरा निकलने वाला है मम्मी मेरी ये बात मम्मी से जोर से बोली मगर उन्होंने फिर भी मेरा लंड नहीं छोड़ा फिर मैंने भी अपना लंड मम्मी के मुँह में घुसना शुरू कर दिया। Maa Ki Chudai Stories

Maa ki chudai hindi mein

फिर कुछ ही झटको के बाद मेरे लंड का पानी मम्मी के मुँह में निकल गया और मम्मी अभी भी मेरा लंड चूस रही थी मुझे लगा मम्मी मेरा पानी अब थूकने जाएगी मगर जब उन्होंने मेरा लंड बहार निकला तो उसके बाद वह मेरा सारा पानी पे गयी मम्मी को देखकर मुझे राय लेने नाम की पोर्नस्टार याद आ गयी।

जो हमेशा से मेरी फेवरेट है और मम्मी बिलकुल उसी की तरह लग रही थी मम्मी ने मेरे पानी की एक एक बूँद तक चाट ली और उसके बाद उन्होंने मेरा लंड भी चाट के साफ़ कर दिया जब सब कुछ शांत हुआ तो मम्मी मुझे देखने लगी और मैं उन्हें बस आँखे फाड़े देख रहा था।

आज मम्मी बिलकुल आउट ऑफ़ कण्ट्रोल हो गयी थी मम्मी भी समझ गयी थी की मैं उन्हें ऐसे क्यों देख रहा था फिर मम्मी बेड से उतर गयी और वह टॉयलेट जाने लगी तभी मैंने उनका हाथ पकड़ लिया और उन्हें अपने पास खींच के अलमारी से लगा दिया।

फिर हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूसने लगे मम्मी और मैं एक दूसरे में खो गए थे फिर कुछ देर बाद हम दोनों अलग हो गए।

मैं – आई लव यू मम्मी आई लव यू सो मच।

मम्मी – आई लव यू तू मेरा बच्चा, फिर मम्मी टॉयलेट करने चली गयी मगर ऐसा कैसे हो सकता है की वह जाये और मैं न जाऊ मैं भी उनके पीछे टॉयलेट में चला गया और जैसे ही मम्मी ने मुझे देखा उन्होंने आपने माथे पर हाथ मारा और मुझे देखकर हसने लगी।

मम्मी जैसे ही टॉयलेट करके जेट स्प्रे उठाने लगी तो उन्होंने मुझे देखा और मैंने उन्हें ना  में गर्दन हिला के इशारा किया।

तब मम्मी ने जेट स्प्रे रख दिया और वह ऐसे ही मेरे पास आ गयी और मेरे पास आते ही उन्होंने मेरे कंधे पर हाथ रखा मुझे नीचे बिठा दिया फिर मैंने बड़े प्यार से मम्मी की मूत भरी चुत को चाट के साफ़ कर दिया और मम्मी कुछ देर आँखे बंद करके खड़ी रही।

मम्मी की चुत साफ़ करने के बाद हम दोनों बहार आ गए फिर मम्मी ने सूट निकाल के पहन लिया और मैंने भी अपना कच्चा पहन लिया। Maa Ki Chudai Stories

Maa ki chudai sex story

फिर हम दोनों ने पास्ता खाया और पास्ता खाके हम दोनों बैडरूम में आ गए और मम्मी पीछे तकिया लगा के बैठ गयी और टीवी देखने लगी और मैं उनकी गोदी में सर रखकर लेट गया मम्मी टीवी देख रही थी और उनकी चूचिया मेरे मुँह पर आ रही थी।

जिसे मैं सूट के ऊपर से जीभ लगाके चाट रहा था मम्मी मुझे ऐसा करता देख रही थी मगर कुछ कह नहीं रही थी तभी मैं बोला।

मैं – मम्मी आपको याद है मैं बचपन में ऐसे ही लेटकर आपका दूध पीता था।

मम्मी – ये भी कोई भूलने की बात है बेटा मुझे अच्छी तरह याद है एक माँ आपने बेटे के साथ बिताया हर पल याद रखती है।

मैं – मम्मी मेरा मन कर रहा है मैं फिर से बच्चा बन जाऊ और ऐसे ही आपकी गोदी में लेटकर आपका दूध पीयू।

मम्मी – बेटा तो तू अब कोनसा छोड़ देता है अब तो तू मेरा दूध ही नहीं बल्कि और भी बहुत कुछ चूसने लगा है मम्मी ने मेरे मन की बात जान ली और उन्होंने अपना सूट ऊपर कर दिया और ऊपर होते ही मम्मी की दोनों चूचिया बहार निकल आयी और मैं बड़े प्यार से लेटे लेटे  मम्मी की चूचिया चूसने लगा।

मम्मी बिलकुल आराम से बैठकर टीवी देख रही थी और मेरे बालो में हाथ फेर रही थी और मैं मम्मी की चूचिया खींच खींच के चूस रहा था मम्मी की चूचिया चूसते हुए मेरा लंड खड़ा हो चूका था और मैंने अपना कच्छा निकाल के बेड के नीचे डाल दिया और अब मम्मी मेरा खड़ा लंड देखने लगी।

कुछ देर वह सिर्फ मेरा लंड देखती रही फिर जब उनसे रहा नहीं गया तो उन्होंने मेरा लंड पकड़ लिया और वह उसे ऊपर नीचे करने लगी मुझे मम्मी की चूचिया चूसते हुए और अपना लंड हिलवाने  में बहुत मज़ा आ रहा था।

फिर कुछ देर बाद मम्मी ने टीवी बंद कर दिया और वह बोली।

मम्मी – बेटा मुझे नींद आ रही है तू भी थोड़ी देर सो जा अब मम्मी की बात सुनके हम दोनों लेट गए और मैंने मम्मी को पीछे से पकड़ लिया मेरा लंड मम्मी की गांड पर लग रहा था तभी वह बोली। Maa Ki Chudai Stories

Maa ki chudai dekhi

मम्मी – बेटा अगर तेरा ये एनाकोंडा ऐसे ही मेरे गांड पर लगता रहेगा तो मैं कैसे सो पाऊँगी।

मैं – मम्मी मैं क्या करू? ये खुद बा खुद खड़ा हो जाता है अब इसमें मेरा क्या दोष है? मम्मी ने मेरा लंड अपनी दोनों जांघो के बीच में दबा लिया फिर वह सोने लगी और मैं भी उनके साथ सो गया उसके बाद मैंने उन्हें परेशां नहीं किया शाम को लगभग 6 बजे मेरी आँख खुली तो मैंने देखा मम्मी बेड पर नहीं थी।

फिर मैं बेड से उठा और अपना कच्चा उठा के पहन लिया फिर मैं सीधा किचन में गया जहा मम्मी नाइटी पहने खड़ी हुई थी मम्मी मुझे देखकर मुस्कुराने लगी और मैंने जाते ही मम्मी को पकड़ लिया और वह मेरे गाल पर हाथ फेरने लगी।

मम्मी – उठा गया मेरा बच्चा मुहाहह।

मैं – वैसे मम्मी आज अभी से नाइटी पहन ली क्या बात है?

मम्मी – बेटा गर्मी हो रही थी इसीलिए पाहन ली वैसे तू भी तो नाइटी पहनने को कहता है मैं मम्मी की निघ्त्य को ऊपर करने लगा और निघ्त्य ऊपर होते ही मुझे मम्मी की गांड दिखने लगी।

आज मम्मी ने पेंटी भी नहीं पहनी थी।

मैं – मम्मी आज अपनी पेंटी भी नहीं पहनी है।

मम्मी – बेटा पेंटी पहनने का क्या फायदा? तो हर 5 मिनट बाद तो मेरी पेंटी निकाल देता है और वैसे भी अब तू सब कुछ तो देख ही चूका है तो मैं पेंटी पह्नु या न पह्नु एक ही बात है मैं मम्मी की गांड को दबाने लगा और नीचे बैठकर उनकी गांड को चाटने लगा तभी मम्मी बोली। Maa Ki Chudai Stories

Maa ki chudai stories

मम्मी – बेटा अभी मत कर वैसे भी आज रात तेरे पापा नहीं आएंगे तो हमारे पास बहुत टाइम होगा, मम्मी का आईडिया मुझे अच्छा लगा मतलब आज रात मेरी चांदी चांदी है।

मैं – मम्मी आज पूरी रात आपको सोने नहीं दूंगा और ये रात हम दोनों की यादगार रात होगी मम्मी मेरी बात सुनके स्माइल करने लगी।

फिर हम दोनों चाय पीने लगे और मैं आज बहुत ही जयादा खुस था की आज पूरी रात मैं मम्मी की चुदाई करूँगा चाय पीने के बाद मैं काम से बहार चला गया और मम्मी भी अपना काम करने लगी रात के 9 बजे मैं वापस आया।

तब मम्मी टीवी देख रही थी और मैं आके मम्मी की गोदी में लेट गया फिर कुछ देर टीवी देखने के बाद 7 बजे हम लोग खाना खाने लगे खाना खाके मम्मी किचन में चली गयी और मैं सोफे पर बैठा टीवी देखने लगा।

फिर कुछ देर बाद मम्मी भी आ गयी और वह मेरी बाहो में आके बेथ गयी और हम दोनों टीवी देखने लगे 10 बजते ही मम्मी सोफे से उठ गयी और अपने कमरे में जाने लगी। उन्होंने पीछे मूड के मुझे देखा और बोली,

मम्मी – बेटा दरवाजा ठीक से बंद कर दे और कमरे में आ जा मम्मी की बात सुनते ही मैंने दरवाजा चेक किया और उसे ठीक से बंद कर दिया और सारी लाइट बंद करके मैं मम्मी के कमरे में चला गया और जैसे ही मैंने दरवाजा खोला मेरा मुँह खुला का खुला रह गया मम्मी ने वही नाइटी पहनी हुई थी जिसमें मैंने उन्हें किचन में देखा मम्मी बहुत ही सेक्सी लग रही थी और मैं उन्हें देखता ही जा रहा था और मम्मी मुझे देखकर स्माइल कर रही थी। Maa Ki Chudai Stories

Maa ki chudai sex stories

फिर मैं मम्मी के पास गया और उनकी गांड को पकड़ के उन्हें गोदी उठा लिया और उन्होंने भी अपनी टाँगे मेरी कमर में बांध ली मम्मी और मैं एक दूसरे के होंठों चूसने लगे और मैं हवा में ही उनकी गांड दबाने लगा।

कुछ देर होंठों को चूसने के बाद मम्मी ने मेरी टी शर्ट निकाल दी फिर मैंने अपनी पेण्ट और अंडरवियर निकाल दिया और मम्मी मेरा लंड सहलाने लगी।

मैं – मम्मी आपने ये नाइटी कब पहनी अभी तो आप दूसरी नाइटी में थी।

मम्मी – बस अभी ही पहनी है तेरे लिए ये नाइटी तेरे पापा लेके आये थे और तू उस दिन मुझे इसी नाइटी में देखे ही जा रहा था इसीलिए मैंने सोचा तेरे लिए पहन लेती हु।

मैं – मम्मी इसमें तो आपकी गांड बहुत सेक्सी लग रही है मम्मी ने मेरे दोनों हाथ पकड़ के अपनी गांड पर रख दिया और मैं खड़ा खड़ा मम्मी की गांड को दबाने लगा और वह मेरे गले में हाथ डालके मेरे होंठों को चूसने लगी।

तो दोस्तो आज इस कहनी मे बस इतना ही।

इस कहानी का पिछला भाग पढ़ने के लिए:—> माँ की सालगिरह पर की माँ की चुदाई 6

हमारी वैबसाइट से चुदाई की मस्त कहानिया पढ़ने के लिए यहा क्लिक करे-> www.xstory.in

Read More Sex Stories…

One Reply to “माँ की सालगिरह पर की माँ की चुदाई 7”

  1. Pingback: माँ की सालगिरह पर की माँ की चुदाई 8 Maa Beta Ki Chudaii

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *