By | May 10, 2023

Papa ki saamne Meri Sagi Mummy ki chudai :-हैलो दोस्तो, मुझे उम्मीद है आपको इस कहानी के पिछला भाग बहुत पसंद आया होगा और अगर आपने अभी तक इस कहानी के पिछले भाग नहीं पढे तो यहा क्लिक करके पढ़ सकते है।
ये भी पढे-> कामवाली ने कारवाई माँ की चुदाई 5

आंटी -भाभी जब मेरा पति सोता रहता है तो देर रात मेरा बेटा मुझे ऊपर ले जाता है और खुले आसमान के नीचे हम दोनों प्यार करते है।

मम्मी – तुझे डर नहीं लगता की अगर किसी ने देख लिया तो क्या होगा?

आंटी – भाभी रात के 2 बजे कोन छत पर होता है और वैसे भी मेरे घर की छत से कुछ नहीं दीखता है।

मम्मी – कोमल तू तो बहुत आगे निकल चुकी है।

Papa ki saamne Meri Sagi Mummy ki chudai

आंटी – भाभी एक टाइम था जब महीनो निकल जाते थे और मेरा पति मुझे हाथ तक नहीं लगाता था और लगाता भी था तो मेरी गर्मी नहीं निकाल पाता था मगर अब मुझे अपने पति की जरुरत ही महसूस नहीं होती।

क्युकी अब मेरा बेटा मेरी सारी गर्मी निकाल देता है जब भी हम दोनों अकेले होते है तो वह शुरू हो जाते है और मुझे भी बहुत सुकून मिलता है वैसे भाभी विशाल बेटे ने भी तो आपको बहुत मज़ा दिया होगा मम्मी आंटी की बात सुनके नीचे देखने लगी ।

आंटी – भाभी इसके बारे में जयादा सोचो मत अब ये सब होता ही रहेगा और मैं ये जानती हु की आपको भी अंदर से बहुत मज़ा आया है बस वह आपका बेटा है इसिलए आपको ऐसा लग रहा है

अब ये सब भूल जाओ और खुल के अपने बेटे का साथ दो आंटी अपना काम करके निकल गयी और मैं भी उनके पीछे निकल गया और रस्ते में आंटी को रोक लिया।

आंटी – अब तो तू खुश है न अपनी मम्मी की चुदाई करके।

मैं – हा आंटी सच में बहुत मज़ा आया मगर अभी वह खुल के साथ नहीं दे रही है मगर बीच बीच में वह भी मज़े लेती है।

आंटी – बेटा वह तेरी मम्मी है ये सब उनके लिए एक दम नया है अपने ही बेटे से अपनी गर्मी शांत करवाना ये कोई माँ नहीं सोच सकती है मगर मैंने भी भाभी को समझाया है और वह जल्द ही मान जाएगी।

वैसे भी आज उन्हें देखकर लग रहा था की तूने कितने अच्छे से उनकी गर्मी निकाली है और तेरा ये लंड जो लेले वह इसके बिना कहा रह पायेगी वैसे तू मुझे तो नहीं भूला है न ।

मैं – आपको कैसे भूल सकता हु आंटी ये सब आपकी वजह से ही तो हुआ है आप न होती तो मैं ये कभी नहीं कर पाता सुक्रिया वैसे आंटी अपनी सीक्रेट वाली जगह पर मिलेते – ठीक है तू पाउच मैं आ रही हु मैं अपनी सीक्रेट जगह पाउच गया जो टूटे फूटे रेलवे फाटक पर थी. Papa ki saamne Meri Sagi Mummy ki chudai

Meri mummy ki chudai ki kahani

जिनमें कोई रहता नहीं था और रात को वह कोई नहीं आता था मैं जल्दी से उस कमरे में चला गया और कुछ देर बाद आंटी भी आ गयी आंटी के आते ही हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूसने लगे फिर आंटी मेरा लंड हलाने लगी।

मैं – आंटी आपने जो अपने बेटे से चुदवाने वाली बात मम्मी से कही है क्या वह सब सच है?

आंटी – हा बेटा वह सब सच है इसीलिए जब तूने मुझे अपनी मिम्मी को चोदने बात बोली तब मैं समझ गयी की तू भी मेरे बेटे की तरह ही है इसीलिए मैंने तेरी मदद कर दी।

मैं – वहा आंटी मतलब आपका बेटा आपको बहुत चोदता – हा बेटा हा मुझे चोदता भी जब उसका मन करता है वह बस मुझे चोदता है उसी ने मुझे चोद चोद लंड की आदत लगा दी है इसीलिए अब मैं पैसे लेके भी चुदवा लेती हु आंटी मेरा लंड चूसने लगी और मुझे भी मज़ा आने लगा और फिर मैं आंटी को चोदने लगा और उन्हें भी मज़ा आने लगा।

मैं – वाह आंटी आप तो छुपी रुस्तम निकली अपने ही बेटे से चुदवा रही थी और मुझे भी ये बात नहीं बताई।

आंटी – बेटा ये बात किसी को बताने की थोड़ी होती है मगर तेरे लिए तेरी मम्मी को ये बात बता दी ताकि वह भी खुल के आपने बेटे के साथ मज़ा कर सके अब तू भी जब चाहे अपनी मम्मी की चुदाई कर सकता है और अब तू मेरा भी पीछा छोड़ देगा।

मैं – नहीं आंटी आपको तो मैं बिलकुल नहीं छोडूंगा आप मेरी गुरु हो और हमेशा मेरी गुरु ही रहोगी फिर मैं आंटी की चुदाई करके घर वापस आ गया और गेट मम्मी ने खोला मम्मी गेट खोल के वापस किचन मैं चली गयी और मैं भी किचन में आ गया मम्मी आपने काम में लगी हुई थी मगर मैं जानता था की वह मुझे ही देख रही है मैं मम्मी के पास गया और उन्हें पीछे से पकड़ के उनकी चूचिया दबाने लगा और उनकी गर्दन को चूमने लगा तभी मम्मी बोल पड़ी।

मम्मी – बेटा तेरे पापा आने वाला होंगे और तू ये सब कर रहा है

मैं – मम्मी पापा जब आएंगे तो मैं हैट जाऊंगा वैसे भी पापा आके भी आपको प्यार थोड़ी करेंगे मगर मैं तो सिर्फ आपको प्यार करना चाहता हु मैंने आपने हाथ मम्मी की कुर्ती के अंदर डाल दिया और उनकी चूचिया मसलने लगा।

मैं – मम्मी मैं आपको बहुत प्यार करता हु और मैं जानता हु की आप भी मुझे बहुत प्यार करती है बस मैं आपका बेटा हु इसीलिए आपको ये सही नहीं लग रहा है Papa ki saamne Meri Sagi Mummy ki chudai

मम्मी ने मेरी बात का कोई जवाब नहीं दिया मगर उन्होंने मुझे रोका भी नहीं फिर मैंने मम्मी को सीधा किया और मैं नीचे बैठकर उनकी नाभि को चाटने लगा मेरी जीभ मम्मी की नाभि में घूम रही थीऔर मम्मी आँखे बंद किये इस सब का मज़ा ले रही थी मैंने मम्मी की नाभि चाट चाट के उनका पेट गिला कर दिया और फिर मैंने मम्मी की लेग्गिंग और पेंटी नीचे कर दी और उनकी गांड को पकड़ के मैं सामने से ही उनकी चूत चाटने लगा मम्मी की चूत का निकला हुआ चमड़ा मैं खींच खींच के चूस रहा था

और मम्मी आँखे बंद किये खड़ी हुई थी कुछ देर चूत चाटने के बाद मैंने मम्मी को झुका दिया और फिर अपना लंड निकाल के मम्मी की चूत पर लगा दिया।

मम्मी – बेटा तेरे पापा आने वाले है प्लीज अभी ये मत कर कही वह हमें देख न ले मगर मैंने मम्मी की बात नहीं सुनी और अपना लंड मम्मी की चूत में डाल दिया जैसे ही मेरा पूरा लंड अंदर गया तो मम्मी के मुँह से अह्ह्ह की आवाज निकली और मैं मम्मी की गांड को पकड़ के धक्के लगाने लगा।

Sagi mummy ki chudai ki story

जैसे ही मेरा पूरा लंड अंदर जाता तभी मम्मी आह्हः आहहा करने लगती शायद मेरा लंड अंदर कही टच होता था तभी मम्मी की अह्ह्ह निकल जाती थी और मैं दना दन धक्के लगाए ही जा रहा था और मम्मी डर रही थी ।

मम्मी – बेटा आहा जल्दी कर ले तेरे पापा आह्हः आने ही वाले अहह है।

मैं – मम्मी पापा जब आएंगे तो मैं हैट जाऊंगा अभी आप पापा को भूल जाओ और मेरे लंड का मज़ा लो वैसे भी पापा आके कोनसा आपको प्यार करने वाले है।

थोड़ी देर धक्के लगाने के बाद मैंने फिर लंड निकाल लिया और मम्मी की गांड और चूत चाटने लगा मम्मी की चूत बहुत ही गरम थी जिसे चाट चाट के मैं ठंडी कर रहा था मैंने फिर से अपना लंड चूत में डाल दिया और इस बार धक्के लागते हुए मैंने मम्मी की गांड पर एक जोरदार थप्पड़ मारा जिससे मम्मी के मुँह से जोर से अह्ह्ह निकल गयी और पुरे किचन में थाप की आवाज गूंज गयी मम्मी ने तुरंत पीछे मूड के देखा मगर वह सिर्फ मुझे देखते रही मुझे कुछ कहा नहीं और मैंने फिर से मम्मी की गांड पर थप्पड़ मार दिया और मम्मी के मुँह से फिर से आह्हः की आवाज निकल गयी मुझे बहुत मज़ा आ रहा था

मैं तेज तेज धक्के लगा रहा था और फिर कुछ ही देर में मम्मी का पानी निकल गया और वह किचन की स्लैप पर ही झुक गयी मेरा लंड अभी भी अंदर ही था और फिर जैसे ही मैं धक्के लगाने ही वाला था तभी घंटी बज गयी मैंने तुरंत अपना लंड बहार निकाल लिया और मम्मी भी अपने कपडे ठीक करने लगी मेरा लंड खड़ा ही था और मम्मी उसे देख रही थी।

मम्मी – बेटा जल्दी से कपडे ठीक कर ले और अपने कमरे में जा Papa ki saamne Meri Sagi Mummy ki chudai

मैं – मम्मी मेरा पानी अभी निकला नहीं है।

मम्मी – बेटा तो क्या अब अपने पापा के सामने ऐसा करेगा अभी अपने कमरे में जा फिर मैं अपने कमरे में आ गया और कुछ देर बाद ही मेरा लंड भी शांत हो गया और फिर मैं बहार आया और पापा से बात करने लगा मम्मी मुझे ही देख रही थी की कैसे अभी कुछ देर पहले मैं उन्हें चोद रहा था और अभी कितना सीधा साधा बच्चा बनके बैठा हु।

फिर कुछ देर बाद हम सब ने खाना खा लिया पापा भी अपने कमरे में चले गए और लेटकर टीवी देखने लगे और मम्मी ने भी अब मैक्सी पहन ली जो वह सोने के लिए पहनती है और फिर वह किचन में सारी सब्जिया निकाल के फ्रिज में रख रही थी और जैसे ही मम्मी किचन से बहार आयी मैं उनका हाथ पकड़ के अपने कमरे में ले गया।

मम्मी – क्या कर रहा है बेटा? तेरे पापा यही है और तू फिर से ये सब कर रहा है।

Desi mummy ki chudai ki kahani

मैं – मम्मी पापा जाके लेट चुके है और वह टीवी देख रहे है अब वह बहार नहीं आएंगे।

मम्मी – बेटा समझा कर कही वह बहार आ गए तो हमारी खैर नहीं है अभी ये सब मत कर ।

मैं – मम्मी आप डरो मत पापा नहीं आने वाले ।

मम्मी – प्लीज बेटा समझा कर अभी ये सब मत कर मगर मैंने मम्मी की एक न सुनी और अपने कमरे का दरवाजा बंद कर लिया और मम्मी को दीवार से लगा दिया और फिर मैं मम्मी के होंठों को चूसने लगा मगर कुछ ही देर बाद मम्मी पीछे हो गयी

मम्मी – बेटा मुझे बहुत डर लग रहा है कही तेरे पापा न आ जाये।

मैं – मम्मी पापा तो आज तक आये नहीं तो अब क्यों आएंगे? आप डरो मत मैंने मम्मी की मैक्सी में हाथ डाल दिया और मम्मी की चूत पर हाथ लगते ही मुझे झटका लगा क्युकी मम्मी ने सारे बाल साफ़ कर दिए थे और आज उन्होंने पेंटी भी नहीं पहनी थी मैं नीचे बैठ गया और मम्मी की चूत देखने लगा मम्मी की चूत एक दम नए नवेली दुल्हन लग रही थी जिसे आज तक किसी ने हाथ भी न लगाया हो।

मैं – मम्मी आपने बाल कब साफ़ कर दिए मम्मी ने कोई जवाब नहीं दिया और वह अपनी मैक्सी नीचे करने लगी मगर मैंने मम्मी की मैक्सी फिर ऊपर कर दी।

मैं – मम्मी आपकी चूत बिना बालो के बहुत अच्छी लग रही है मगर आपने ये साफ़ कब किये बताओ न।

मम्मी – जब तेरे पापा आये थे उसके बाद साफ़ कर दिए थे मैंने मम्मी की चूत को चुम लिया और फिर उन्हें झुका दिया अब मम्मी की चूत पहले से भी जयादा हसीं लग रही थी मैंने मम्मी की मैक्सी उनकी गांड पर पलट दी और अपना लंड उनकी चूत पर लगा दिया अब मैं लंड अंदर डालने लगा मगर मैं बार बार लंड नीचे कर दे रहा था मैंने 2 से 3 बार ऐसा किया और फिर मम्मी ने खुद मेरा लंड पकड़ के अपनी चूत में डाल लिया और मैंने अपना लंड पूरा अंदर डाल दिया जैसे ही मेरा पूरा लंड अंदर गया मम्मी ने अपने मुँह पर हाथ रख लिया Papa ki saamne Meri Sagi Mummy ki chudai

और मैं उनकी गांड पकड़ के चुदाई करने लगा।

मम्मी – बेटा जल्दी से कर ले मुझे बहुत डर लग रहा है मैं धक्के लगाए जा रहा था और सच में पापा के रहते हुए मम्मी की चुदाई करने में बहुत मज़ा आ रहा था मैंने मैक्सी के अंदर हाथ डाल के मम्मी की चूचिया पकड़ ली और मम्मी की चूचिया मसलते हुए उनकी चुदाई करने लगा मम्मी अपने मुँह पर हाथ रखे हुए खुद की आवाज रोक रही थी और मैं बड़े मज़े से मम्मी की चुदाई कर रहा था पापा का डर मुझे भी लग रहा था।

मगर उस डर से जयादा मुझे मम्मी की चुदाई करने में मज़ा आ रहा था मम्मी इस सब को जल्दी ख़तम करना चाहती थी।

मम्मी – बेटा जल्दी कर ले तेरा हुआ नहीं अभी तक क्या?

मैं – मम्मी आप तो जानती ही हो की जब तक मैं आपका पानी न निकाल दू तब तक मेरा नहीं होता है।

जैसे दोपहर में आपकी गर्मी शांत की थी वैसे ही अभी भी करूँगा ताकि आपको नींद भी अच्छी आये मैं दना दन धक्के लगाए जा रहा था और मम्मी मुझे जल्दी जल्दी करने को कह रही थी और कुछ ही देर बाद मम्मी का पानी निकल गया और वह हाफने लगी फिर मैं भी धक्के लगता रहा और मैंने अपना पानी साइड में गिरा दिया मम्मी अपनी चूत मैक्सी से साफ़ करने लगी और मैंने भी अपना लंड अंदर कर लिया फिर मम्मी जाने लगी मगर तभी मैंने उनका हाथ पकड़ लिया।

Mummy ki chudai ki kahani

मम्मी – बेटा क्या कर रहा है? अब जाने दे मुझे।

मैं – मम्मी पहले बताओ की आपको मज़ा आया या नहीं वरना मैं आपको जाने नहीं दूंगा।

मम्मी – बेटा ये क्या पूछ रहा है तू? इस सब का क्या मतलब है?

मैं – बस मम्मी मैं जानना चाहता हु की आपको भी मज़ा आ रहा है या आप बस मेरा मन रखने के लिए कर रही हो मम्मी समझ गयी की जब तक मुझे मेरे सवाल का जवाब नहीं मिलेगा तब तक मैं उन्हें जाने नहीं दूंगा।

मम्मी – हा बेटा मुझे भी बहुत अच्छा लगा।

मैं – अब ठीक है मम्मी बस अब जाने से पहले मुझे एक किश दे दो।

मम्मी – बेटा प्लीज अब जाने दे मुझे तेरे पापा न आ जाये।

मैं – मम्मी तभी तो कह रहा हु एक किश दे दो और चली जाओ मम्मी ने मेरे गाल पर एक किश कर दिया।

मम्मी – बस अब हो गया अब जाने दे मुझे।

मैं – मम्मी गाल पर तो छोटे बच्चे को किश करते है मुझे तो आपके ये रस भरे होंठों को चूसना है अब मम्मी के सबर का बांध टूट गया और उन्होंने अपना हाथ छुड़ाया और मुझे किश करने लगी इस बार हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूस रहे थे और 2 मिनट तक किश करने के बाद मम्मी चली गयी Papa ki saamne Meri Sagi Mummy ki chudai

फिर मैं भी आके बेड पर लेट गया और थोड़ी ही देर बाद मुझे भी नींद आ गयी और सुबह थोड़ी देर से मेरी आँख खुली और फिर मैं बहार आया मैंने देखा पापा नास्ता कर रहे थे और मम्मी अभी भी मैक्सी में ही बैठी थी फिर मैंने जाके ब्रश कर लिया और फिर सोफे पर जाके बैठ गया।

मम्मी मुझे ही देख रही थी और मैं बस पापा के जाने का इंतजार कर रहा था फिर कुछ देर बाद पापा उठे और निकलने लगे मम्मी भी उठ गयी और वह दरवाजा बंद करने चली गयी जैसे ही पापा बहार निकले और मम्मी ने दरवाजा बंद किया तभी मैंने आपने कच्छा उतार दिया और मेरा लंड पहले से खड़ा हो चूका था.

मम्मी की नज़र जैसे ही मुझपे पड़ी वह मुझे घूर के देखने लगी मैं नंगा ही उठा और मम्मी के पास चला गया मम्मी मेरी ही आँखों में देख रही थी मैंने मम्मी का हाथ पकड़ा और उन्हें अपनी बहो में उठा लिया।

मम्मी – क्या कर रहा है बेटा ? मैं गिर जाउंगी मुझे नीचे उतार.

मैं – मम्मी आपके बेटे में इतना तो दम है की आपको अपनी बाहो में उठा सकता है और आपको कभी गिरने नहीं देगा मम्मी ने भी अपनी बहो का हार मेरे गले में डाल दिया और मैं मम्मी को लेके उनके बैडरूम में आ गया मैंने मम्मी को बेड पर लिटा दिया और खुद उनके ऊपर आ गया।

मैं मम्मी के होंठों को चूसने लगा और वह भी मेरा साथ दे रही थी मैं मम्मी की चूचिया दबा रहा था और मेरा लंड मम्मी की चूत पर लग रहा था

Badi Mummy ki chudai ki story

मैं – मम्मी रात को पापा ने कुछ पूछा तो नहीं।

मम्मी – नहीं जब मैं कमरे में आयी तो वह अपना मोबाइल चला रहे थे फिर कुछ देर बात करके वह सो गए ।

मैं – मतलब पापा ने कल भी कुछ नहीं किया दुनिया की इतनी हसीं औरत उनके पास सोती है और वह उसे प्यार तक नहीं करते है मम्मी अपनी तारीफ सुनके शर्मा गयी।

मम्मी – बेटा तुझे आपने पापा का बिलकुल भी डर नहीं है की उनके होते हुए भी तू ये सब कर रहा था।

मैं – मम्मी पापा का डर जरूर है मगर आपसे प्यार उससे भी जयादा है और आपको भी इसी प्यार की जरुरत है

तभी तो आप भी कल रात खुद को रोक नहीं पायी मैंने मम्मी की मैक्सी ऊपर कर दी और अब मम्मी की बिना बालो की चूत मेरे सामने आ गयी।

फिर मैंने मम्मी की टाँगे पकड़ी और उन्हें फैला दि मम्मी की चूत एक फूल की तरह खिल गयी और अंदर का गुलाबी पैन साफ़ दिखने लगा।

फिर मैं मम्मी की चूत चाटने लगा और उन्हें भी मज़ा आने लगा अब मम्मी ने मुझे अपना लिया था और जब इस बार मैं मम्मी की चूत चाट रहा था Papa ki saamne Meri Sagi Mummy ki chudai

तो उनका हाथ मेरे सर पर आ गया और वह मेरे बालो को सहलाने लगी और मैं भी पूरी शिद्दत से मम्मी की चूत को चाट रहा था मम्मी की चूत के साथ साथ मैंने उनकी दूध जैसे जांघो को भी चाट के गीली कर दिया और मम्मी पूरी तरह से गरम हो गयी थी फिर मैं उनके ऊपर आ गया और उनकी चूचिया चूसने लगा कुछ देर चूचियों को चूसने के बाद मैं मम्मी के होंठों को चूसने लगा और होंठों को चूसते हुए

मैंने मम्मी का हाथ आपने लंड पर रख दिया और मम्मी ने भी मेरा लंड पकड़ लिया और वह उसे आगे पीछे करने लगी कुछ देर ऐसा करने के बाद मैं मम्मी के साइड में बैठ गया और मेरा लंड उनके मुँह के पास आ गया मम्मी ने भी मेरा लंड पकड़ लिया और अपना मुँह खोल के उसे अंदर ले लिया मम्मी मेरा लंड चूसने लगी और मैं उस पल का मज़ा लेने लगा।

मम्मी गपा गप मेरा लंड चूस रही थी और मैं उनकी चूचियों और निप्पल के साथ खेल रहा था मम्मी ने मेरा लंड अपने मुँह से निकाल लिया और फिर वह अपनी जीभ को मेरे लंड के सुपडे पर फिरने लगी सच में दोस्तों उस पल को में शब्दों में बता नहीं सकता की मुझे उस पल कितना मज़ा आ रहा था।

फिर कुछ देर लंड चुसवा के मैंने अपना लंड बहार निकाल लिया और फिर मैं मम्मी की चूत के पास आ गया फिर मैंने साइड में पड़ा तकिया उठायी और उसे मम्मी की कमर के नीचे लगा दिया जिससे मम्मी की चूत ऊपर हो गयी।

फिर मम्मी ने खुद अपनी टाँगे फैला ली और मैंने अपना लंड उनकी चूत पर लगा दिया और हलके हलके पूरा लंड अंदर डाल दिया मम्मी ने अपने होंठों को मुँह में दबा लिया और मैं उनके ऊपर लेटकर उनकी चुदाई करने लगा।

मम्मी आँखें बंद किये चुदाई का मज़ा ले रही थी और मैं एक घोड़े की तरह अपने धक्को की रफ़्तार बड़ा रहा था मम्मी हर धक्के में अह्ह्ह अह्ह्ह ममम कर रही थी मम्मी इस चुदाई का भरपूर मज़ा ले रही थी और इस चुदाई में एक पल ऐसा आया जब मम्मी ने अपनी टाँगे मेरी कमर में बांध ली और मुझे खुद से चिपका लिया और हम दोनों के जिस्म एक हो गए हम दोनों एक दूसरे को चुम चाट रहे थे और मैं नीचे से धक्के लगाए जा रहा था।

मम्मी खुल के मेरा साथ दे रही थी और उन्हें देखकर लग रहा था की उनका पानी निकलने वाला है और ठीक वैसा ही हुआ कुछ देर बाद मम्मी का शरीर एक दम ढीला पढ़ गया और वह मुझसे चिपक गयी मैंने भी धक्के लगाने बंद कर दिए और मम्मी की गर्दन को चूमने लगा Papa ki saamne Meri Sagi Mummy ki chudai

Sexy mummy ki chudai ki kahani

फिर मम्मी ने अपनी टाँगे मेरी कमर से खोल ली और मैं उनके ऊपर से उठ गया और जैसे ही मेरा लंड मम्मी की चूत से बहार निकला तो वह पूरा मम्मी की चूत के पानी से गिला था और मम्मी की चूत का छेद खुला हुआ दिख रहा था।

फिर मैंने अपना मुँह मम्मी की चूत पर लगा दिया और मम्मी की चूत चाट चाट के साफ़ कर दी फिर मैं मम्मी के बगल में लेट गया और उन्हें अपने ऊपर खींच लिया मम्मी भी मेरे ऊपर आ गयी और फिर मैंने अपना लंड उनकी चूत पर लगा दिया और मम्मी हलके हलके मेरे लंड पर बैठ गयी और मेरा पूरा लंड आराम से अंदर चला गया और मैंने मम्मी को अपने ऊपर झुका लिया और उनके होंठों को चूसने लगा।

मम्मी भी मेरे होंठ चूस रही थी और मैं नीचे से धक्के लगाने लगा कमरे में थप थप की आवाज गूंज ने लगी और फिर मैं धक्के लगते हुए मम्मी की दोनों चूचियों को दबाने लगा और बारी बारी से दोनों चूचियों को चूसने लगा फिर कुछ देर बाद मम्मी खुद अपनी कमर को मेरे लंड पर चलाने लगी मम्मी की चूचिया उछल रही थी और मैं उनकी चूचियों को मसल रहा था।

फिर कुछ देर बाद मम्मी थक गयी और मैंने उन्हें अपने ऊपर से उतार दिया फिर मैंने मम्मी को घोड़ी बना दिया और उनकी चूत और गांड को चाटने लगा मम्मी झुकी हुई आहह ममम कर रही थी और मैं उनकी चूत और गांड को चाटने में लगा हुआ था मैं अपनी जीभ मम्मी की गांड के छेद में डाल रहा था और मेरी थोड़ी सी जीभ अंदर जा भी रही थी।

फिर मैंने अपनी एक ऊँगली मम्मी की गांड में डाल दी और मम्मी के मुँह से आह्हः की आवाज निकली मगर तब तक मेरी ऊँगली पूरी अंदर जा चुकी थी और फिर मैंने अपना लंड मम्मी की चूत में डाल दिया और अब मेरी ऊँगली मम्मी की गांड में और मेरा लंड उनकी चूत की चुदाई कर रहा था कुछ देर मम्मी की गांड में ऊँगली करके मैंने अपनी ऊँगली निकाल ली और अब मैं मम्मी की गांड पर थप्पड़ मारने लगा और मम्मी भी आहा आठ करने लगी मम्मी की चूचिया लटक रही थी और मेरे हर धक्के में मम्मी की चूचिया झूल रही थी मैं मम्मी की चूचिया दबाते हुए उन्हें चोद रहा था।

फिर कुछ देर बाद मैंने मम्मी को सीधा लिटा दिया और फिर से उनकी चुदाई करने लगा मम्मी और मैं एक दूसरे से चिपक गए थे और फिर कुछ ही देर बाद मम्मी का पानी फिर से निकल गया और मैंने भी अपने धक्के नहीं रोके और मैं भी मम्मी की चूत में ही झड़ गया मेरा सारा पानी मम्मी के चूत के अंदर भर गया मम्मी ने मुझे खुद से चिपका रखा था और कुछ देर बाद जब सब शांत हुआ तो मैं मम्मी के ऊपर से उठ गया और जैसे ही मेरा लंड बहार निकला तभी मम्मी की चूत से मेरा पानी बहार निकलने लगा मम्मी तुरंत उठी और वह बाथरूम जाने लगी और मेरे लंड का पानी मम्मी की चूत से निकलता हुआ ज़मीन पर गिरता जा रहा था

मैं भी मम्मी के पीछे गया और उन्हें देखने लगा मम्मी नीचे बैठी मूत रही थी और मेरे लंड का पानी उनके मूत के साथ साथ बहार निकल रहा था मम्मी ने पीछे मूड के देखा और वह मुझे देखकर शर्माने लगी फिर वह मूत के खड़ी हो गयी और उसे साफ़ करने ही वाली थी Papa ki saamne Meri Sagi Mummy ki chudai

तभी मैं उनके पास गया और नीचे बैठकर मम्मी की चूत चाटने लगा और तभी मम्मी मुझे हटाने लगी मगर मैं कहा हटने वाला था मैंने चाट चाट के मम्मी की चूत साफ़ कर दी और मम्मी मुझे ही देखने लगी फिर मैंने मम्मी को अपनी गोदी में उठाया और उन्हें बैडरूम में ले आया फिर मैंने मम्मी को बेड पर लिटा दिया.

दोस्तो अभी इस कहानी मे बस इतना ही अगले भाग मे बतऔगा की कैसे मैंने पापा के सामने मम्मी की चुदाई की.

हमारी वैबसाइट से चुदाई की मस्त कहानिया पढ़ने के लिए यहा क्लिक करे-> www.xstory.in
Read More Sex Stories…

One Reply to “कामवाली ने कारवाई माँ की चुदाई 6”

  1. Pingback: बेटे का मोटा लंड माँ की चुत मे फसा 1 Maa Ki Chuddai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *