By | April 12, 2023

Pados Aunty ki chudai story:- हेलो दोस्तों! मेरा नाम मनदीप है. मेरी उम्र 23 साल की है, ये स्टोरी मेरी और मेरी पड़ोस वाली आंटी की चुदाई की है जिसकी मैं बहुत रेस्पेक्ट करता था और उसको बड़ी मम्मी कह कर बुलाता था. उनकी उम्र 48 है और बहुत ही सेडक्टिव है जो किसी का भी लंड खड़ा कर दे. चलिए अब स्टोरी की तरफ चलते है.

ये तब की बात है जब हम दोनों पडोसी परिवार अपने नए घर मे रह रहे थे. वो हमसे 2 महीने पहले ही उस घर मैं शिफ्ट हो गए थे. और अब गृह-प्रवेश की बारी हमारी थी और हमैं गेस्ट को रुकने के लिए जगह चाहिए थी.

हमारी वैबसाइट से चुदाई की मस्त कहानिया पढ़ने के लिए यहा क्लिक करे-> www.xstory.in

Pados ki Aunty ki Chudai

इसलिए हमने उनके घर की चाबी मांगी क्यूंकि उनका घर हमारे घर के बिलकुल सामने ही था. हमे चाबी देने से पहले वो एक कामवाली को साफ़-सफाई के लिए लेके आयी. तभी अचानक लाइट चली गयी.

इस वजह से उन्होंने मुझे बुलाया ताकि मैं उनकी हेल्प कर सकू. जब मैं वहाँ पहुंचा तो मैंने उनको झुकी हुई देखा. वो कुछ उठाने के लिए झुकी हुई थी. विश्वास करना दोस्तों उनको देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया. उनकी गांड बहुत चौड़ी है. उनकी कुर्ती के स्लीव के कार्नर पर एक टैटू भी था.

उफ़ उस 48 साल की औरत ने मेरा लंड खड़ा कर दिया. वो पल जब मैं उनको देख रहा था, मेरा मन उनकी गांड मे मुँह डालने का कर रहा था. फिर उन्होंने मुझे उनको घूरते हुए देख लिया और एक नॉटी स्माइल दी.

फिर वो उठ गयी. मैंने लाइट को ठीक किया और वापस आने लगा. मुझे याद है एक बार उनका एक एक्सीडेंट हुआ था जिसके निशान थे उनके हाथ पर. मैंने उनको टच किया और उसके बारे मैं पुछा. उन्होंने फिर मुझे वो मार्क्स दिखाए. मैंने उनको वहां पर भी एक टैटू बनवाने की सलाह दी. Pados Aunty ki chudai story

Desi Aunty ki chudai ki kahani

मै – बड़ी मम्मी कैसा है आपका हाथ अब?

बड़ी मम्मी: हाथ काम तो कर रहा है पर देख न दिखा भी नहीं सकती इतना गन्दा दिख रहा है अब.

मैं: तो बड़ी मम्मी आप टैटू करवा लो (मै मज़ाक मैं बोला).

बड़ी मम्मी: हां सोचा हुआ है पर एक-दम विज़िबल टैटू अपने शहर मैं दिक्कत करेगा सोसाइटी को. आप जानते हो यहाँ के लोग कैसे है. मनदीप?

मै – किस-किस की टेंशन लोगी बड़ी मम्मी? वैसे भी आपका एक तो विज़िबल ही है।

बडी मम्मी: हां-हां तू जब से आया है उसको ही तो देख रहा है.

मै – ये सब आपने मुझे करते हुए देख लिया?

बड़ी मम्मी: मुझे तो ये भी पता है जब मैं यहाँ रहती थी तब तू वो काँच के पीछे जाके मुझे देख कर क्या-क्या करता था।

मै – और आपको कोई दिक्कत नहीं है?

बड़ी मम्मी: मुझे क्या ही दिक्कत होगी? मुझे इस उम्र मैं भी अटेंशन मिल रही है तुझ जैसे से तो और क्या ही मांगू!

फिर मैंने कहा अटेंशन की पूर्ती करे? अभी तो इस घर मैं कोई है भी नहीं मेरे और आपके अलावा.

बड़ी मम्मी: तू तो बड़ा सीधा है सब के हिसाब से और मेरे सामने क्यों खुल रहा है?

मैं: क्यूंकि आपने मेरा सीधा कर दिया है.

ये सुन कर बड़ी मम्मी हंस पड़ी.

बड़ी मम्मी: तू वर्जिन है न?

मैं: हां बड़ी मम्मी अब खींचना मत आप भी मेरी.

बड़ी मम्मी: अरे नहीं बेटा मुझे तो सीखना काफी पसंद है.

Meri Sagi desi aunty ki chudai

फिर बड़ी मम्मी मेरे नज़दीक आने लगी और देखते ही देखते हम दोनों के लिप्स जुड़ चुके थे. उनकी लिपस्टिक बहुत टेस्टी थी. और मैं पागलों की तरह उनके लिप्स को चाटने और टंग को चूसने लगा. यही करते-करते मैंने उनकी कुर्ती की स्लीव्स दोनों हटा दी उनकी नैक पर किश करते हुए और उन्होंने पहनी थी मेरी फेवरेट ब्लैक कलर ब्रा. मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उनकी ब्रा स्ट्राप अपने मुँह से ही हटानी शुरू कर दी. साथ-साथ मेरे हाथ उनकी बैक तो टटोल ही रहा था. Pados Aunty ki chudai story

फिर बड़ी मम्मी बोली: गधे अंदर तो चल लिविंग रूम है ये और लॉक भी नहीं है.

मैं: सॉरी बड़ी मम्मी एक्ससिटमैंट यू क्नोव.

फिर वो भूखी शेरनी जैसे मेरी शर्ट को पकड़ कर मुझे अंदर ले गयी. अब वो पागल हो चुकी थी. रूम का डोर लॉक करते ही मुझे उन्होंने दीवार पे धकेला और अपने कपडे उतारने लगी. उनकी कुर्ती उतारते ही मैं उन पर चढ़ गया और उनके जिस्म को अपने हाथ से फील करने लगा. फिर धीरे से मैंने उनकी सलवार उत्तारी और फिर आयी वो गांड जिसके लिए मैं 7 साल से हिला रहा था. उनकी गांड पर मैंने स्पंक करना शुरू किया और उनकी सिसकिया निकलने लगी. उनको मैं चूमते हुए उनके गले तक पहुंचा और फिर उनकी ब्रा उतार कर फेंक दी. फिर मैं पागलों की तरह उनके बूब्स पर टूट पड़ा.

तभी बड़ी मम्मी ने बोली इतनी जल्दी नहीं मैं जैसा कहु वैसा कर.

फिर उन्होंने अपनी पेंटी उतारते हुए मेरे मुँह को नीचे धकेला और कहा-

बड़ी मम्मी: इसको खा.

पड़ोसन आंटी की चुदाई की कहानी

और मैं पागल वर्जिन की तरह उनकी चुत चाटने और चूसने लगा. मुझे स्वाद से फरक नहीं पड़ रहा था क्यूंकि मुझे तो बस मज़ा आना चाहिए था जो मुझे आ रहा था. मैं जब अपनी जीभ और नाक उनकी चुत मैं रगड़ रहा था उनकी सिसकियाँ निकल रही थी. फिर वो बोली-

बड़ी मम्मी: आह साले तू मेरे को पहले क्यों नहीं मिला? मैं इसी तरह से रोज़ तुझसे चुद कर चटवाती.

मैं: अब रोज़ चाट दूंगा बड़ी मम्मी.

ये बोल कर मैं खाता रहा उनकी चूत को. वो मेरे बालों को पकड़ कर मुझे अपनी चुत पर चटवा रही थी और 8-10 मिनट मैं उन्होंने अपना पूरा नमकीन पानी मेरे मुँह पर छोड़ दिया. मैंने एक बूँद तक नीचे नहीं गिरने दी और पूरी चाट गया.

बड़ी मम्मी: साले तू तो वर्जिन है तो इतनी अच्छी चुत कैसे चाट लेता है?

मैं: आपको चाटने का इमेजिनेशन तो कब से जारी है बड़ी मम्मी.

बड़ी मम्मी: अब मैं भी तो देखु तेरे अंडरवियर मैं क्या छुपा है साले.

मैं: जो भी है टाइट है एक-दम फिलहाल.

फिर बड़ी मम्मी उठ कर मेरे सामने आयी. मैं बेड के सामने खड़ा था. फिर उन्होंने मेरी अंडरवियर जैसे ही निकाली मेरा लंड स्प्रिंग जैसी बाहर आ गया.

बड़ी मम्मी: आय-हाय! तेरा लंड तो काफी बड़ा हो गया है.

फिर उन्होंने मेरा लंड पकड़ कर तुरंत उसको चूसना शुरू कर दिया. 3-4 मिनट उनके चूसते ही मेरा निकल गया क्यूंकि मैंने पहले कभी नहीं किया था. Pados Aunty ki chudai story

बड़ी मम्मी ने पूरा रस अपने मुँह मैं भरा था और फिर वो मुझे किश करने लगी. हमारे जो मेरे मुँह मैं था और जो उनके मुँह मैं था दोनों मिक्स होते रहे हमारे होंठो के बीच. 5 मिनट के अंदर मैं वापस तैयार था अपने हथियार के साथ.

तब बड़ी मम्मी ने बोला : बहुत तेज़ है मादरचोद तू. याद है न मैं तेरी माँ की दोस्त भी हु साले? बताऊ तेरी माँ को कैसे चोदता है तू?

मैं: पहले ले तो लो बड़ी मम्मी फिर मम्मी को छोड़ के पूरे ग्रुप मैं फैला देना. मैं भी तो अलग-अलग चुत के मज़े करू.

बड़ी मम्मी: बहनचोद चल लगा उसको छेद मैं मेरे और मिटा इस कूगर के जिस्म की भूख.

फिर मिशनरी मैं मैंने उन्हें लिटाया और उन्होंने मेरा लंड पकड़ कर अपनी चुत मैं फसाया. और फिर क्या था मैंने बिना कुछ सोचे एक बार मैं पूरा लंड अंदर डाल दिया (उनकी छूट ढीली थी). उनकी ज़ोर की चीख निकल गयी-

बड़ी मम्मी: अबे साले एक बार मैं नहीं डालते अह्ह्ह्हह्हह.

मैं: सॉरी बड़ी मम्मी मुझे नहीं पता था.

बड़ी मम्मी: चुप कर साले और अभी जितनी ज़ोर से घुसाया है ना हर स्ट्रोक उतनी ही ज़ोर से होना चाहिए.

फिर मैंने उनकी गर्दन से उन्हें पकड़ा और उनकी एक टांग को अपने कंधे पर रख कर उनकी चुत मारने लगा. उनकी चीखें तेज़ हो रही थी.

Hot aunty ki chudai ki story

बड़ी मम्मी: आह्हः मनदीप अह्ह्ह साले कहा था तू? चोद आज मुझे अच्छे से अहह आह कुत्त्ते अह्ह्ह और डाल और डाल अह्ह्ह अहह उम् उम्म्म्म. Pados Aunty ki chudai story

मैं उनके बूब्स पर स्पंक भी कर रहा था. वो मुझे गालिया देते हुए बोलने लगी-

बड़ी मम्मी: साले वर्जिन था तू कैसे इतनी देर टिक गया मेरी चुत मैं?

उनके ये बोलते हुए मैंने अपनी स्पीड और बढ़ा दी.

मैं: अहह बड़ी मम्मी अह्ह्ह हआ मेरा बस अब निकलने ही वाला है उम् अह्हह्ह्ह्ह.

बड़ी मम्मी: अभी नहीं अभी नहीं ओह्ह फक चोद साले और चोद .

मैं: नहीं बड़ी मम्मी नहीं हो रहा नहीं हो रहा अहह अहह.

बड़ी मम्मी: झाड़ दे अंदर ही मैं प्रेग्नेंट नहीं हो सकती अब अह्ह्ह.

और मैंने एक लाउड मोअन के साथ अपना माल पूरा उनकी चुत मैं छोड़ दिया और उन पर गिर पड़ा. फिर मैं उनको किश करने लगा तो उन्होंने तुरंत हटाया और बोली-

बड़ी मम्मी: सुन्न न रोमांटिक होने की ज़रुरत नहीं है. सिर्फ चोद ज़लील करते हुए मुझे तू. तेरी अभी काफी ट्रेनिंग करनी है. आज तो तू बस 8 मिनट टिका है. इसको 40 मिनट तक मैं लेके जाउंगी समझा.

मैं: बिलकुल बड़ी मम्मी जैसा आप कहो.

उसके बाद की अगली चुदाई कैसे उनकी एक दोस्त के साथ हुई ये अगली कहानी मैं बयान करता हु. अभी के लिया अलविदा.

Read More Sex Stories…

3 Replies to “टैटू के बहाने पड़ोसन आंटी को चोदा | Pados ki Aunty ki Chudai”

  1. Pingback: मामी की प्यासी चुत Mami ki Chudai

  2. Pingback: पति था बेकार तो ससुर के बड़े लंड से चुदवा बैठी 5 Sasur Bahu Ki Chudaai

  3. Pingback: मैंने अपनी सगी बहन की चुत की सील तोड़ी bhai bahan ki chudaii

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *