By | April 24, 2023

Purani Chudai ki Kahani: हैलो दोस्तो, जैसा की आपने अभी तक पढ़ा मुझे मालकिन ने अपने सारे रोमन लोगो के सामने दिखाया जिससे औरते जल जाए और फिर जिस सिपाही ने मेरे साथ ज़बरदस्ती की उसको सजा दी गयी. अब आगे तो उस दिन के बाद मुझे कोई भी नज़र उठाकर नहीं देखता था.

ऐसे ही दिन कट ते गए और मैं काफी बड़ी भी हो गयी. मुझ पर जवानी खिलने लगी थी मेरे बूब्स बहार आने लगे थे और मेरी गांड भी पीछे से मोटी हो गयी थी.

Purani Chudai ki Kahani

मैं अपने आपको आईने में देखकर शर्मा जाती थी. कई बार एक रात के लिए काफी लोगो ने मालकिन से मुझे माँगा. लेकिन मालकिन को एकदम पूरी लड़की चाहिए ही थी अपने लिए जिस पर मर्द का साया भी न पड़ा हो. मेरी उम्र अब 19 साल हो चुकी थी.

मेरी जवानी पूरी खिल चुकी थी. मेरे चुचिया पूरी भरे भरे रहते थे. और मेरी गांड पीछे से काफी बहार को हो गयी थी. मालकिन अब मुझे बिना कपड़ो के निकलने भी नहीं देती थी. लेकिन मैं तो अब प्यासी औरत थी. मुझे तो लंड चाहिए था.

मैं मर्दो को तड़पती थी. मैंने अपने कपडे को इस तरह से लपेटा और बंधा था उसके अंदर से मेरा काफी क्लीवेज दीखता था. साइड से तो मेरे चुचे दिख ही जाते थे. ड्रेस पूरी बैकलेस थी और पीछे गांड की लकीर के निचे कपडा आता था. तो पीछे से मेरी गांड भी देखि जा सकती थी.

Rani ki chudai

मैं अपने बालो का जुड़ा बनाकर रखती थी जिससे मेरी कमर पूरी नंगी हो जाए. मैं देखती थी के जहा से भी मैं गुज़रती थी वहा पर मर्दो के लंड खड़े हो जाते थे.

जबकि उनके आस पास नंगी लड़किया हमेशा ही घूमती रहती थी. और फिर लंड देखकर मेरी भी हालत उन मर्दो जैसी ही हो जाती थी. लेकिन मुझे तो चूत में ऊँगली करने तक की प्राइवेसी नहीं मिलती थी.

पुरे दिन मालकिन के साथ. वाशरूम सभी गुलामो और सिपाहीओं के लिए और वह भी खुले हुए. रात में भी सभी गुलामो के साथ ही सोना.

एक रात मैं बहुत ही ज़्यादा चुदासी हो गयी और मेरे मैं में बस चुदाई के ही ख्याल चलते रहे. मैंने अपने अगल बगल देखा सभी सो रहे थे. तो मैंने अपनी चूत में ऊँगली करना स्टार्ट कर दिया. मैं चूत में ऊँगली करते हुए टाइटस को इमेजिन कर रही थी.

टाइटस रोमन सिपाही था. उसकी हाइट 6.5″ थी और उसका पेट एकदम कैसा हुआ था 6 पैक वाला गोरा रंग काले छोटे बाल चौड़ा सीना और आखिर में मोटा लम्बा लंड 10 इंच का मैंने उसका लंड वाशरूम में भी देखा था.और एक दिन जश्न था तो वह एक रंडी को चोद रहा था.

Sexy Rani ki chudai

तो मैंने वहा पर उसका चोदने का तरीक़ा भी देखा. उसने उस रंडी की चूत का भोसड़ा बना दिया था. मुझे डर लगना चाहिए था उससे. लेकिन पता नहीं क्यों मुझे उससे अलग ही अटैचमेंट सा हो गया था. मैं उसको ही ताड़ती रहती थी और उससे ही चुदने के सपने देखती रहती थी. तो मैं चूत में ऊँगली करते हुए एहि इमेजिन कर रही थी के टाइटस मुझे चोद रहा है. मैंने आखें भी बंद कर ली थी और पूरा टाइटस को अपने दिमाग़ में उतार लिया था.

उसका लंड अपनी चूत में भरकर उससे धक्के लगवा रही थी. इमेजिनेशन से बहार अपनी चूत में एक ऊँगली डालकर तेज़ तेज़ अंदर बहार कर रही थी. मेरी चूत बुरी तरह से लार जैसा लिक्विड छोड़ रही थी. मुझे लेकिन बहुत मज़ा आ रहा था ऊँगली करने में.

लेकिन तभी मुझे एला ने देख लिया और हसने लगी. मैं एकदम डर गयी. मैं फिर अपने आपको सही किया और सीधी होकर लेट गयी और सोने का नाटक करने लगी एला मेरे बराबर में आकर लेट गयी.

Raja Rani ki chudai Raat ko

मेरी तरफ करवट लेली और अपना एक हाथ मेरे कपडे के अंदर डालकर सीधा चूत पैर लगा दिया. मैं इस एकदम हुए हमले से सेहम सी गयी.

तो मैं एकदम उठकर बैठ गयी तभी वह भी उठी और उसने मेरा मुँह अपने हाथो से पकड़ा और अपने होंठो को मेरे होंठो पर लगा दिया मैं इतनी हॉर्नी हो राखी थी के फिर मुझसे कण्ट्रोल नहीं हुआ ये मेरी ज़िन्दगी की पहली किश थी

वह भी मैं एक लड़की को ही कर रही थी. मुझे सही से करनी भी नहीं आ रही थी.

तो फिर एला ने मुझे किश करना सिखाया. उसने मेरे होंठो को अपने मुँह के अंदर लेकर चूसना स्टार्ट कर दिया. फिर मैंने भी वही किया और फिर उसने अपनी जुबां मेरे मुँह में डाल दी मैं उसको चूसने लगी.

फिर मैंने भी वही किया उसने मेरी जुबां को अपनी जुबां के साथ मिला लिया और साथ के साथ मेरे होंठ भी चूमती रही एला घर के काम तो करती ही थी लेकिन लंड भी बहुत लेती थी. जो भी बड़े लोग आते थे और उनकी डिमांड करते थे उनके सामने एला और रिस्का को भी रखा जाता था. वैसे तो वह दोनों मेरी अच्छी दोस्त थी लेकिन मुझे कभी कभी उनसे जलन भी होती थी.

के ये दोनों मेरी उम्र की ही है और इन दोनों को रोज़ लंड मिलते है. और इनदोनो के चुचे और गांड भी मुझसे काफी बड़ी है.

Purani Chudai ki Kahani

ऐसा नहीं था के उन दोनों को मेरी दुविधा का पता ही नहीं था. उनको ये आईडिया तो था के मैं टाइटस से प्यार करने लगी हु.

क्युकी मैं हमेशा उसको ही ताड़ती रहती थी. लेकिन उनको ये पता नहीं था के मुझमे लंड लेने की इतनी आग भरी हुई है.
एला मुझे अपने होंठो से अलग ही नहीं कर रही थी. और सच बताऊ तो मैं खुद भी अलग नहीं होना चाहती थी.

फिर एला ने मुझे किश करते करते ही लिटा दिया और किश करते करते ही मेरी चूत को ऊपर से मसलने लगी. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. फिर एला मेरे ऊपर आ गयी. हम दोनों की चूचिया आपस में मिल रही थी. मेरे निप्पल्स पुरे टाइट हो रखे थे और वह उसके चुचो पैर चुभ रहे थे.

फिर उसने आखिरकार किश तोड़ दी फिर उसने मेरे चुचो को दबाना और मेरे निप्पल्स को नोचना स्टार्ट कर दिया जैसे ही वह मेरे निप्पल्स नोच रही मेरे बदन में अलग ही जादू सा चल रहा था. तो फिर उसने मेरे चुचो को मुँह में भर लिया. मुझे इतना मज़ा कभी भी नहीं आया था.

वह मेरे निप्पल्स चूस रही थी और साथ के साथ चुचे दबा भी रही थी. कुछ देर चुचो से खेलने के बाद वह निचे मेरी चूत पर पहुंच गयी.

पहले तो वह मेरी चूत को अपनी उंगलियों से हलके हलके मसलने लगी. फिर उसने मेरी चूत पर अपना मुँह लगा दिया. उसकी जुबां जैसे ही मेरे निचे वाले होंठो से टच हुई मैं सातवे आसमान पर पहुंच गयी. उसने मेरी चूत चाटना स्टार्ट कर दिया.

मैं उसका मुँह अपनी चूत पर ही लगा रही थी. और वह भी मेरी चूत की फांक को खोल खोलकर चाट रही थी. मेरे अंदर कुछ अजीब सा होने लगा मुझे समझ नहीं आ रहा था के ये मुझे क्या हो रहा है. ऐसा लग रहा था एकदम से मेरी चूत में कुछ भर सा गया है.

फिर एकदम वह चूत गया और मेरी चूत से निकला कुछ नहीं लेकिन मुझे इतना सुकून मिला के मैं उसको बता नहीं सकती थी.
मैं फिर निढाल होकर पड़ी रही एला उठकर मेरे पास आयी और बोली.

एला: मज़ा आया??

मैं: बहुत ज़्यादा. ये मुझे लास्ट में क्या हुआ था?

एला: तू झड़ गयी.

Rani ki chudai ki kahani Purani Chudai ki Kahani

मैं: अच्छा इसको झड़ना बोलते है. यार मज़ा तो बहुत आता है सच्ची में एला: जब कोई मर्द तेरी चूत के अंदर झाड़ेगा और फिर भी साथ में झाड़ेगी, तो सोच कितना मज़ा आएगा.

मैं: अब ये बाते याद मत दिला वरना मैं फिर से चुदासी हो जाउंगी.

एला: मेरी चूत का क्या?

मैं: तू तो चुद लेती है किसी से भी.

यहाँ पर ही चुदले किसी को भी उठाकर.

एला: चूत की आग तो शांत करनी ही पड़ेगी. ठीक है

मैं अपनी चूत मरवाके आती हु

.मैं: हाँ जा. लेकिन ये बात तुझ तक ही रहनी चाहिए फिर एला कमरे के दूसरे कोने में चली गयी वहा मर्द सो रहे थे

Raja Rani ki chudai Purani Chudai ki Kahani

तो उसने एक आदमी को जगाया पहले उसका लंड चूसा और फिर उसके ऊपर बैठकर उसके लंड की सवारी करने लगी. मैं उसको देखकर फिर गरम होने लगी थी. लेकिन फिर मैंने अपने आपको संभाला और दूसरी तरफ करवट ली और सो गयी.


फिर सुबह उठी और महल का सबसे बड़ा काण्ड देखा. वह क्या काण्ड था ये पढ़िए अगले पार्ट -4 में.तब तक के लिए. धन्यवाद!

इस कहानी का पिछला भाग यहा से पढे: –> दरबारियों ने की प्रिंसिस की चुदाई 2

हमारी वैबसाइट से चुदाई की मस्त कहानिया पढ़ने के लिए यहा क्लिक करे-> www.xstory.in

Read More Sex Stories….

2 Replies to “दरबारियों ने की प्रिंसिस की चुदाई 3”

  1. Pingback: चुदकड़ों की खानदानी रासलीला 4 Baap Beti ki Chuddai

  2. Pingback: मम्मी को पटा के चोदा 2 Bhai Ne Mom ki Chudai kii

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *