By | May 1, 2023

Mummy Ki Chudaai: : हैलो दोस्तो, भाग 3 मे आपने पढ़ा था कैसे भाई मम्मी की घर पर रह कर पूरे दिन गांड मारी। अब आगे की कहानी बताता हु।


मम्मी -बेटा सावधान तो रहना पड़ता है हमारे रिश्ते के बारे में किसी को पता चल गया. तो पता नहीं क्या होगा.

भाई -मम्मी किसी को पता नहीं चलेगा.फिर मैं भी बेड पर आ गया.

मैं मम्मी की जांघे चाटने लगा. मम्मी मुझे ही देख रही थी. और हलके हलके अपने होंठों को काट रही थी. मम्मी की जांघो को चाट ते हुए.

Mummy Ki Chudaai

मैं मम्मी की चुत पर आ गया और मम्मी ने खुद अपनी टाँगे फैला दी.

मैंने भी अपना मुँह मम्मी की चुत पर लगा दिया, मम्मी बिलकुल आराम से लेट गयी और मैं उनकी चुत और गांड चाटने लगा. मम्मी के मुँह से स्स्स्सी करके आवाज निकल रही थी और कभी वह अपने होंठों को काट रही थी तो कभी अजीब अजीब मुँह बना रही थी इधर मैं मज़े से मम्मी की चुत और गांड चाट रहा था. मम्मी ने अपना हाथ मेरे सर पर रख दिया और वह मेरे बालो को सहलाने लगी.

मम्मी मेरे चुत चाट ने से जयादा ही गरम हो गयी थी. वह अपनी चुत को मेरे मुँह पर दबा रही थी. फिर कुछ ही देर में मम्मी का पानी निकल गया, उनका शरीर बिलकुल ढीला पड़ गया. मम्मी कुछ देर आँखे बंद करके लेटी रही, फिर मैं उनके ऊपर लेट गया और उन्हें फिर से किश करने लगा. Mummy Ki Chudaai

Mummy ki chudai kahani

मेरा खड़ा लंड मम्मी की चुत पर लग रहा था, मैंने थोड़ा जोर लगाया तो मेरे लंड ने खुद चुत में जाने का रास्ता ढूंढ लिया. मेरा पूरा लंड मम्मी की चुत में समां गया, मम्मी ने मुझे खुद से चिपका लिया. मैंने भी धक्के लगाने शुरू कर दिए, मेरा और मम्मी का बदन चिपका हुआ था.

मैं मम्मी की चूचिया चूसते हुए उनकी चुदाई कर रहा था.मैंने अपने धक्के तेज कर दिए और मम्मी भी आह्हः अह्ह्ह करने लगी. मम्मी को अब किसी का डर नहीं था. इसीलिए वह खुल के मज़े कर रही थी. मैंने मम्मी की टाँगे अपने कंधे पर रख ली और अपने धक्को को और तेज कर दिया, जिससे कमरे में थापा थप की आवाजे जयादा होने लगी थी. कुछ देर धक्के लगा के मैंने अपना लंड निकल लिया और इस बार मम्मी खुद मेरे सामने घोड़ी बन गयी.

मैंने मम्मी से कुछ भी नहीं कहा. मगर पता नहीं कैसे उन्हें मेरे मन की बात पता चल गयी. मम्मी की गांड मेरे सामने थी और फिर से उनकी गांड को फैला दिया और अपनी जीभ उनकी गांड में लगा दी, मेरी जीभ सिर्फ मम्मी की गांड को चाट रही थी. और अपनी जीभ मम्मी की गांड में डालना चाह रहा था. मैंने चाट चाट के मम्मी की गांड को गिला कर दिया.

मेरी थोड़ी सी जीभ अंदर भी चली गयी.कुछ देर गांड चाटने के बाद मैंने फिर से अपना लंड मम्मी की चुत में डाल दिया. और मम्मी की गांड को पकड़ के चुदाई करने लगा. मम्मी की गांड का छेद थोड़ा खुल चूका था और फिर मैंने मम्मी की गांड पर अपना थूक टपका दिया और इस बार मैंने सीधी अपनी ऊँगली उनकी गांड में डाल दी. जैसे ही ऊँगली अंदर गयी.

मम्मी के मुँह से जोर से आह्हः की आवाज निकली.और वह पीछे मुड़ के देखने लगी और मैं भी मम्मी को देखते हुए उनकी गांड में ऊँगली और चुत में लंड डालता रहा मम्मी को भी मज़ा आ रहा था वैसे भी वह पापा से पहले ही गांड मरवा चुकी है.मैंने अपना लंड मम्मी की चुत से निकाल लिया. और

खुद जाके बेड पर लेट गया. मम्मी खुद मेरे ऊपर आ गयी. और मेरा लंड पकड़ के अपनी चुत में डाल लिया. Mummy Ki Chudaai

Mummy ki chudai hindi me

मम्मी अपनी कमर चलाने लगी.और मैं खुद को कण्ट्रोल करने लगा. सच मैं मम्मी की चुदाई करने में मज़ा बहुत आ रहा था. कुछ देर बाद मुझे लगा. की मेरा पानी निकलने वाला है तभी मैंने मम्मी को नीचे लिटा दिया और खुद ऊपर आके उन्हें चोदने लगा.

मेरे धक्के तेज होते चले गए. मैं और मम्मी चुदाई में खो चुके थे और हम दोनों का पानी एक साथ निकल गया. मैं मम्मी के ऊपर लेटा रहा.और जब मैंने अपना लंड बहार निकाला.

तो मैंने देखा की मम्मी की चुत मेरा सारा पानी पे चुकी है मम्मी की चुत का छेद साफ़ खुला हुआ दिख रहा था. मैं मम्मी के बगल में लेट गया, मम्मी की साँसे तेज तेज चल रही थी और मैंने उनकी एक चूचि मुँह में भर ली और उसे चूसने लगा मम्मी मेरे बालो में हाथ फिर रही थी.

भाई -मम्मी मेरा पानी आपके अंदर निकल गया. आपको अभी गोली लाके दे दूंगा. तो आप उसे खा लेना.

मम्मी -बेटा तू उसकी चिंता मत. वह मैं संभाल लुंगी.

भाई -मतलब मम्मी अब में आपके अंदर पानी निकाल दू, तो आपको कोई परेशानी तो नहीं होगी.

मम्मी -बेटा हमेशा नहीं मगर जब कहु तो करना नहीं तो अंदर मत निकलना.

वरना मैं प्रेग्नेंट हो जाउंगी. मैं मम्मी की चुचि चूसते हुए उनकी चुत को सेहल रहा था और मम्मी भी मेरा लंड सहलाने लगी थी. और मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया मम्मी मुझे देखकर मुस्कुराने लगी.

भाई -क्या हुआ मम्मी आप हंस क्यों रही हो? मम्मी ने मुझे मेरे लंड की तरफ इशारा किया, जो खड़ा हो चूका था और मैं भी उनके साथ हसने लगा.

भाई -मम्मी ये आपको देखकर ऐसे ही खड़ा हो जाता है मैं कितनी भी कोशिश करू. मगर ये ऐसे ही रहता है.मम्मी -है बेटा में जानती हु. जब तू मुझे पीछे से गले लगता था.

तो मैं इसको महसूस करती थी. Mummy Ki Chudaai

भाई -मम्मी जब मैं आपको ऐसे पकड़ता था तो क्या आपकी चुत भी गीली हो जाती थी,सच बताना मम्मी आपको मेरी कसम है.

Mummy ki chudai hindi kahani

मम्मी -बेटा सच कहु तो मैंने कभी नहीं सोचा था की मैं तेरे साथ ऐसा भी रिश्ता बनाउंगी. मगर सच ये है की तेरे पापा के दूर रहने की वजह से मैं भी अंदर से गरम हो रही थी बस मैं खुद को रोक रही थी.

भाई -मम्मी जब मैंने भी आपको एक औरत की नज़र से देखा तब मैं भी आपके अंदर की बेचैनी पहचान पाया वैसे मम्मी अब आपको किसी चीज का पछतावा तो नहीं.

मम्मी -नहीं बेटा मगर जब पहली बार हमने ऐसा किया था तो मुझे बाद में अच्छा नहीं लगा था. मगर सच यही था की उस रात से मैं भी बदल गयी थी. अब मुझे भी तेरे साथ मज़ा ही आता है.

भाई -मुझे भी आपके साथ बहुत मज़ा आता है मम्मी. अब आप घोड़ी बन जाओ मैं फिर से आपकी गांड चुदना चाहता हु.

मम्मी -बेटा जब तू मेरी गांड को अपनी जीभ से चाटता है. तो मुझे भी अच्छा लगता है सच कहु तेरे पापा ने भी ऐसा कभी नहीं किया था.

भाई -मम्मी मैंने पापा को आपकी गांड को चुदाई करते देखा है सच कहु तो मुझे आपको देखकर बहुत अच्छा लगा था.

मम्मी -तूने कब हम दोनों को देख लिया.

भाई -मम्मी जब पापा आते है. तो वह आपके साथ ही तो लगे रहते है. मैंने आप दोनों की चुदाई वह गाये के चारे वाले कमरे में देखि थी. वैसे मम्मी अब पापा आपकी चुदाई बहुत कम करते है.

मम्मी -बेटा तेरे पापा की अब उम्र जयादा हो रही है. इसीलिए अब काम ही करते है.

भाई -वैसे मम्मी अब आप चिंता मत करो मैं हमेशा आपको ऐसे ही प्यार करूँगा. मम्मी आप घोड़ी बन जाओ मुझे आपकी गांड और चटनी है, मेरी बात सुनते ही मम्मी घोड़ी बन गयी. उन्होंने अपनी गांड पूरी ऊपर उठा ली. जिससे मुझे उनकी गांड और चुत बिलकुल खुली हुई दिख रही थी. Mummy Ki Chudaai

Mummy ki chudai dekhi

मैंने मम्मी की गांड को पकड़ा और अपनी जीभ सीधे गांड के छेद पर चलने लगा मम्मी को भी मज़ा आने लगा और अपनी 2 ऊँगली मम्मी की चुत में डाल दी और ऊँगली करते हुए उनकी गांड को चाटने लगा, मम्मी भी गरम होने लगी.

फिर कुछ और गांड चाटने के बाद मैंने आअपना लंड मम्मी की चुत मे डाल दिया, मम्मी की गीली चुत से मेरा लंड भी गिला हो गया और फिर मैंने अपना लंड मम्मी की गांड पर लगा दिया, लंड का अहसास गांड पर होते ही मम्मी बोल पड़ी.

मम्मी -बेटा आराम से करना. बहुत टाइम से मैंने पीछे नहीं करवाया है.

भाई -मैं जनता हु मम्मी. आराम से ही करूँगा, अपना लंड पर थूक लगा लिया और मम्मी की गांड को तो में पहले ही चाट के गिला कर चूका था, मैं हलके हलके अपना लंड अंदर डालने लगा.

मेरे लंड का सूपड़ा अंदर जाने लगा.अभी सिर्फ मेरा सूपड़ा ही अंदर अंदर गया था और मम्मी के मुँह से आह आह की आवाज निकलने लगी.

मम्मी -रुक जा रुक जा बेटा थोड़ी देर ऐसे ही रहने दे. मैं वैसे ही रुक गया और फिर हलके हलके अपना लंड और अंदर डालने लगा वहा मम्मी के मुह के भाव बदल गए थे. जैसे ही उन्हें दर्द होता. मैं खुद को रोक लेता था. मगर हलके हलके मम्मी पूरा लंड ले गयी. मम्मी की गांड सच में बहुत मज़ेदार थी. उसने लंड को अच्छे से जकड रखा था.

मैंने मम्मी की दोनों चूचिया पकड़ ली और उन्हें दबाते हुए मम्मी की गांड मारने लगा, मम्मी की गांड काफी टाइट थी और मेरा लंड बहुत फस्स हुआ जा रहा था. अभी सिर्फ मुझे 10 ही मिनट हुए थे और मुझे ऐसे लगा की मेरा निकल जायेगा. इसीलिए मैंने लंड बहार निकल लिया. Mummy Ki Chudaai

Mummy ki chudai hindi

मेरे लंड के बहार आते ही मम्मी की गांड का छेद खुल गया था मैंने अपना लंड साफ़ किया और उसे मम्मी की चुत में डाल दिया. कुछ देर मम्मी की चुत मारने के बाद मैंने फिर से लंड गांड में डाल दिया.

मम्मी को भी मज़ा आ रहा था और मैं तेज तेज धक्के लगाने लगा और कुछ ही देर में मम्मी की गांड में ही झड़ गया मेरा लंड मम्मी की गांड में ही था. फिर मैं मम्मी के बगल में लेट गया.और इस बार मम्मी ने मेरा लंड खुद साफ़ कर दिया. हम दोनों लेटे ही थे की तभी किसी ने घंटी बजा दी.

फिर मैंने जल्दी से अपने कपडे पहन लिए और मम्मी भी किचन में जाके कपडे पहनने लगी. फिर मम्मी ने गेट खोला तो सामने पड़ोस वाली आंटी खड़ी थी आंटी अंदर आ गयी और मम्मी से बात करने लगी. मुझे लगा थोड़ी देर में चली जाएगी. मगर वह जाने का नाम ही नहीं ले रही थी.

मम्मी भी काम करती रही. और उन आंटी से बात करती रहीम, मैं अपने कमरे में बैठा हुआ था. तेरे आने से आधा घंटा पहले ही आंटी गयी थी और तभी मैं और मम्मी नहाने लगे, मम्मी ने बताया की ये आंटी हमेशा ही आती है और मम्मी और आंटी हमेशा बाते करते है. नहाते हुए भी मैंने और मम्मी ने बहुत चूमा चाटी की और फिर तू आ गया.

मैं -वैसे भाई मज़ा तो बहुत आया होगा. मम्मी की गांड मारने में.

भाई -हा यार उनकी गांड अभी भी बहुत मस्त है. चुत थोड़ी ढीली जरूर हो गयी, मगर फिर भी पूरा मज़ा देती है. वैसे अभी तू लेट जाना. फिर देखना मम्मी कैसे मुझसे चुदवाने आएगी, फिर मैं और भाई अंदर आ गए. दोपहर का टाइम था, मैं मोबाइल चलाने लगा, तभी मम्मी मेरे पास आयी और मुझे देखने लगी.

उन्होंने देखा मैं मोबाइल में लगा हुआ हु.और मुझे देखकर वह बहार निकल गयी मैं समझ गया मम्मी कहा जा रही है. लगभग 10-मिनट बाद मैं भी कमरे से बहार निकला सीधा गाये वाले कमरे में जाने लगा, पहले हमारे यहाँ दूध का काम होता था इसी कमरे में गाये के दूध का काम करते थे.

मगर फिर पापा ने सारा काम बंद कर दिया. और खुद सिंगापुर चले गए, मैं कमरे के पास पहुचा, तो मैंने देखा दरवाजा बंद था. मगर ये दरवाजा काफी पुराना था. इसीलिए इसमें काफी छेद सुराख़ हो गए थे. Mummy Ki Chudaai

Mummy ki chudai hindi

मैं अंदर देखने लगा. मम्मी और भाई एक दूसरे के होंठों को चूस रहे थे. मम्मी और भाई एक दूसरे से बिलकुल चिपके हुए थे. और फिर मम्मी खुद नीचे बैठ गयी. उन्होंने भाई का कच्छा खुद नीचे कर दिया. कच्छा नीचे होते ही भाई का लंड उछल के बहार आ गया और मम्मी ने उसे पकड़ लिया.

मम्मी ने देर किये बिना भाई का लंड मुँह में ले लिया. और वह उसे चूसने लगी. भाई को भी मज़ा आ रहा था, कुछ देर लंड चूसने के बाद भाई ने मम्मी को खड़ा कर दिया.

मम्मी ने खुद अपनी मैक्सी निकाल के साइड में फेक दी. और भाई ने मम्मी को घोड़ी बना दिया. फिर भाई मम्मी की गांड चाटने लगे, कुछ देर गांड चाटने के बाद भाई मम्मी की गांड में लंड डालने लगे.

मम्मी -बेटा अभी आगे कर ले. जयादा टाइम नहीं है, तेरा भाई न आ जाये.

भाई -मम्मी मुझे आपकी गांड बहुत पसंद है, जब भी इसे देखता हु. मेरा लंड खड़ा हो जाता है. और आप विक्की की चिंता मत करो. वह मूवी देख रहा है.

मम्मी -तू बिलकुल आपने बाप पर गया है. वह भी बस मेरी गांड के पीछे पड़े रहते थे.

भाई -वैसे मम्मी पापा ने आपकी गांड पर बहुत मेहनत की है. तभी तो ये इतनी हसीं है की मैं भी खुद को रोक नहीं पाया मगर आप चिंता मत करो, रात को आपकी चुत को भी शांत कर दूंगा.फिर भाई मम्मी की गांड में लंड डालने लगे और इस बार मम्मी को भी तकलीफ नहीं हुई. Mummy Ki Chudaai

Maa ko choda story

वह बहुत आराम से भाई से अपनी गांड मरवा रही थी और भाई मम्मी की चूचियों को जोर जोर से मसल रहे थे.मम्मी की चूचियों पर भाई के हाथ के निशान साफ़ दिख रहे थे., भाई ने मम्मी की गांड 15-मिनट तक मारी.

उसके बाद उन्होंने अपना पानी अंदर ही निकाल दिया. भाई का पानी निकलते ही मम्मी नीचे बैठ गयी.और जैसे ही उन्होंने थोड़ा जोर लगाया.

तो उनकी गांड से भाई का पानी निकलने लगा. उसके बाद मैं भी भाग के कमरे में आ गया और फिर कुछ देर बाद मम्मी भी आ गयी. वह मेरे बगल में लेट गयी और फिर वह सो गयी मैं मम्मी की गांड देखने लगा. जो वह अभी अभी मरवा के आयी थी.

मैं भी थोड़ी देर सो गया. फिर शाम को हम सबने चाय पी और भाई और मैं बाते करने लगे, फिर रात का खाना खाके मैं और मम्मी लेट गए मगर मैं जनता था, अभी रात बाकी है. आज मैंने 11.30 बजे ही मोबाइल बंद करके रख दिया. और मम्मी के उठने का इंतजार करने लगा, मम्मी वैसे ही लेटी हुई थी. मुझे लगा मम्मी सो गयी है.

फिर रात के 12.30 बजे मम्मी ने मुझे हलके से आवाज दी, मगर मैं वैसे ही लेटा रहा. फिर मम्मी बीबेड से उठी और कमरे के बहार निकल गयी. 5 मिनट बाद मैं भी बहार आ गया. मैंने देखा भाई के कमरे का दरवाजा थोड़ा सा खुला हुआ था.

जो भाई ने मेरे लिए खुला छोड़ा था. मैंने जाके अंदर देखने लगा.भाई और मम्मी चूमा चाटी कर रहे थे. फिर भाई ने मम्मी की मैक्सी निकाल दी और भाई और मेरा मुँह खुला का खुला रह गया. मम्मी ने अंदर बिकिनी पहने हुई थी. बिकिनी की डोरी पीछे बंदी हुई थी और उनकी चूचिया बिकिनी में समां नहीं रही थी और नीचे मम्मी ने सिर्फ थोंग्स पहनी हुई थी.

जिसमें सिर्फ मम्मी की चुत के पास थोड़ा सा कपडा था, बाकी मम्मी की गांड बिलकुल नंगी थी.

भाई -मम्मी आपके पास ऐसे कपडे भी है ये तो बड़ी बड़ी मॉडल और मॉडर्न औरते पहनती है, आप ये कब लाये.

मम्मी -अरे पागल ये मैं नहीं बल्कि तेरे पापा लाये थे, वह बता रहे थे की वहा की औरते काफी पहनती है. तो वह मेरे लिए भी लाये थे.

भाई -मम्मी आप तो इसमें बहुत सेक्सी लग रही हो अगर आपको कोई ऐसे देख ले. तो पागल ही हो जाये.

मम्मी -बेटा मैं ऐसे कपडे पहन के थोड़ा किसी और को दिखने वाली हु. Mummy Ki Chudaai

Mummy ki chudai ki bete ne

ये सिर्फ तेरे पापा के लिए था. और अब तेरे लिए है.भाई ने मम्मी की गांड पर एक जोर से थप्पड़ मारा, मम्मी के मुँह से आउच की आवाज निकल गयी, भाई मम्मी की गांड को मसल रहे थे और फिर भाई ने मम्मी को झुका दिया, उनकी थोंग्स की डोरी साइड कर दी और फिर वह मम्मी की गांड चाटने लगे, मम्मी अब भाई के साथ पूरी तरह खुल गयी थी. भाई ने रात में 1 बार मम्मी की चुत मारी और 2 बार गांड मारी. उसके बाद तो मम्मी ने बाकी कपडे पहनने ही छोड़ दिया.

वह दिन रात मैक्सी में ही रहती थी. और भाई के कहते ही मम्मी अपनी मैक्सी ऊपर कर देती और भाई का लंड मम्मी की अच्छे से तसल्ली करवा देता, घर का ऐसा कोई भी कोना नहीं था. जहा भाई ने मम्मी को न चोदा हो, मम्मी को भी भाई से अपनी चुत और गांड चटवाने में बहुत मज़ा आता था, वह खुद भाई का सर पकड़ के अपनी चुत में लगा देती थी.

इस कहानी का भाग 3 पढ़ने के लिए यहा क्लिक करे–>> मम्मी को पटा के चोदा 3

हमारी वैबसाइट से चुदाई की मस्त कहानिया पढ़ने के लिए यहा क्लिक करे-> www.xstory.in


तो दोस्ती कैसे लगी आपको मेरी स्टोरी. आप मुझे कमेंट करके फीड बैक जरूर देना. ताकि मैं ऐसे कहानी आपके लिए और लाता रहु.

Read More Sex Stories….

11 Replies to “मम्मी को पटा के चोदा 4”

  1. Pingback: कामवाली ने कारवाई माँ की चुदाई 2 Sagi Maa ki chudai

  2. Pingback: बेटे का मोटा लंड माँ की चुत मे फसा 1 Maa Ki Chuddai

  3. Pingback: कामवाली की मदद से की मम्मी की चुदाई Meri Sagi Maa ki chudai

  4. Pingback: पुजा ने देखि माँ बेटे की चुदाई फिर हुआ कोहराम Maa Bete Ki Chudaii

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *