By | January 2, 2023

Mummy ki chudai:-हैलो दोस्तो, मेय नाम हर्ष है। मैं 24 साल का हूँ सॉफ्टवेयर इंजीनियर वर्किंग इन बंगलोरे मेरे घर में 4 लोग हैं माँ सिस्टर एंड मैं. एल्डर सिस्टर: नंदिनी(25साल की है ) उसकी शादी हो चुकी है.माय डैड: राकेश (45 साल के ) वो भी एक मंच में है.माय माँ: जानवी(43साल की ) एक इंटीरियर डिज़ाइनर है.मेरे डैड की जॉब चेन्नई में है इस वजह से माँ-डैड चेन्नई में रहते है एंड सिस्टर अपने पति के साथ दिल्ली में. ये भी पढे-> सगी माँ को अंकल ने बेटे के सामने चोदा

अब सीधा स्टोरी पे अत हूँ.हमारी कंपनी से प्रोजेक्ट के लिए आने के लिए किसी को चेन्नई भेजना था तोह मैंने चांस ले लिया सोचा फॅमिली के साथ रह लूंगा पूरा वीक. तो मैने माँ-डैड को बताया की मैं चेन्नई आ रहा हूँ तोडोनो खुश हुए.

Mummy ki chudai

मैं फ्लाइट लेके चेन्नई पोहचा मुझे देख के माँ बड़ी खुश थी एंड डैड भी फिर थोड़ी इधर की बाते की एंड आल एंड डिनर कर के सो गए. अगले दिन मुझे एक मीटिंग अटेंड करनी थी तो मैं जल्दी उठ के मीटिंग के लिए चला गया एंड 5 बजे तक वापस आ गया.

Mummy ki chudai Ki kahani

अभी तक सब कुछ नार्मल ही चल रहा था.फिर माँ से थोड़ी बातें की फिर डैड ऑफिस से आने के अगले
दिन मुझे आफ्टरनून को मीटिंग में जाना था तो मैं लेट उठ गया आराम से. ब्रेकफास्ट किआ एंड चाय लेके टीवी देख रहा था तब डोर बजी गयी तो मैंने खोला तोह कामवाली बाई थी जो बर्तन एंड पोछा करती है.तो वो सीधा किचन चली गई माँ ने बोला की पोछा कर लो बाद में बर्तन कर लेना तो उनसे पोछा सुरु किया. Mummy ki chudai

जब वो पोछा करते हुए हॉल में आयी तो मेरा ध्यान उसपे गया.उसने अपना पल्लू पूरा कमर पे ही लपेट लिए था तो उसके बूब्स आराम से दिख रहे थे. सायद उसे ऐसे पोछा लगाने की आदत होगी क्युकी घर में माँ के आलावा कोई नहीं रहता था तो भूल गयी होगी की मैं घर में हूँ.

लेकिन मैं मोके का पूरा इस्तेमाल कर रहा था उसके बूब्स देखे जा रहा था. उसके बूब्स मस्त थे साइज 36 होगी एंड पोछा लगते हुए पुरे मटक रहे थे ये देख कर मेरा खड़ा हो गया तो मैंने ढकने के लिए पिलो रख दिया.

ये कहानी पढे->ससुर ने बेटे की पत्नी की सील तोड़ी

जब वो पोछा लगते मेरे पास आयी तो समझ नहीं आ रहा था क्या करू ऐसे बूब्स देख के तोह मेरी हालत खराब हो गई थी एंड उसका ध्यान मेरी तरफ बिलकुल ही नहीं था वो अपने काम में व्यस्त थी.फाइनली पोछा ख़त्म हुआ एंड वो फिर किचन में चली गई तोह एक दम से बाथरूम गया एंड मूठ मार के आया. फिर एके टीवी देखते बैठ गया.

कामवाली बर्तन कर के चली गयी एंड मैं भी अपनी मीटिंग जाने के लिए रेडी होने की तैयारी में लग गया लेकिन वो नजारा मेरी आँखों के सामने से नहीं जा रहा था तोह फिर एक बार मैंने मुठ मर ली एंड मीटिंग के लिए चला गया.

ऐसा ही और दो दिन चलता रहा मैं कामवाली के बूब्स देख लेता एंड मुठ मर लेता.अब तक मेरी और माँ की रिलेशन भी नार्मल ही थी.अगले दिन मुझे ऑफिस की मीटिंग 3बजे थी तोह मैं रेडी ही था बूब शो के लिए पर वो आज आयी ही नहीं तो मैंने माँ से इंदिरेक्ट्ली पूछ लिया माँ आज मुझे 3 बजे जाना है.माँ: अच्छा. Mummy ki chudai

Mummy ki chudai ki story

मैं: माँ वो कामवाली आज नहीं आने वाली क्या?माँ: नहीं आज उसके यह कुछ मेहमान ए है तो वो नहीं आने वाली.तुम क्यू पूछ रहे हो?समझ नहीं आया क्या जवाब दूँ तोह मैंने बोला ऐसे ही.माँ: ठीक है मैं नाहने जा रही हूँ बोलके माँ नाहने चली गयी.
करीब 30 मिनट्स बाद मुझे माँ की बैडरूम से आवाज आयी “हर्ष.”माँ मुझे बुला रही थी.

मैं: बोलो माँ.माँ: इधर आओ.मैं बैडरूम की तरफ गया माँ अभी भी टॉवल में ही थी एंड नीचे लेग्गिंग्स पहनी हुई थी.
मैं: बोलो माँ.माँ: मेरी ब्रा का हुक निकल नहीं रहा है. निकल दो?ऐसे बोल के माँ ने टॉवल हटा दिया और दूसरी तरफ देखनी लगी. मैंने पहले ऐसे माँ को कभी नहीं देखा तोह उसकी गोरी पीठ एंड उसपे उसके गीले बाल उसकी पूजी फिगर पीछे से दिख रही थी क्या कमर थी उसकी मैं देखता ही रह गया.

माँ ने फिर पूछा “क्या हुवा?”मैं: कुछ नहीं माँ.माँ: तो निकाल दो….न.हुक निकलने के लिए मैं आगे हो गया माँ की पीठ को टच किया तो एक करंट सा हो गया एंड मेरा लंड खड़ा हो गया. अच्छा था की माँ दूसरी ओर देख रही थी. पर आगे शीशे से उसके बड़े बूब्स दिख रहे थे.ब्रा गिला हुआ था इस्सके वजह से वो पीठ से चिपका हुआ था.

मैं: माँ आपकी ब्रा तो भीग चुकी है.माँ: मैंने ब्रा निकालने की कोशिश की पर निकल नहीं रही थी तो मैंने वैसे ही नाह लिया.मेरे अंदर की हसज जग रही थी एंड मन में ख्याल भी था की ये मेरी माँ है तोह मैं कण्ट्रोल कर रहा था फीलिंग्स.

मैंने कोशिह की पर हुक नहीं निकल रहा था एंड माँ के बल भी बीच में आ रहे थे तोह माँ को बोला माँ आपके बाल बीच में आ रहे है आप आगे लोगे क्या?तोह माँ ने अपने बाल आगे कर लिए.अब तो मेरी हालत पूरी ख़राब होइ गई मेरी माँ की पूरी नंगी पीठ मेरे सामने थी मैं भूल गया की वो मेरी माँ है मुझे पीठ पर किश करने ही इच्छा होनी लगी तोह मैं ब्रा माउथ से खोलने की रीज़न से माँ को पीठ पे किश कर ली. Mummy ki chudai

Desi mummy ki chudai

माँ: क्या कर रहा है?मैं:माँ मुह से खोलने की कोसिस कर रहा हूँ.माँ: अच्छा.
मैं: माँ हुक पूरा कपडे में फास गया है आप टी-शर्ट निकलते हो वैसे निकलने की कोसिस करनी होगी करो.
माँ: मैंने किया लेकिन वैसे ऊपर से नहीं निकलेगा उतना इलास्टिक नहीं है इसका.
मैं: मैं कोसिस करू क्या एक बार?

माँ: ठीक है.जैसे माँ ने ठीक है बोला झट से पीछे से हाथ डालकर ब्रा आगे से ऊपर उठाने की कोशिह कर रहा इसे मेरे हाथ का माँ के बूब्स को टच हो रहा था एंड उससे मेरा लंड और टाइट हो रह था. मैं कोसिस कर रहा था की मेरा लंड माँ को टच न हो पर मुझे लगा की मेरा खड़ा लंड माँ शीशे से देख पा रही थी. बहुत कोशिह के बाद माँ ऊपर से नहीं निकलेगा आपके बूब्स बहोत बड़े है.माँ: कुछ भी मत बोलो.

मैं: हाँ माँ सच तो है. फिर माँ ने कुछ नहीं बोला.मैं: में क्यू न हम निचे से निकालने का कोसिस करे?माँ: वहा से भी नहीं निकलेगा.ऐसे बोलते ही मैंने माँ की गांड की तरफ देखा और मन में ही बोला इतनी बड़ी गांड से कैसे निकलेगा माँ अब एक ही रास्ता है.माँ: क्या?

मैं: ब्रा को काटना पड़ेगा.माँ: ठीक है जरा आराम से काट न.तो मैंने ब्रा को काट दिया एंड बैडरूम से बहार आके सीधा बाथरूम चला गया एंड मुठ मर दी. इस इंसिडेंट के बाद मेरी माँ को देखनी की नज़र बदल गयी.
अब माँ में मुझे एक सेक्सी औरत दिख रही थी.फिर थोड़ी देर बाद माँ हॉल में आयी थैंक यू …मैं: उसमे थैंक यू क्या माँ?कोई भी बेटा अपनीमाँ कॉम के लिए कर लेता. Mummy ki chudai

Dost ki mummy ki chudai

मैंने फ़्लर्ट करने के लिए माँ से पूछा माँ आपकी ब्रा की साइज क्या है?माँ: क्या? क्यू पूछ रहा है?मैं: मैंने आपकी ब्रा काट दी न नयी ला दूंगा.और हम दोनों हंस पड़े.
मैं: बताओ न माँ.माँ: 36 है.

मैं: लगता है फिर अपने ब्रा पहन लिए है (ब्रा की स्ट्रिप मुझे दिख रही थी). माँ मुझे थोड़ी शॉकिंगली देख रही थी.मैं: (कवर करते हुए) आपके शोल्डर पे स्ट्रिप दिख रही है.माँ ने स्ट्रिप देख के स्ट्रिप को ढक लिए. शायद माँ को समझ नहीं आ रहा था की क्या रिप्लाई करे तोह वो साइलेंट बैठी ही रही.मैंने मन में सोचा की आज तोह माँ का ब्रा निकलवा के ही रहूगा एंड हिम्मत कर के बोला माँ आप घर में ब्रा क्यों पहनती हो? पता है न आपको ब्रा ज्यादा पहनाने से उससे कैंसर हो सकता है (मुझसे बूब्स बोलने की हिम्मत नहीं हुई).

माँ: हाँ पढ़ा है मैंने लेकिन अब आदत हो चुकी है.वैरी पॉजिटिव रिप्लाई फ्रॉम माँ एंड मेरी हिम्मत और बढ़ गयी और माँ के नेचर में भी थोड़ा मुझे बदलाव दिख रहा था.वो बार-बार झुक रही थी एंड मुझे क्लीवेज दिख रहे थे और मैंने भी देख लिए था की मैं उनके क्लीवेज देख रहा हूँ.मेरा खड़ा हुआ लंड भी उन दिख रहा था लेकिन उन्हनोने कुछ रियेक्ट नहीं किया मुझे भी चाहिया था. मैंने अपना एक हाथ माँ के हाथ के ऊपर रख दिया एंड हिम्मत कर के बोला.

मैं: माँ निकल दो फिर वैसी आदत डालने की सुरवात करो ऐसे बोलते मैंने माँ का हाथ प्रेस किया.शायद माँ ने उसकी हाट प्रेस करूँगा एक्सपेक्ट नहीं किआ था. माँ थोड़ी शॉक हो गयी एंड झट से बैडरूम की तरफ गयी मैं डर गया लगा जल्दी कर दी अब खुश नहीं होगा सब खुश ख़तम.करीब 5मिनट्स बाद माँ वापिस आयी तोह माँ के फेस पे थोड़ी स्माइल थी.वो स्माइल देख के मुझे बहोत अच्छा लगा. माँ आके मेरी साइड नहीं तो आगे चेयर पे बैठ गई एंड हमारे बीच एक तिपाई था मैं अब चुप था.

Sexy mummy ki chudai

साइलेंस ब्रेक करते हुए क्या हुवा इतने चुप क्यू हो?मैं: सॉरी माँ मुझे वैसा नहीं करना चाहिए था.माँ: सॉरी और किस बात के लिए.मैं: वो आपको पता है.माँ: उसकी वजह से मैं उठ कर नहीं गयी थी.मैं: (विथ शॉकेड फेस) तोह फिर?माँ ने मुझे सोफे पे पड़ा हुआ नेवसपपेर तिपाई पे रखने को बोला. मैंने रख दिया. मुझे समझ नहीं आ रहा था क्या चल रहा है?तभी माँ पेपर उठाने झुक गयी एंड मुझे ज़ोर का झटका लगा माँ ब्रा निकाल के आयी थी एंड अब उसके पूरे बूब्स मुझे दिख रहे थे

उसके थोडा सा निप्पल एरिया भी दिख रहा था. मैं दंग रह गया एंड झट से मेरा लंड खड़ा हो गया.माँ उसी पोज़ में 20 सेकंड थी और मैं पूरा होश खो चूका था आंखे फाड् के बूब्स देख रहा था. Mummy ki chudai

फिर माँ ने पेपर उठाया एंड पढ़ने लगी. 10 मिनट तक मुझे कुछ समझ नहीं आया मेरी माँ मुझे बूब्स दिखा रही थी मेरा आँखों पे विश्वास नहीं हो रहा था.थोड़ी देर साइलेंस के बाद.
माँ: क्या हुआ?चुप क्यू हो गया?मैं: थैंक यू माँ.

माँ: किस लिए?मैं: आप ब्रा निकल के आ गयी.माँ: (इनोसेंट बनते हुए – तुम्हे कैसे पता चला?मैं: देख लिया मैंने.माँ: क्या?(डबल मीनिंग).मैं: (माँ को आंख मरते) आपके वो शोल्डर पे स्ट्रिप नहीं दिख रही है न.

माँ: (नॉटी स्माइल देते हुए )अच्छा मुझे लगा कुछ और देख लिए!मैं: (नॉटी होते हुए) अपने जो दिखाया सब देख लिए.
माँ: इसी लिए तेरी पैंट फूली है?माँ ने १स्ट टाइम मेरे लंड पे कमेंट किया था. मैं शर्म से मेरे लंड को एडजस्ट करने लगा.माँ: रहने दो अब क्या? Mummy ki chudai

मैं: मतलब?माँ: वो ब्रा निकलते वक्त भी ऐसा ही हुआ था.माँ ने देख लिया था पर कुछ नहीं बोला था माँ मुझे सिग्नल पे सिग्नल दे रही थी और बातें करने में मज़ा आ रहा था.

मैं: माँ देखा की ऐसा कुछ मेरा लंड खड़ा हो गया.मेरे मुँह से लंड सुन के माँ शॉक सी हो गयी एंड टॉपिक चेंज करते हुए :तुम्हरा ऑफिस का काम हो गया?

indian mummy ki chudai

मैं: (निराश होक)नहीं माँ थोड़ी देर में जाना है न मीटिंग को.
माँ: चलो फिर फ्रेश होक आना लंच कर के जाओ.मन में मुझे खाने की कोई इच्छा नहीं थी मुझे बस माँ के बूब्स देखने थे और नॉटी बातें कर के माँ को और ओपन करना था.मैं: माँ मुझे भूक नहीं है.माँ: आज का खाना बहुत बढ़िया है मन भर जायेगा तुम्हारा.

मुझे कुछ समझ नहीं आया. उतनी में माँ फिर पेपर रखने झुक गयी एंड वैसे ही 20 सेकंड पोज़ होल्ड किया और नॉटी स्माइल देके मटके हुए चली गयी तोह मैं उसकी अस्स को पीछे से देख रहा था क्या मटक रही थि तोह माँ किचन के पास जाकर रुक गई एंड मेरी ओर देखा मुझे लगा ही इतना बोलके स्माइल दे के चली गई.

अब मैं पूरा एक्ससिटेड था की टेबल पे क्या क्या होगा अचानक मेरी माँ इतनी ओपन कैसे हुई समझ नहीं आ रहा था लेकिन ख़ुशी भी थी की जल्दी ही मैं चोदुगा उसे.जल्दी से मैं अपने रूम में गया फ्रेश होक चेंज करके किचन और चला गया. माँ किचन में नहीं थी तोह मैने आवाज लगायी तो माँ अपने रूम से बहार आ गयी.माँ ने साड़ी एंड ब्लाउज पहना हुवा था.ब्लू सदी एंड ब्लू ब्लाउज जो उनके पीठ को मैक्सिमम एक्सपोज़ कर रहा था. Mummy ki chudai

साड़ी एकदम सेक्सी सी पहनी हुई थी एंड ब्लाउज भी लौ नैक था स्लीवलेस. माँ बम लग रही थी लेकिन मैं निराश हो गायक की बूब्स के ऊपर माँ का पल्लू था तोह क्लियर व्यू नहीं था फिर भी मैंने माँ को कमेंट किया माँ आप एकदम सेक्सी दिख रही हो पूरी हॉट लग रही हो.माँ: (स्माइल करते हुए) थैंक्स लेकिन तुम्हे देख के नहीं लग रहा है की तुम्हे पसंद आया?

Hot mummy ki chudai ki kahani

मैं: नहीं माँ ऐसा नहीं सच में तुम सेक्सी लग रही हो. लेकिन टी-शर्ट में से व्यू क्लियर था न.माँ को पता चल गया था की मैं नाराज हो गया हूँ. माँ हस्ते हुए नॉटी बॉय सब्र करो सब्र का फल मीठा होता है चलो खाना टेबल पे लेने मदत करो मेरी.
हमने खाना टेबल पे ले लिया. माँ मेरे आगे वाले चेयर पे बैठ गई तो माँ ने मुझे सब्जी एंड एक रोटी सर्वे की.
माँ: चलो चालू कर दो.मैं: हाँ माँ लेकिन खाने में मजा नहीं आएगा.तो माँ ने अपना पल्लू थोड़ा सा साइड कर दिया.
माँ: अब?मैं: हाँ अब थोड़ा मन लगा रहे गए.माँ: रुको मैं पानी लेकर आती हूँ एंड एक नॉटी स्माइल देते हुए पानी लेने चली गयी. और अंदर से आवाज आयी तूने कितनी चपाती ली है?”मैं: माँ एक ही अपने तो दी.थोड़ी देर बाद माँ पानी लेके बहार आयी तो मैंने देखा की माँ ने अपना पल्लू पूरा कमर पे ही सेट कर दिया था एंड गौर किया की उनके ब्लाउज का एक बटन खुला हुवा था. तोह मैं समझ गया की माँ चपाती के बारे में क्यू पूछ रही थी?या हो सकता है माँ ने जान बुजाके एक खुला छोड़ दिया होगा पर क्या दिख रहे थे उसके बूब्स!

माँ: अब ठीक है?मैं: योर ग्रेट माँ तुम्हे पता है खाना कैसे खिलते है.
माँ: तू तो मेरा बेटा है तुझे हो खिलाऊंगी न.मैं: माँ आपके बूब्स मस्त है (मैंने डायरेक्ट कमेंट कर दी).माँ: (निचे देखते हुए हलकी आवाज में बोली)थैंक्स.

मैंने कन्फर्म करने के लिए झट से रोटी ख़तम करके दूसरी देने को माँ को कहा.माँ रोटी देनी झुक गयी माँ के बड़े-बड़े बूब्स दिख रहे थे. अब मैं वेट कर रहा था की माँ बटन खोलेगी या नहीं?थोड़ी देर हो गयी लेकिन माँ ने नहीं खोला. मेरी पूरी नजर माँ के बूब्स पे थी लेकिन वो बटन नहीं खोल रही थी तभी.मेरा फ़ोन पे मैसेज का नोटिफिकेशन आया तो देखने केलिए मैंने फ़ोन उठा लिया. ऑफिस का मैसेज था तो मैंने फ़ोन रख दिया. Mummy ki chudai

फिर जब माँ की तरफ देखा तो माँ की ब्लाउज का दूसरा बटन भी खुला हुवा था मुझे समझ गया की मैं देख रहा था इसी लिए वो नहीं खोल रही थी अब मुझे पता चला की माँ ने इस लिए चेंज किआ और साड़ी ब्लाउज पहन के आ गयी.

मैं: थैंक यू माँ.माँ: किस लिए?मैं: आप साड़ी पहन के आयी.माँ: सब्र का फल मीठा होता है.तो मैंने माँ के आँखों में आंख डाल कर स्माइल की एंड अपने लिप से जीभ फेर जैसे की मैं उन्हें खाना छठा हूँ तोह माँ ने भी नॉटी स्माइल दे दी.

माँ के ब्लाउज में 4 बटन्स थे और 2 खुल चुके थे.माँ: लगता है पेट भर गया.मैं: पेट के लिए नहीं मैं तोह मन भरने के लिए खा रहा हूँ और माँ को आंख मार दी.

Mummy ki chudai bete ne ki

माँ: अच्छा और हसने लगी.माँ: आज तोह कमसे काम 4 रोटी को खा ही लूंगा.
माँ: अच्छा है बच गयी मैं.

मैं: मतलब?माँ: कुछ नहीं एंड विंकेड -में.मैंने तोह सोचा ही नहीं था आगे की माँ ने तो सब सोच लिया था. माँ पूरे प्लानिंग के साथ आयी थी मैं सोचने लगा की 4 रोटी खाने के बाद क्या होगा लेकिन मैंने कभी 5 रोटी भी नहीं खायी थी. मैं जल्दी-जल्दी खाने लगा.

मैं: माँ जल्दी से और एक रोटी देना.बोलते ही मैंने अपने आंखे बंद कर ली तोह माँ थोड़ा सा हंसी.जब मैंने ने आंखे खोली तो मैं देखता ही रह गया. माँ ने ब्लाउज का ३र्ड बटन भी खोल दिया था अब माँ के बूब्स मेरे सामने करीब करीब पुरे ओपन ही थे बस अब एक रोटी एंड मेरी माँ मेरे सामने बूब्स ओपन करके बैठी होगी. Mummy ki chudai

तो दोस्तो कैसी लगी आपको ये कहानी ये म आपको अगले भाग मे बतऔगा।
Reda More Sex Stories..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *