By | April 23, 2023

Purani Chudai ki Kahani: हैलो दोस्तो, Purani Chudai ki Kahani अपने पहली कहानी में पढ़ा की रोमन सिपाहियों ने मेरे शहर पर हमला किया, मेरे घरवालों को मार दिया था मुझे अस्तपार के गवर्नर की बीवी लुक्रेटिए ने अपनी बाँधी बना लिया था अब आगे,

जब सब मेहमान चले गए तो मैं मालकिन के साथ उनके कमरे में आ गयी, उनके कपडे उतारे और फिर उनको रात के ढीले वाले कपडे पहना दिए.

Purani Chudai ki Kahani

Purani Raja Rani Ki Chudai ki Kahani

फिर उन्होंने मुझे जो पहनाई थी ड्रेस वह भी वापस ले ली तो मैं वापस अपने कमरे की तरफ आने लगी तो मालकिन ने मुझे रोक लिया. मुझे वही उनके पास रहने के लिए बोला तो मैं वही रुक गयी. फिर तभी वह मालिक आ गए. उनके साथ 2 रंडिया और 2 लड़के थे. वह चारो एकदम नंगे थे. लड़को के लंड तो थे लेकिन उनके लंड निकाले हुए थे.

उनका लंड कहा भी नहीं जा सकता था. वह तो लूलिया थी. लेकिन वह थे पुरे मर्द ही चौड़ी छाती मज़बूत बाहें और लम्बी हाइट वाले. मुझे मालकिन ने एक साइड में खड़े रहने के लिए बोल दिया और फिर वह दोनों लड़के मालकिन के कपडे उतारने लगे और दोनों लड़किया मालिक के वह दोनों जब नंगे हो गए तो

एक लड़की मालिक का लंड चूसने लगी और दूसरी तरफ मालकिन को उन दोनों लड़को ने लेटा दिया और एक उनके बूब्स चूसने लगा.

Raja rani ki chudai hindi mein

दूसरा उनकी चूत चाटने लगा. मालकिन आहें भरने लगी और मैं ये सब देखकर गरम होने लगी. मैं पहली बार ऐसे सेक्स होते हुए देख रही थी. क्युकी मैंने बस लड़कियों को ऐसे ही चुदते देखा था बस लड़का उनकी चूत में लंड डालकर अंदर बहार करता था.

लेकिन यहाँ तो अलग ही मामला चल रहा था फिर जब वह दोनों गरम हो गए तो उन्होंने दोनों लड़को और लड़कियों को हटा दिया और फिर एक दूसरे को किश करने लगे और निचे से मालिक ने अपना लंड मालकिन की चूत में दाल दिया.
मालकिन किश करते करते ही उनके लंड पर उछलने लगी मुझे कुछ महसूस हुआ मेरी टांगो पर कुछ बह रहा था.

वह मेरी चूत से निकलकर आ रहा था मैं बहुत गरम हो रही थी मेरी चूत से लार जैसा कुछ टपक रहा था

मैंने अपने पहने हुए कपडे से साफ़ किया और फिर सीधी खड़ी हो गयी मालिक मालकिन को पूरा मज़ा दे रहे थे. Purani Chudai ki Kahani

Sexy rani ki chudai kahani

उनका लंड लगभग 8 इंच का था. वह एकदम तना हुआ खड़ा था तो मालकिन को बहुत मज़ा आ रहा था. उस दिन मैंने पहली बार महसूस किया के शायद मुझे भी लंड की ज़रूरत है.

मेरा हाथ बार बार मेरी चूत की तरफ जा रहा था. मैं अपने उपर कण्ट्रोल नहीं कर पा रही थी तभी मुझे मालकिन ने आवाज़ लगायी. मैं इतनी मदहोश हो गयी थी के मुझे आवाज़ भी नहीं सुनाई दी उनके 2-3 बार बुलाने पर मैंने जवाब दिया तो उन्होंने पानी माँगा तो

मैंने उनको और मालिक को पानी पिलाया. जब मालिक और मालकिन पानी पी रहे थे तब लड़की आकर उनका लंड चूसने लगी और लड़का आकर मालकिन की चूत चाटने लगा. उन्होंने फिर से चुदाई शुरू कर दी और फिर मालिक ने मालकिन की चूत में झड़ गए और फिर वह दोनों वही लेट गए। चारो लड़की लड़के उनको हवा करने लगे.

फिर मालकिन ने मुझसे शराब पीने की इच्छा ज़ाहिर की तो मैंने उनको निकालकर दे दी. फिर वह जब तक सोई नहीं मैं वही पर रही. फिर वापस अपने कमरे में आ गयी. रिस्का और एला जाग रही थी

तो मैंने उनको कमरे में जो कुछ भी हुआ सब कुछ बता दिया वह सुनने के बाद एला ने बताया के मैंने जो सुना था नामर्द लड़को के बारे में वह सही था इसका मतलब

मैं: क्या सुना था तुमने?

Purani rani ki chudai story

एला: यही की ये नामर्द लड़के रंडियो के बच्चे होते है अगर इनकी माँ इनको आर्मी में नहीं जाने देती है तो नामर्द बना दिया जाता है. जिससे ये महल के अंदर औरतो की हिफाज़त कर सके.

मैं: मैं समझी नहीं नामर्द कैसे बनाते है.

एला: जब पैदा होते है तो इनको कोई चीज़ खिला दी जाती है जिससे इनका लंड उतना ही रहता है जितना पैदा हुए टाइम पर था. इनके अंडे निकाल लिए जाते है जिससे इनके अंदर सेक्स की फीलिंग ही नहीं आती.

मैं: ये बात तो सच है. मैंने उनके लंड देखे थे ऐसा लग रहा था के जैसे बटन लगाया हुआ है.लेकिन दिखने में तो वह बहुत खूबसूरत थे.

एला: रंडिया ऐसे वैसे की औलाद को तो जन्म भी नहीं देती है ये किसी न किसी रईस या रोमन की ही औलाद होगी.
मुझे ऐसे ही दुनिया का ज्ञान प्राप्त होता रहता था मैं कुछ भी ऐसा वैसा देखती थी तो मैं इधर उधर सबसे पूछती.

फिर कोई न कोई मुझे बता ही देता था उसके बारे में ऐसे ही मेरी ज़िन्दगी कट रही थी फिर एक दिन मैं मालकिन के एक काम से महल के स्टोर रूम में जा रही थी. तभी मुझे एक सिपाही ने पीछे से आकर दबोच लिया.

Raja rani ki chudai story

उसने मेरा कपड़े भी फाड़ दिया और मुझे नंगी कर दिया फिर उसने एक हाथ से मेरी छाती को पकड़ रखा था और दूसरे से वह मेरी चूत सहलाने लगा. मैं गाला फाड़ फाड़कर चीख रही थी लेकिन वह पर कोई भी सिपाही नहीं रहता था. मुझे बहुत डर लग रहा था.

लेकिन फिर दिल में कुछ हड़बड़ी भी थी के आज तो मेरी चूत लंड ले ही लेगी मैं लेकिन इस तरह से चुदना नहीं चाहती थी. मैं मालिक मालकिन की तरह अपने आपको प्यार करवाना चाहती थी उसने अपने कपडे भी निकाल दिए और लंड बहार निकाल लिया. उसका लंड लगभग 9 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा था मेरी तो उसको देखकर ही फट गयी.

मैं और ज़ोर ज़ोर से चिल्लाने लगी. तभी उसने मेरे मुँह में कपडा ठूस दिया.

Purani Chudai ki Kahani

मैं रेसिस्ट तो कर रही थी लेकिन अब मैं खुद भी देखना चाहती थी के लंड का स्पर्श कैसा होता है. लेकिन तभी वह पर मालकिन और सिपाही आ गए और फिर उन्होंने मुझे उससे छुड़ाया. मैं रोने लगी थी तो मालकिन ने मुझे अपने सीने से लगा लिया उस सिपाही को सजा मिली जिसमे पहले उसका लंड काट दिया गया.

फिर उसके दोनों हाथ काट दिए और फिर उनको अच्छे से जला दिया जिससे वह आदमी ज़िंदा रहे फिर उसके बाद से वह बहार नंगा खड़ा होकर भीक मांगता था. उसकी सजा देखकर मुझे अब कोई भी सिपाही गन्दी नज़र से नहीं देखता था. अगर मैं नंगी भी फिर रही हु तब भी वह अपनी गर्दन झुका लेते थे. मैं भी अब इस इज़्ज़त का पूरा फायदा उठा रही थी और अब मैं नंगी ही फिरती रहती थी.

लेकिन दूसरी तरफ मुझे ये भी लगता था के अगर ये लोग मेरी इज़्ज़त करते रहे तो मुझे तो लंड मिलेगा ही नहीं. ऊपर से लकिन मुझे रोज़ गरम कर देती थी अपनी चुदाई दिखा दिखाकर मैं बड़ी दुविधा में थी.

इस कहानी का भाग 1 यहा से पढे : –> दरबारियों ने की प्रिंसिस की चुदाई 1 

हमारी वैबसाइट से चुदाई की मस्त कहानिया पढ़ने के लिए यहा क्लिक करे-> www.xstory.in

आगे क्या हुआ क्या मुझे लंड मिल पाया या नहीं. ये पढ़िए अगले पार्ट 3 में तब तक के लिए. धन्यवाद!

Read More Sex Stories…

One Reply to “दरबारियों ने की प्रिंसिस की चुदाई 2”

  1. Pingback: चुदकड़ों की खानदानी रासलीला 5 Sasur bahu ki chudaii

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *