By | June 17, 2023

Mummy ki chudai ki Tadap: हैलो दोस्तो, कैसे हो आप, मुझे उम्मीद है आप सब बढ़िया होगे, तो आपका जायदा समय न लेते हुये अब मैं कहानी पर आता हु,

दोस्तो मेरे लंड वाले दोस्तों और चुत वाली रंडियों कैसे है आप लोग? उम्मीद है आप लोग खुल के एक-दुसरे को चोद रहे होंगे और चुदवा रहे होंगे 

Mummy ki chudai ki Tadap

मेरी पिछली कहानियों को आप सभी का काफी प्यार मिला, आप में से काफी लोगों ने मुझे कमेंट करके अपना फीडबैक दिया जो की मुझे काफी पसंद आया।

कुछ लोगों को मेरी कहानी में कुछ कमी भी नज़र आयी तो मैं उनके द्वारा बताई गयी कमियों को दूर करने की कोशिश करूँगा।

आज जो मैं कहानी लिखने जा रहा हु वो मेरे एक पाठक और उनकी फॅमिली की है स्टोरी स्टार्ट करने से पहले सारे मेम्बर का इंट्रो करवा देता हु।

 मैं, फादर:- रमेश पांडेय उम्र 52,

मदर:- रम्भा देवी उम्र 44, फिगर 38-36-40,  (जैसा मुझे बताया गया है)

बड़ा भाई:- दिनेश उम्र 26 जो की एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करते है और सब से छोटा रिंकू जिसने मुझे स्टोरी लिखने के लिए एप्रोच किया।

उम्र 21 साल, लंड 11 इंच और कर्रेंटली ग्रेजुएशन में है आगे की कहानी अब रिंकू की ज़ुबानी, 

नमस्कार दोस्तों मैं रिंकू पांडेय उत्तर प्रदेश के मिर्ज़ापुर का रहने वाला हु।

ये कहानी मेरी पहली चुदाई की है जब मैंने अपनी माँ को चोदा, हम लोग मिडिल क्लास फॅमिली से बिलोंग करते है।

मेरे पापा एक जनरल स्टोर चलाते है और भाई प्राइवेट जॉब करते है, घर में मैं और मेरी माँ ही रहते है क्यूंकि पापा सुबह ही निकल जाते है और रात को ही आते है वो लंच भी ज़्यादातर दुकान में ही मंगवा लेते है। Mummy ki chudai ki Tadap

Mummy ki chudai ki kahani

मेरी मम्मी का फिगर थोड़ा भारी है और वो साड़ी ही पहनती है उनका ब्लाउज डीप नैक वाला होता है तो जब भी वो कभी झाड़ू-पोछा करने के लिए या फिर खाना परोसने के लिए झुकती है तो मुझे उनके बड़े-बड़े बूब्स के दर्शन हो जाते है।

स्टार्ट में तो मैंने नज़र-अंदाज़ किया लेकिन ये अब रोज रोज होने लगा तो अब मैं भी गौर से उनके बूब्स को देखने लगा।

ऐसे तो घर में हम दोनों ही होते थे तो वो भी इन सब चीज़ो का ज़्यादा ध्यान नहीं रखती थी आखिर हम दोनों माँ बेटा ही थे।

लेकिन उन्हें क्या पता की उनका बेटा जो की उनकी चुत से निकला था अब वो ही उनकी चुत में अपना लंड डालने के बारे में सोच रहा था।

मेरा कमरा मम्मी के कमरे के बाजु में ही था तो कभी-कभी जब मेरे मम्मी-पापा चुदाई करते थे तो उनकी आवाज़े मेरे कमरे तक आती थी जिससे मेरा उनको चोदने का और भी मैं करने लगा था।

ये घटना आज से लगभग ढाई साल पहले की है जब मुझे मेरी माँ को चोदने का मौका मिला, जैसा मैंने बताया की मेरे भैया बाहर जॉब करते है तो एक बार उनको डेंगू हो गया तो उनको डॉ ने हॉस्पिटल में एडमिट होने के लिए बोला ।

अब उनके साथ में किसी को रहना पड़ता था तो इसलिए मम्मी ने पापा को भेज दिया और घर में अब सिर्फ हम दोनों ही बचे थे।

तो मुझे अब लगने लगा था की मेरा ख्वाब पूरा होने वाला था फिर जिस दिन पापा निकले उस रात को मैंने जान-बूझ के अपने रूम के फैन का वायर कट कर दिया और मम्मी से बोला की मेरे रूम का फैन खराब हो गया था तो क्या मैं उनके साथ सो सकता हु ।

तो उन्होंने भी हां कर दी फिर मैं ख़ुशी-ख़ुशी उनके साथ सो गया मैंने सोते हुए अपना एक हाथ उनकी कमर के ऊपर रख दिया तो उन्होंने भी मेरा हाथ पकड़ के और ज़ोर से खींच लिया जिससे मेरी पकड़ और मज़बूत हो गयी।

फिर मैं उनसे और भी चिपक गया इधर मेरा लंड धीरे-धीरे खड़ा होने लगा था लेकिन मुझे डर भी लग रहा था।

फिर भी मैंने सोचा जब तक कोशिश नहीं करूँगा तब तक उनकी चुत कैसे मिलेगी, तो मैं मम्मी के सोने का वेट करने लगा जब मुझे लगा की मम्मी सो गयी थी तो मैं धीरे-धीरे अपना हाथ उनके सीने पर ले गया और धीरे-धीरे उनके बूब्स को सहलाने लगा।

मेरी गांड भी फट रही थी लेकिन जब मम्मी ने किसी तरह का रियेक्ट नहीं किया तो मेरी हिम्मत बढ़ने लगी और मैंने उनके ब्लाउज के दो बटन खोल दिए। Mummy ki chudai ki Tadap

Mummy ki chudai kahani

फिर मैंने अपना हाथ उनके ब्लाउज के अंदर डाल दिया और बूब्स को धीरे-धीरे सहलाने लगा।

जब मैंने उनके बूब्स को टच किया तो दोस्तों क्या बताऊ ऐसा लगा जैसे मैं मक्खन को टच कर रहा था।

फिर अचानक मम्मी ने करवट ली और पीठ के बल आ गयी और उनके दोनों बूब्स सांस के साथ ऊपर-नीचे हो रहे थे।

मेरे लिए तो अब कण्ट्रोल करना मुश्किल हो रहा था और मेरा लंड भी अपनी पूरी शान से खड़ा था मैं उनकी चुत में अपना झंडा गाड़ने को बेचैन था।

फिर मैंने थोड़ी और हिम्मत दिखाई और उनके ब्लाउज के सारे बटन खोल दिए और एक झटके में उनके मखमली बूब्स आज़ाद हो गए उफ़ दोस्तों क्या बताऊ मैं, मेरा तो मन कर रहा था की अभी निचोड़ के पी जाऊ सारा रस बड़ी मुश्किल से कण्ट्रोल किया और अब मैं बैठ गया और दोनों हाथो से अपनी मम्मी के बोबस के साथ खेलने लगा।

इतना सब होने के बाद भी मम्मी किसी तरह की कोई हरकत नहीं कर रही थी इससे मेरी हिम्मत और बढ़ने लगी तो अब मैंने उनकी चुत के दर्शन करने का सोचा लेकिन डर भी लग रहा था।

मगर वो कहते है न जब लंड बोलता है तो आदमी अपने दिमाग की नहीं सुनता है वही मेरे साथ हो रहा था मैं अब उनके पैरों के पास आ गया और धीरे-धीरे उनकी साड़ी ऊपर करने लगा और कुछ ही देर में साड़ी घुटनो के ऊपर थी मगर असली मुश्किल तो अब शुरू होनी थी।

क्यूंकि लेटे होने की वजह से साड़ी उनके पेअर से दबी थी तो ऊपर नहीं जा रही थी फिर मैंने ज़्यादा रिस्क लेना सही नहीं समझा क्यूंकि मेरी फट भी रही थी तो मैं फिर मम्मी के पास लेट गया और उनके बूब्स के साथ खेलने लगा।

फिर पता नहीं कब मुझे नींद आ गयी सुबह जब मैं जगा तो मम्मी बेड में नहीं थी मेरी तो इस बार सच में गांड फट के हाथ में आ गयी थी। Mummy ki chudai ki Tadap

Mummy ki chudai story

मैं डरते-डरते बाथरूम गया और फ्रेश हो कर अपने रूम में चुप-चाप चला गया और खुद पे रिग्रेट करने लगा की अब तो बेटा गांड टूटेगी इतने में मम्मी ने आवाज़ लगायी की नाश्ता रेडी था।

तो अब मैं डरते-डरते बाहर गया मेरी हिम्मत नहीं हो रही थी नज़र मिलाने की लेकिन वो नार्मल बाते कर रही थी जैसे कुछ हुआ ही नहीं था।

फिर मैंने हल्का सा नाश्ता किया और फिर अपने कमरे की तरफ जाने लगा तो उन्होंने मुझे रुकने के लिए बोला और अपने पास बिठाया।

फिर वो प्यार से बोली-

मम्मी: ये सब क्या है बेटा ? मैं मानती हु की इस उम्र में सेक्स की भावना मन में आना नार्मल है लेकिन अपनी मम्मी के साथ ऐसे कोन करता है?

उनके ऐसे पोलाइट बेहेवियर की वजह से मैं थोड़ा नार्मल हुआ और मैंने सॉरी बोलै, 

मैंने उनसे कहा: मुझे माफ़ कर दो मगर आप मुझे बहुत प्यारी लगती है मैं चाहते हुए भी आपके बारे में खुद को सोचने से नहीं रोक सकता हु।

तो मम्मी ने मुस्कुराते हुए मुझसे पुछा: 

मम्मी: मुझमे ऐसा क्या देखा जो मैं तुम्हे इतनी प्यारी लगती हु? तो मैं सर झुका के चुप रहा फिर उन्होंने प्यार से मेरा चेहरा ऊपर करते हुए कहा-

मम्मी: सब कुछ तो कर लिया अब क्यों शर्मा रहा है? बता न बेटा ऐसा क्या देखा जो तेरी नीयत अपनी मम्मी पे ही ड़ोल गयी? उनके मुँह से ऐसी बातें सुन के मेरी खोई हुई हिम्मत फिर से वापस आने लगी।

तो मैंने फिर भी डरते हुए कहा-

मैं: आपके बूब्स और आपकी गांड, 

तो वो बोली: अच्छा ? तो मैंने हां में सर हिलाया फिर मैंने उनसे कहा-

मैं: प्लीज मम्मी बस एक बार देख लेने दो, तो वो बोली:  Mummy ki chudai ki Tadap

Mummy ki chudai hindi mein

मम्मी: मैं चाह के भी ऐसा नहीं कर सकती हमारा रिश्ता ऐसा करने की इजाज़त नहीं देता, तो मैंने झट से कहा: 

मैं: मतलब तुम भी ऐसा चाहती हो, इसपे वो चुप रही मुझे एक बार फिर मेरा सपना पूरा होता दिख रहा था तो मैंने आगे कहा-

मैं: हम दोनों माँ बेटा बाद में है सबसे पहले एक औरत और मर्द है सच बताना पापा तुम्हे खुश कर पाते है इस उम्र में? तो वो धीरे से बोली: 

मम्मी: ताकत तो अभी भी ठीक-ठाक है मगर उनमे पहले वाली बात नहीं रही, फिर मैं बोला: 

मैं: प्लीज मम्मी एक बार मुझे मौका देकर देखो अगर खुश न किया तो फिर दोबारा कभी मत करने देना, 

वो फिर बोली: नहीं ये पाप है, 

तो मैं बोलै: कोई पाप नहीं है क्या खुश रहना तुम्हारा हक़ नहीं है? तो वो चुप रही फिर मैंने अपना हाथ उनके हाथ में रख दिया तो उन्होंने कुछ रियेक्ट नहीं किया उसके बाद मैं उनके पीछे आ गया और वो चेयर में बैठी थी तो मैंने उनके बालों को साइड करके उनकी गर्दन पर एक किश किया।

इससे वो चौंक गयी और उठ के खड़ी हो गयी, फिर वो अपने रूम की तरफ जाने लगी तो मैं भी उनके पीछे-पीछे चला गया मैंने उनको प्यार से बेड पे बिठाया और उनके हाथो को चूमने लगा।

फिर वो बोली: मानोगे नहीं तुम? तो मैंने हस्ते हुए अपने लंड की तरफ इशारा करते हुए कहा: 

मैं: मैं मान भी जाऊ तो ये नहीं मानने वाला है रात से ही खड़ा है और अब तो दर्द भी कर रहा है जब उनकी नज़र मेरी पैंट में गयी तो उनकी आँखों में चमक आ गयी और फिर वो बोली: 

मम्मी: ठीक है मगर ये पहली और आखरी बार होगा और किसी को इस बारे में पता नहीं चलना चाहिए, तो मैंने ओके बोलै और फिर उनको प्यार से बेड में लिटा दिया मम्मी ने आँखें बंद कर रखी थी तो मैं उनकी साइड में लेट गया और उनके सर में किश किया।

फिर मैंने उनके बालों को आज़ाद कर दिया उसके बाद उनकी आँखों के ऊपर किश किया और फिर गालों में और हलके दांत के निशान भी डाल दिए, वो दर्द से थोड़ा कसम साई फिर मैंने अपने होंठ उनके होंठो पर रख दिए और उनको पागलों की तरह किश करने लगा और अपनी जीभ उनके मुँह में डाल दी। Mummy ki chudai ki Tadap

Mummy ki chudai dekhi

कुछ देर उन्होंने कोई हरकत नहीं की मगर फिर वो भी मेरा साथ देने लगी अब मैंने उनके ब्लाउज के बटन खोलने चालु किये तो मैं चौंक गया क्यूंकि उन्होंने रेड कलर की ट्रांसपेरेंट ब्रा पहनी हुई थी।

जब की उन्होंने नहाया भी नहीं था और साड़ी और ब्लाउज रात वाले ही पहने हुए थे जब मैंने आश्चर्य वाली नज़रो से देखा तो वो मुस्कुराते हुए बोली-

मम्मी: बेटा मैं तुम्हारी माँ हु मेरी ही चुत से निकला है तू और तू मेरे बारे में क्या सोचता है ये की मुझे नहीं पता होगा क्या मैं भी बस मौके की तलाश में थी इतना सुनते ही मुझे आश्चर्य और ख़ुशी से पता ही नहीं चल रहा था की कैसे रियेक्ट करू क्यूंकि अब मुझे पता चल गया था की मेरी माँ भी मेरे नीचे आ कर मेरा लंड अपनी चुत में डलवाना चाहती थी और वो फिर बोली: 

मम्मी: रात में भी मैं जगी थी तुझे क्या लगा इतना सब करेगा और मेरी नींद नहीं खुलेगी? ये सुन कर मैं ख़ुशी से झूम उठा और एक ही झटके मैंने उनके ब्लाउज के सारे बटन तोड़ दिए मैंने उनका ब्लाउज भी फाड़ डाला और फिर उनकी साड़ी और पेटीकोट भी एक झटके में उतार दिए वो नीचे भी रेड कलर की पंतय पहने हुई थी अब वो सिर्फ ब्रा और पंतय में थी फिर मैंने भी एक झटके में खुद को नंगा किया और उनके पैरों के बीच आ गया और उनकी पंतय के ऊपर से ही चुत को सहलाने लगा।

अब मैंने उनकी पंतय उतार दी उनकी चुत एक-दम चिकनी थी और एक भी बाल नहीं था वो फिर मुस्कुराते हुए बोली-

मम्मी: तुम्हारे लिए ही इसको सवारा है अब मैं मम्मी के ऊपर आ गया और हम 69 पोज़ में आ गए। फिर मैंने अपने होंठ उनकी चुत में रख दिए और किश करने लगा वो भी मेरे लंड को पहले से ही अपने हाथ से सेहला रही थी और फिर अपनी जीभ से लंड के ऊपरी हिस्से को लीक करने लगी मेरी बॉडी में मानो जैसे करंट दौड़ने लगा। Mummy ki chudai ki Tadap

Desi mummy ki chudai

फिर थोड़ी देर बाद उन्होंने मेरे लंड को अपने मुँह में डाल लिया और लोल्लिपोप की तरह चूसने लगी।

अब हम दोनों ही मोअन करने लगे थे मैं तो सातवे आसमान में था और थोड़ी देर बाद मेरे लंड में सनसनी होने लगी और जब ये मैंने मम्मी को बताया तो वो बोली-

मम्मी: मेरे मुँह में ही निकाल दो फिर मैंने दो-तीन झटके मुँह में मारे और सारा माल उनके मुँह में ही निकाल दिया उसके बाद मैं उनके ऊपर लेट गया मगर मेरी जीभ अभी भी मेरी माँ की चुत की सेवा में लगी थी।

फिर थोड़ी देर बाद वो भी झड़ गयी और मैंने उनका सारा चुत रस पी लिया और अब मैं उनके पास आ कर लेट गया।

फिर मैं उनके मुम्मो और चुत के साथ खेलने लगा और वो मेरे लंड के साथ थोड़ी ही देर में मेरा लंड फिर हरकत करने लगा और फिर से तन्न के खड़ा हो गया।

मैं फिर अपनी मम्मी की टांगो के बीच में आ गया और उनकी चुत को चाटने लगा मैंने अपनी जीभ उनकी चुत के अंदर डाल दी और जीभ से ही उनकी चुत चुदाई करने लगा वो इतनी मस्त हो गयी थी की मेरा सर अपनी चुत में दबाने लगी और मोअन करते हुए मदहोशी में बोलने लगी-

मम्मी: बेटा अब और नहीं रहा जाता जल्दी से डाल दे अपना मुसल मेरी चुत में और बन जा मादरचोद उनके मुँह से ऐसी बातें सुन के मैं भी उत्तेजित हो गया और उनकी दोनों टांगो को उठा के अपने कंधे पर रखा और मम्मी को बोला –

मैं: मेरा लंड पकड़ के अपनी चुत में डालो, तो झट से उन्होंने ऐसा ही किया और मैंने अपने लंड को उनकी चुत में डालने के लिए दबाया लगभग आधा लंड एक बार में ही उनकी चुत के अंदर चला गया क्यूंकि उनकी चुदाई बराबर मेरे पापा करते रहते थे तो उनको ज़्यादा दर्द नहीं हुआ मगर फिर भी उन्होंने एक आह भरी फिर वो मुझे अपनी तरफ खींच के किश करने लगी और बोलने लगी- Mummy ki chudai ki Tadap

Papa mummy ki chudai

मम्मी: बधाई हो आज तू अपनी माँ को चोद के मादरचोद बन गया और मैंने भी उन्हें अपने बेटे से चुदवाने की बधाई दी और फिर अपना लंड बाहर निकला और एक ही झटके में अंदर डाल दिया इस बार के हमले के लिए वो तैयार नहीं थी तो इस बार उनकी हलकी चीख निकल गयी और उन्होंने खुद को कण्ट्रोल करने के लिए अपने नाख़ून मेरी पीठ में चुभो कर निशाँ बना दिए।

वो मुझे गालिया देने लगी: चोद अपनी माँ को भड़वे बना ले मुझे अपनी रखैल मैं भी उनको गालिया देने लगा: ले चुद अपने बेटे से साली रंडी ले अपने बेटे का लोढ़ा अपनी चुत में देख आज कैसे तेरी चुत का भोंसड़ा बनता हु और हम दोनों किश करने लगे अब मैं उनकी चुत में दना दन अपना लंड पेलने लगा।

मैं उनके बूब्स को अपने मुँह में डाल के चूसने लगा और वो भी मोअन करने लगी और मेरे बालों के साथ खेलने लगी करीब 20 मिनट की चुदाई के बाद मैंने उनको बोलै-

मैं: अब तुम ऊपर आओ, तो वो बोली: 

मम्मी: ठीक है लेकिन लंड मत निकालना ऐसे ही घूम जाते है फिर हम दोनों ने पोजीशन बदली अब मैं नीचे और वो ऊपर थी और वो मेरे लंड की सवारी कर रही थी।

मैं उनके बूब्स दोनों हाथो से पकड़ के खिच कर रहा था और वो मेरे सीने को नाख़ून से खरोंच रही थी इस पोज़ में वो एक-दम माझी हुई रंडी लग रही थी और मेरे लंड पे आधी-तिरछी बैठ रही थी।

ऐसा लग रहा था मानो अपनी चुत के हर एक हिस्से को मेरे लंड से खुजलाना चाह रही थी इस तरह करीब 25 मिनट मेरे लंड की सवारी करने के बाद मम्मी बोली-

मम्मी: बेटा अब मैं थक गयी हु अब तू ऊपर आ और मुझे चोद ।

मैं बोलै: चल कुतिया बन जावो बोली: ठीक है मगर गांड में मत डालना, तो मैंने हस्ते हुए कहा: तू चिंता मत कर उसको नेक्स्ट राउंड में फाड़ूंगा, वो मुझे मना करने लगी तो मैं बोलै: 

मैं: ज़्यादा नखरे मत कर पहले अभी अपनी चुत फड़वा फिर बाद में सोचना क्या करना है फिर वो झट से कुतिया बन गयी और मैं उसके पीछे आ गया और उसकी चुत और गांड चाटने लगा जब उसकी चुत गीली हो गयी तो फिर मैंने अपना लंड उसकी चुत के ऊपर रखा और फिर एक झटके में डाल दिया और  Mummy ki chudai ki Tadap

Mummy ki chudai hindi

फिर दना-दन चोदने लगा, हम लोग करीब आधे घंटे से चुदाई कर रहे थे अब मेरा निकलने वाला था तो मैंने मम्मी से कहा-

मैं: मेरा माल निकलने वाला है कहा डालु ?तो वो बोली: 

मम्मी: मेरे अंदर ही डाल दे, इतना सुनते ही मैंने और ज़ोर-ज़ोर से धक्के लगाना चालु कर दिया इस बीच वो भी बोली-

मम्मी: मैं भी झड़ने वाली हु, तो मैं बोलै: 

मैं: साथ में झड़ना और फिर मैं ज़ोर-ज़ोर से झटके मारने लगा हमारी बॉडी के टकराने की आवाज़ से पूरा कमरा गूँज रहा था और करीब 15-20 झटके मारने के बाद मेरी बॉडी में एक करंट सा दौड़ा और मेरा लंड चुत के अंदर ही अपना लावा छोड़ने लगा।

इस बीच मेरी रंडी मम्मी भी झड़ गयी और वो पेट के बल गिर गयी मगर मैं झटके मारता रहा और उनकी गर्दन में किश करता रहा करीब 30-35  झटके मारने के बाद मैं उनके ऊपर ही लेट गया और उनकी गर्दन को किश करते हुए उनको आई लव यू मेरी रांड” बोला तो वो भी मुस्कुराते हुए “आई  लव यू भड़वे” बोली और हम दोनों हसने लगे।

तब मैंने पुछा: अब बताओ मैंने खुश किया की नहीं? तो उन्होंने हां में सर हिलाया और वो सीधा लेटने को बोली।

फिर मैं उनके ऊपर से हट गया जब वो सीधा लेटी तो मैं फिर से उनके पैरों के बीच आ गया और उनकी चुत से टपक रहे मेरे माल और उनके पानी के मिक्सचर को मैंने अपनी जीभ से चाट-चाट कर साफ़ कर दिया ।

मैंने सारा माल अपने मुँह में भर लिया फिर मैं उनके बगल में आ कर लेट गया और उनको किश करने लगा।

मैंने अपने मुँह का माल उनके मुँह में डाल दिया और फिर उसने मेरे मुँह में इस तरह हम एक-दुसरे के मुँह में डालते रहे और आखिर में हम दोनों ने पी लिया उसके बाद हम किश करने लगे। Mummy ki chudai ki Tadap

Mummy ki chudai sex story

किश करते हुए मैंने उनसे कहा: 

मैं: अगर एक बात पूछू तो बुरा तो नहीं मानोगी न? तो वो बोली: 

मम्मी: अब क्या बुरा मानना, फिर मैं बोलै: 

मैं: तुमने अभी तक कितने लंड को अपनी चुत का दर्शन कराया है?तो उन्होंने हस्ते हुए कहा: इसमें बुरा मानने वाली क्या बात है? फिर उन्होंने कहा की उन्होंने अभी तक मेरे पापा के अलावा 5 लंड को अपने चुत के अंदर डलवाया था तो मैंने पुछा: कोण कोण  है वो?Mummy ki chudai ki Tadap

फिर उन्होंने सारे नाम बता दिए जिनके बारे में सुन कर मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और फिर हमने 2 राउंड और जमके चुदाई की फिर नहाने के लिए साथ में बाथरूम चला गया वो 5 लंड कोन थे वो मैं अगले पार्ट में बताऊंगा और उन सब के साथ मम्मी की चुदाई की कहानी भी बताऊंगा और पापा के आने तक हमने क्या-क्या किया ये सब बताऊंगा ,

आप लोगों को मदर फ़क स्टोरी कैसी लगी मुझे कमेंट करके ज़रूर बताना आप लोगों की अप्प्रेसिअशन ही मुझे आगे स्टोरी लिखने के लिए प्रेरित करती है.

हमारी वैबसाइट से चुदाई की मस्त कहानिया पढ़ने के लिए यहा क्लिक करे-> www.xstory.in

Read More Sex Stories…

4 Replies to “मम्मी की चुदाई की भूख बेटे के लंड ने दबाई”

  1. Pingback: भाभी और माँ की चुदाई एक साथ 2 Bhabhi ki chudai ki Story

  2. Praveen

    Praveen Singh
    Bihar se koi unstatisfied lady/women, Girl’s/ housewife, bhabhi/aunty, widowed/divorced ko fully satisfaction chahiye ya ” pregnant hona chahte hai” ya “Couple threesome sex krna ho” please contact me-6201488244
    About me-
    Sainik School Gopalganj boy
    Good Stamina boy
    Age 25
    Height-5’6
    Penis-: 7.5-8 inches
    From-katihar
    Good looking boy
    I am friendly boy (so read krke mt rho
    Please please please contact me-6201488244 call/what’sapp

    Reply
  3. Danae

    It’s an remarkable paragraph for all the web visitors; they will take advantage from it I am sure.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *