By | May 22, 2023

Sagii Maa Ki Chudai: हेलो दोस्तों हाजिर हु एक और कहानी के साथ आप कहानी पढे और मुझे फीड बैक देना न भूले, दोस्तों मेरा नाम अभिषेक है और मेरी उम्र 24 साल है मैं हरीयाणा का रहने वाला हु मेरी ये कहानी मेरे चाचा और माँ की चुदाई के बीच की है।

मम्मी भी मेरा हाथ थामे हुए चल रही थी मॉल में काफी भीड़ थी फिर हम लोग लिफ्ट के पास चले गए मैं और मम्मी लिफ्ट का इंतज़ार करने लगे और तभी वहा और भी लोग आ गए और जैसे ही लिफ्ट नीचे आयी.

Sagii Maa Ki Chudai

मैं मम्मी का हाथ पकड़ के अंदर घुस गया और हमारे पीछे पीछे लोग भी लिफ्ट में आ गए मैं बिलकुल पीछे जाके खड़ा हो गया और तब मम्मी मेरे आगे खड़ी हुई थी।

लिफ्ट में जयादातर कपल ही थे और वह अपनी पार्टनर के साथ चिपक के खड़े हुए थे उन्हें देखकर मेरा मन कर रहा था की काश मैं मम्मी के साथ ऐसा ही खड़ा होता, मेरी ये बात जैसे भगवन ने तुरंत सुन ली और अगला फ्लोर आते ही कुछ और लोग भी लिफ्ट के अंदर आ गए जिसकी वजह से लिफ्ट में भीड़ हो गयी और तब मम्मी बिलकुल मुझसे चिपक गयी जैसे मम्मी मुझसे चिपकी मैंने अपने एक हाथ से उनकी कमर को पकड़ लिया।

कमर में हाथ डालते ही मम्मी ने मेरी तरफ देखा फिर वह आगे की तरफ देखने लगी उन्होंने मुझे कुछ नहीं कहा मगर मम्मी के चिपकने से मेरा लंड खड़ा होने लगा और उसकी दस्तक मम्मी की गांड पर होने लगी।

मम्मी मुझसे चिपक के खड़ी हुई थी और मेरा लंड पूरा खड़ा हो चूका था जो उनकी गांड की गर्मी महसूस कर रहा था लिफ्ट के इस 2-मिनट के सफर ने मुझे उस जन्नत का हल्का सा अहसास करवाया था जिसे मैं पाना चाहता था। Sagii Maa Ki Chudai

Maa ki chudai kahani

लिफ्ट से निकलने के बाद हम लोग मूवी थिएटर की लॉबी में आ गए वहा पहले से काफी लोग खड़े हुए थे।

फिर मैं और मम्मी भी एक साइड में जाके खड़े हो गए।

मम्मी:  – आज कुछ जयादा ही भीड़ है बेटा ।

मैं – हा मम्मी पंजाबी मूवी और बहुत कॉमेडी है इसीलिए लोग जयादा देखने आये है।

मम्मी – वैसे लगता है हम लोग जल्दी आ गए है अभी तक मूवी शुरू नहीं हुई है।

मैं – हा  मम्मी बस थोड़ी देर में शुरू हो जायगी लाओ तब तक मैं आपकी कुछ फोटो लेता हु।

मैंने मम्मी का मोबाइल ले लिया मम्मी खड़ी होके फोटो खिचवाने लगी कुछ फोटो लेने के बाद मम्मी ने मोबाइल ले लिया और वह हम दोनों की सेल्फी लेने लगी।

मैं मम्मी के पीछे खड़ा था और मेरा हाथ उनकी कमर पर था मम्मी फोटो ले रही थी आस पास के कई लोग हम दोनों को ही देख रहे थे मगर मम्मी और मुझे कोई फरक नहीं पड़  रहा था ।

हम दोनों की फोटो बहुत ही अच्छी आयी थी फिर थिएटर का गेट खुल गया और सभी लोग अंदर जाने लगे।

मैं और मम्मी भी अंदर जाके बैठ गए और मूवी देखने लगे मूवी बहुत ही हसी मजाक वाली थी मम्मी को भी मज़ा आ रहा था।

फिर घंटे भर बाद इंटरवल हो गया और मैं मम्मी के लिए कोल्ड ड्रिंक और पॉपकॉर्न ले आया फिर हम दोनों मूवी देखने लगे मूवी पूरी ढाई घंटे की थी मैंने टाइम देखा तो 11 बज रहे थे।

फिर हम दोनों घर के लिए निकल पड़े और कुछ देर बाद घर चले गए पूरे रास्ते  मम्मी मुझसे चिपक के बैठी हुई थी।

मम्मी – बेटा क्या खायेगा अब बता?

मैं – मम्मी आज मैं आपको बनाके खिलता हु आप कपडे चेंज करो मैं बनाता हु।

मम्मी – मगर तू बनाएगा क्या बेटा? 

मैं – अरे मम्मी बनूँगा मगर जैसा आप बनती हो वह वैसा नहीं होगा।

मम्मी – चल ठीक है मैं कपडे बदल के आती हु मैं किचन में चला गया और बनाने लगा मम्मी कपडे बदल रही थी और जब 10-मिनट बाद मम्मी किचन में आयी तब मैं रसोई मे कुछ बना रहा था। Sagii Maa Ki Chudai

Maa ki chudai story

अब  मम्मी ने नाईट पहनी हुई थी।

मम्मी – बेटा ये कैसा मिलाते है इतना झाग वाला।

मैं – मम्मी इसे बोलते है मैंने नेट पर देखा था तो सोचा आज आपको बनाके खिलाऊंगा।

मम्मी – बेटा देखने से बहुत अच्छा लग रहा है और काफी फुल्ला हुआ भी है।

मैं – हा  मम्मी तभी तो इसे फ़लुफ़्फ़ी बोलते है मैंने अपने और मम्मी के लिए बना लिए फिर हम दोनों मम्मी के कमरे में आ गए और वही बैठकर और ब्रेड खाने लगे।

मम्मी – वहा बेटा सच में ये तो बहुत अच्छा लग रहा है।

मैं – तभी तो आपके लिए बनाया है मम्मी आप तो हमेशा मेरा और पापा का ख्याल रखती हो।

फिर मेरा भी तो फर्ज़ बनता है की आपका ख्याल रखु।

मम्मी – तू तो मेरा बहुत ख्याल रखता है बेटा वैसे सच कहु तो इस मामले में तू आपने पापा पर नहीं गया है।

मैं – क्यों मम्मी क्या पापा ने आज तक आपको कुछ बनाके नहीं खिलाया है?

मम्मी – अरे बेटा वह तो अपने लिए चाय भी बना ले वही बड़ी बात है पूरा किचन इधर उधर कर के रख देते है और तुझे देखो कितनी बढ़िया बढ़िया चीजे बनता है वैसे इससे तेरी होने वाली बीवी बहुत खुस होगी।

मैं – अरे मम्मी बीवी जब होगी तब होगी पहले अपनी मम्मी को तो खुस कर लू जिन्हे मैं सबसे जयादा प्यार करता हु।

मम्मी – मैं भी तुझसे बहुत प्यार करती हु बेटा फिर मैंने और मम्मी ने मिलके  खा लिया मम्मी ने मेरी बहुत तारीफ की जिससे मुझे बहुत अच्छा लग रहा था 

फिर मम्मी बर्तन लेके किचन में चली गयी और मैं वही मम्मी के बेड पर लेट गया फिर कुछ देर बाद मम्मी भी आ गयी जब मम्मी वापस आयी तो मेरी नज़र मम्मी की चूचियों पर गयी जो मम्मी की नाइटी में साफ़ दिख रही थी और उन्हें देखकर साफ़ पता चल रहा था की वह ब्रा उतार के आयी है।

मम्मी के निप्पल साफ़ साफ़ दिख रहे थे मम्मी की नज़र मुझपे पड़ी और उन्होंने मुझे आपने बेड पर लेटे देखा और मैं उन्हें देखकर उठने लगा मगर तभी वह बोली, Sagii Maa Ki Chudai

Maa ki chudai ki kahani

मम्मी – क्या हुआ बेटा ? कहा जा रहा है,

मैं – बस मम्मी अपने कमरे में जा रहा हु आप भी थक गए होंगे तो अब आपको भी सोना होगा।

मम्मी – अरे कहा बेटा आज तो सारा काम तूने कर लिया इसीलिए आज मुझे बिलकुल भी थकान नहीं है और वैसे भी तू यहाँ भी तो सो सकता है तेरे पापा भी नहीं है आज तो मम्मी मुझे खुद के साथ सोने के लिए बोल रही थी वैसे मैं मम्मी के साथ भी कई बार सोता हु जब पापा नहीं होते थे।

फिर मैं बेड पर लेट गया मम्मी भी बेड पर आ गयी और जैसे ही वह बेड पर बैठी मैंने अपना सर उनकी गोदी में रख दिया फिर मम्मी ने मेरे बाल पीछे किये और एक किश मेरे माथे पर कर दि।

जब मम्मी ने ऐसा किया तो उनकी चूचिया मेरे सर पर लगने लगी और सच में उस अहसास ने मेरे अंदर तक जोश भर दिया था।

फिर मम्मी मेरे बाल में हाथ घूमाने लगी और मैं आँखे बंद करके उस पल का मज़ा लेने लगा।

मैं – मम्मी एक बात पुछु अगर आप बुरा न मनो तो।

मम्मी – हा  बीटा पूछो, 

मैं – मम्मी आपको बुरा नहीं लगता है की पापा हर रोज आपके साथ नहीं होते है और आप जयादातर टाइम अकेले होती हो।

मम्मी – बेटा थोड़ा बुरा तो लगता है पर तेरे पापा काम की वजह से बहार होते है और एक उम्र के बाद इस सब की आदत हो जाती है और वैसे भी मैं अकेली कहा होती हु तू हमेशा मेरे साथ जो रहता है।

मैं – मैं तो हमेशा आपके साथ ही रहूँगा मम्मी और आपको छोड़ के कही नहीं जाऊंगा, मम्मी ने मेरी बात सुनके मेरे माथे पर फिर किश कर दिया फिर मैं मम्मी के बगल में लेट गया।

फिर मम्मी भी लेट गयी और हम दोनों सो गए मैं हलके हलके आगे बढ़ रहा था और अब मैं मम्मी के साथ ही जयादा टाइम बिताने लगा था। Sagii Maa Ki Chudai

Maa ki chudai hindi

जब पापा होते तो मैं थोड़ा अलग ही रहता मगर पुरे दिन मैं मम्मी के साथ ही होता और वह भी मेरे साथ बहुत खुस रहती थी मैंने पुरे 2 महीने हलके हलके कोशिश की और इसका फायदा ये हुआ की अब मम्मी को मेरी कोई भी बात बुरी नहीं लगती थी मैंने कई बार मम्मी की गांड पर आपने लंड रगड़ा यहाँ तक की कई बार उनके कमरे में घुस गया जब वह कपडे बदल रही थी, मगर उन्होंने फिर भी मुझे कुछ नहीं कहा और अब मुझे भी बर्दास्त नहीं हो रहा था. 

फिर मुझे वह मौका मिल गया जिसकी मुझे कब से तलाश थी और वह दिन था मम्मी पापा की एनिवर्सरी का उस दिन मैं मम्मी के लिए एक चैन और अमेरिकन डायमंड का पेंडंट लेके आया था और सुबह उठते ही मैं मम्मी के पास गया मम्मी बैडरूम में बेड सही कर रही थी।

मम्मी का मुँह दूसरी तरफ था और मैंने जाते ही मम्मी को पीछे से पकड़ लिया मगर इस बार मम्मी डरी नहीं क्युकी पिछले 2 महीने में मैंने ये हरकत बहुत बार की थी।

मैं – हैप्पी एनिवर्सरी मम्मी, 

मम्मी – थैंक यू मेरा बच्चा तुझे याद थी।

मैं – हा मम्मी याद थी चलो अब आँखे बंद करो, 

मम्मी – आँखे क्यों बंद करवा रहा है?

मैं – अरे मम्मी करो न आप सवाल बहुत करते हो।

मम्मी – अच्छा बाबा अच्छा ये ले कर ली मैंने आँखे बंद मैं मम्मी को पकड़ के शीशे के सामने ले गया।

मम्मी – कहा ले जा रहा है मुझे तू।

मैं – अरे मम्मी बस 2 मिनट रुको न फिर मैंने अपनी पॉकेट से चैन निकाली और उसे मम्मी के गले में पहना दिया चैन में पड़ा पेंडंट मम्मी की चूचियों के बीच में घुस गया जो बहुत अच्छा लग रहा था। Sagii Maa Ki Chudai

Maa ki chudai hindi mein

मैं – मम्मी अब आँखे खोलो जैसे ही मम्मी ने आँखे खोली तो उनके चेरे पर एक स्माइल आ गयी और वह अपना गिफ्ट देखने लगी।

मम्मी – बेटा ये तो बहुत महंगा लगता है तू कैसे लाया मेरे लिए।

मैं – मम्मी गिफ्ट देने वाली की नियत देखते है पैसे नहीं वैसे मैं आपको बता दू आपको टेंशन लेने की जरुरत नहीं है ये बस ठीक ठीक पैसे में लाया हु अब ये बताओ की आपको कैसा लगा।

मम्मी – बहुत अच्छा है बेटा मुझे बहुत पसंद आया।

मैं – अच्छा तो अब लग रहा है जब आपने पहना है वरना तो ये बेकार ही था, मेरी बात सुनके मम्मी हसने लगी।

फिर उन्होंने मेरा गाल चूम लिया तभी पापा का कॉल आ गया मम्मी पापा से बात करने लगी और मैं बेड पर लेट गया जैसे ही पापा की कॉल कटी तो मम्मी का मुँह उतर गया।

मैं – क्या हुआ मम्मी? आप उदास क्यों हो गयी?

मम्मी – अरे कुछ नहीं बेटा कोई बात नहीं है।

मैं – अरे मम्मी बताओ न आपको देखकर साफ़ पता चल रहा है की आप उदास हो बताओ न क्या कहा पापा ने?

मम्मी – बेटा आज तेरे पापा शाम को आ जाते मगर उनके बॉस ने उन्हें कुछ काम दे दिया जिसकी वजह से वह बहार जा रहे है और कल ही वापस आएंगे।

Maa ki chudai sex story

मैं – अरे यार कम से कम पापा आज छुट्टी ही ले लेते आज के दिन भी पापा आपके साथ नहीं है।

मम्मी – बेटा अब क्या कर सकते है?मम्मी भले ही मेरे सामने गुस्सा नहीं दिखा रही थी मगर मैं जनता था वह अंदर से बहुत गुस्सा थी और ऊपर से फ्रेंड्स और रिश्तेदार बार बार कॉल कर कर के उन्हें बधाई दे रहे थे।

जिससे मम्मी का मूड और भी जयादा ख़राब हो रहा था मगर तभी मेरे दिमाग में एक आईडिया आया कुछ देर बाद पड़ोस वाली आंटी आ गयी मम्मी उनसे बात करने लगी और तभी मैंने अपना बैग पैक कर लिया और जैसे ही मम्मी बात करके आयी तो मैं मम्मी के पास गया और उन्हें पीछे से पकड़ लिया।

मैं – मम्मी मैं जनता हु आपका मूड ख़राब है और वह भी पापा की वजह से।

मम्मी – बेटा ये बात ही मूड ख़राब होने वाली है अब तुम बताओ आज हम दोनों के लिए इतना बड़ा दिन है मगर तुम्हारे पापा को आज भी काम पर जाना पड़ा।

मैं – चलो मम्मी आप तैयार हो जाओ आज आपके लिए एक और गिफ्ट है और ये मोबाइल मुझे दे दो ताकि कोई भी आपको परेशां न करे।

मम्मी – बेटा मुझे कही नहीं जाना है।

मैं – मम्मी आपको मेरी कसम प्लीज, मम्मी को कसम देने के बाद वह सोचने लगी फिर वह मान गयी और मैंने मम्मी का मोबाइल ऑफ कर दिया ताकि उन्हें कोई डिसट्रब न करे।

फिर मम्मी तैयार हो गयी उन्होंने लाल रंग का सूट पहना था जो उनके ऊपर बहुत अच्छा लग रहा था।

मैं – वाओ मम्मी आप कितनी खूबसूरत लग रहे हो लगता है पापा की किस्मत तो भगवन ने फुर्सत में लिखी है तभी तो उन्हें इतनी खूबसूरत बीवी मिली है मम्मी मेरी बाते सुनके हसने लगी।

मम्मी – थैंक यू बेटा वैसे बहुत बाते बनाने लगा है तू।

मैं – अरे मम्मी बाते नहीं बना रहा हु सच बोल रहा हु पापा सच में बहुत किस्मत वाले है।

मम्मी – वैसे तू मुझे कहा ले जा रहा है। Sagii Maa Ki Chudai

Maa ki chudai dekhi

मैं – अब मम्मी ये तो सरप्राइज है फिर मैं और मम्मी बहार आ गए और मैंने पहले से ही अपना बैग कार में रख दिया था फिर मैं और मम्मी दोपहर में निकल पड़े मम्मी और मैं बार बार एक दूसरे को ही देख रहे थे।

मम्मी बार बार मुझसे पूछ रही थी मगर मैं उन्हें कोई जवाब नहीं दे रहा था मैं उनसे नोर्मल्ली बाते कर रहा था अब मुझे कार चलते हुए ढेड़ घंटा हो गया था फिर एक बोर्ड निकला जिसमें शिमला का डिस्टेंस लिखा हुआ था और उससे मम्मी को अहसास हो गया की मैं उन्हें कहा ले जा रहा हु।

मम्मी – अच्छा तो तू मुझे शिमला ले जा रहा है वही मैं कहु इतनी देर से कार चला रहा है पता नहीं कहा ले जा रहा है।

मैं – बस मम्मी मैंने सोचा आपको सबसे दूर ले चलू ताकि ये लोग आपको कॉल कर कर के परेशां न करे।

मम्मी मेरे सर पर हाथ फेरने लगी और वह मुझे अपना प्यार दिखाने लगी जैसे ही हम लोग शिमला के पास पहुंचे ठंडी ठंडी हवा लगने लगी मम्मी ने अपना सर खिड़की के बहार निकल लिया और वह हवा खाने लगी और उनके चेरे पर अब स्माइल आ गयी।

मम्मी – बेटा यहाँ तो हलकी हलकी ठण्ड सी हो रही है पहले बताता तो मैं कोई गरम कपडा भी ले लेती।

मैं – मम्मी आपकी सीट के पीछे एक बैग रखा है उसमें आपके गरम कपडे है।

मम्मी – वाह बेटा  इसका मतलब तूने पहले से ही पूरी तैयारी कर रखी थी।

मैं – नहीं मम्मी बस मैं आपको उदास नहीं देख सकता हु इसीलिए सोचा आज मैं मम्मी को घुमा के लाता हु।

मम्मी मेरी बात सुनके मेरी तरफ प्यार से देखने लगी फिर 3 घंटे के बाद हम लोग शिमला चले गए मैंने चलने से पहले ही होटल बुक कर लिया था।

फिर मैं मम्मी को होटल ले गया होटल के रिसेप्शन पर एक आदमी बैठा था जो मुझे और मम्मी को देखने लगा।

फिर मैंने उससे अपनी बुकिंग की बात की फिर उसने मुझे एक रूम की चाबी दे दी मैंने उसके सामने ही मम्मी को चलने के लिए कहा जिससे वह समझ गया की मेरे साथ जो औरत आयी है वह मेरी मम्मी है।

फिर मैं और मम्मी कमरे में आ गए मम्मी बेड पर बैठ गयी और में उनके बगल में लेट गया।

मम्मी – थक गया मेरा बच्चा गाड़ी चला चला के।

मैं – अरे नहीं मम्मी मैं ठीक हु अगर आपको फ्रेश होना है तो आप हो लो फिर बहार घूमने चलते है। Sagii Maa Ki Chudai

Maa ki chudai stories

फिर मम्मी और मैं फ्रेश हो गए फिर हम दोनों बहार घूमने निकल पड़े शाम का टाइम था और मौसम बहुत ही अच्छा हो रहा था और अब मम्मी भी खुस दिख रही थी मैं उनका हाथ पकड़ के सब जगह घूम रहा था।

हम दोनों बहुत घूमे मम्मी और मैंने बहुत सारी फोटो भी ली और कई चीजे भी खायी फिर रात के 9 बजे हम दोनों केक लेके वापस कमरे में आ गए और अब हलकी हलकी ठण्ड भी होने लगी थी।

कमरे में आते ही मैंने केक निकाला फिर मम्मी केक काटने लगी केक काट के मम्मी ने मुझे केक खिलाया फिर मैंने वही केक मम्मी को खिलाया फिर हम दोनों ने खाना खाया फिर मैं कपडे बदल के बेड पर टेक लगाके लेट गया।

मम्मी भी मेरे बगल में आ गयी मैं बिलकुल मम्मी से चिपक गया फिर वह बोली।

मम्मी – बेटा थैंक यू सो मच इस सब के लिए तूने मेरा मूड वाकई ठीक कर दिया।

मैं – अरे मम्मी ये तो मेरा फर्ज़ था अब गलती पापा की थी तो आप अपना मूड क्यों ख़राब करती सोचना तो पापा को चाहिए था।

मगर उनके पास तो टाइम ही नहीं है।

मम्मी – तुम ठीक कह रहे हो बेटा आज सच में मुझे बहुत बुरा लगा था मगर तूने मेरा सारा मूड अच्छा कर दिया, मम्मी बिलकुल मेरे बगल में थी जैसे एक पति पत्नी आपस में होते है मगर तभी मेरे मोबाइल पर पापा का कॉल आया और मैंने मम्मी की तरफ देखा मम्मी ने बात करने से मना कर दिया तो मैंने कॉल उठा लिया।

मैं – हा पापा।

पापा – बेटा तेरी मम्मी के मोबाइल पर कॉल कर रहा हु मगर वह बंद आ रहा है तू अपनी मम्मी के साथ ही है क्या?

मैं – हा पापा मम्मी के साथ हु उनका मूड आज बहुत ख़राब है आप आज भी उन्हें छोड़ के काम पर चले गए।

पापा – बेटा काम जरुरी था इसीलिए जाना पड़ा बेटा मेरी मम्मी से बात करवा दे फिर मैंने मम्मी को मोबाइल दे दिया और पापा उनसे सॉरी सॉरी बोलने लगे जो मुझे सुनाई दे रहा था। Sagii Maa Ki Chudai

Maa ki chudai sex stories

मगर मम्मी उन्हें ठीक से जवाब नहीं दे रही थी फिर मम्मी ने कॉल काट दिया और मोबाइल साइड में रख दिया।

मैं मम्मी की तरफ देखने लगा मम्मी का चेरा फिर से उतर गया और मैंने अपना हाथ पीछे से घुमा के उनके कंधे पर रख दिया मम्मी को खुद से चिपका लिया मम्मी मुझसे चिपक गयीऔर कुछ देर वह ऐसे ही चिपके रही।

मैं मम्मी का कंधा सेहला रहा था और अब वह मोमेंट आया जिसका इंतजार मुझे हमेशा से था मम्मी इस वक़्त पूरी इमोशनल थी मैंने हलके से उनके चेरे से बाल साइड किये और अब उनकी नज़र मुझसे मिली मम्मी की आँखों में एक नशा सा छा  गया था।

फिर मैंने देर किये बिना अपने होंठों को मम्मी के होंठों में लगा दिया और उनके रस भरे होंठों को चूसने लगा, 5 सेकंड तक तो मम्मी को भी होश नहीं रहा।

फिर एक दम से मम्मी पीछे हो गयी और मुझे घूरते हुए बोली।

मम्मी – ये क्या कर रहा है तू?

मैं – मम्मी मैं आपसे बहुत प्यार करता हु जितना पापा आपसे करते है उससे कही गुना जयादा और अब मैं आपको ऐसे तड़पते हुए नहीं देख सकता।

मम्मी मेरी बाते सुनके शॉक हो गयी थी फिर मैंने मम्मी का हाथ पकड़ा और उसे सहलाने लगा।

मैं – मम्मी मैं जनता हु आप हमेशा पापा का इंतजार करती हो मगर वह आपको बिलकुल भी टाइम नहीं देते है मगर मैं आपसे इतना प्यार करता हु की हमेशा आपको टाइम दूंगा इससे पहले मम्मी कुछ बोल पाती मैंने आगे बढ़के उनके होंठों को फिर से चुम लिया और इस बार उन्होंने मुझे एक जोर का थप्पड़ लगा दिया। Sagii Maa Ki Chudai

Indian maa ki chudai

मम्मी – तू पागल हो गया क्या? मैं तेरी माँ हु और अपनी माँ के साथ कोई ऐसा करता है क्या?

मैं – मैं जानता हु की आप मेरी माँ हो मगर मेरा प्यार आपके लिए झूठा नहीं है मैंने हमेशा देखा है की आप अकेले ही रहते हो और पापा हमेशा बहार रहते है और आज आप दोनों के लिए इतना बड़ा दिन है मगर वह फिर भी आपके साथ नहीं है।

मम्मी पहले से ही पापा से नाराज थी और मैंने आज के दिन की बात करके उन्हें फिर वही सब याद दिला दिया मम्मी की नज़र नीचे हो गयी और इस बार मैं उनके ऊपर आ गया और उन्हें बेड पर लिटा दिया।

अब मम्मी उठने की कोशिश कर रही थी मगर मैं उनके ऊपर था मैंने अपने दोनों हाथ मम्मी की चूचियों पर रख दिए और कपड़ो के ऊपर से ही उनकी चूचिया दबाने लगा।

मम्मी बार बार मेरा हाथ हटा रही थी।

मम्मी – बेटा ये सब ठीक नहीं है मैं तेरी माँ हु तू मेरे साथ ये सब नहीं कर सकता है।

मैं – मम्मी मैं आपसे बहुत प्यार करता हु और प्यार में हर चीज जायज़ होती है पापा तो आपका ख्याल भी नहीं रखते है जैसे मैं रखता हु उन्हें तो हमेशा काम की पड़ी रहती है मम्मी मुझे बार बार धक्का दे के हटा रही थी और मैं उन्हें पापा की बाते बता बता के पाटा रहा था की वह आपसे प्यार नहीं करते है और इससे मम्मी की पकड़ भी ढीली पड़ रही थी ।

मम्मी मेरा हाथ रोक रही थी और मैं उनका सूट हलके हलके ऊपर कर रहा था जिससे मम्मी का गोरा पेट और गहरी नाभि अब मेरे सामने थी मैंने मम्मी के गोरे पेट को चुम लिया और अपनी जीभ उनकी गहरी नाभि में डाल दी।

मम्मी मेरा सर हटाने लगी मगर मैं कहा मानेना वाला था मेरी जीभ मम्मी की गहरी नाभि में घूमने लगी और मेरा हाथ मम्मी के सूट के अंदर से होता हुआ उनकी बड़ी बड़ी चूचियों पर पाउच गया। Sagii Maa Ki Chudai

Maa ki chudai hindi story

मम्मी की चूचिया ब्रा में कैद थी और मैं उनकी चूचियों को दबाने लगा मम्मी की चूचिया एक दम मक्खन की तरह थी मैं उन्हें पकड़ के जोर जोर से दबा रहा था मम्मी सूट के ऊपर से मेरे हाथो को रोक रही थी मैंने पिछले कई महीने मम्मी के साथ बिताये थे जिसमें वह मेरी बिलकुल दोस्त जैसे बन गयी थी और आज मुझे उस बिताये समय का फायदा मिल रहा था।

मैंने हलके हलके पूरा सूट मम्मी की चूचियों के ऊपर कर दिया और अब मुझे मम्मी की पिंक ब्रा दिखाई देने लगी मम्मी अपना सूट नीचे करना चाह रही थी मगर मैं ऐसा होने नहीं दे रहा था।

फिर मैंने मम्मी की ब्रा को ऊपर कर दिया और उनकी दोनों बड़ी बड़ी चूचिया उछल के बहार निकल आयी मम्मी की गोरी गोरी और बड़ी चूचियों के ऊपर काला निप्पल थे जो देखने में बहुत अच्छे लग रहे थे चूचियों के बहार आते ही मम्मी ने अपने हाथो से उन्हें धक् लिया मगर मैंने उनका हाथ हटा दिया और उनकी चुकी को मुँह में लेके चूसने लगा ।

Antarvasna maa ki chudai

मम्मी अभी भी मुझे हटा रही थी मगर अब उनकी चुचि मेरे मुँह में थी जिसे मैं अपनी जीभ से खींच खींच के चूस रहा था और उनकी दूसरी चुचि को दबा रहा था।

जब जब मैं मम्मी की चुचि को खींचता तो उनके मुँह से आउच की आवाज निकल जाती जिसे सुनके मुझे अच्छा लगता मेरे चुचि को चूसने से मम्मी के निप्पल खड़े होने लगे थे जिसका साफ़ सा मतलब था की मम्मी भी अंदर से गरम हो रही थी।

मम्मी की चुचि चूसते चूसते मैं अपना हाथ नीचे ले गया फिर मैंने अपना हाथ मम्मी की सलवार में डाल दिया।

फिर मैं मम्मी की चूत को उनकी पंतय के ऊपर से सहलाने लगा जैसे ही मम्मी को इस बात का अहसास हुआ वह मुझे हटाने लगी मगर मैं उनके ऊपर था इसीलिए वह मेरा हाथ नहीं रोक पा रही थी और मेरा हाथ पैंटी के ऊपर से ही मम्मी की चूत को सेहला रहा था।

मम्मी की चूत को सहलाने से मुझे पता चल गया था की उनकी चूत का कामर्स भी बहना शुरू हो गया है मगर मम्मी अभी भी मुझे रोक रही थी। Sagii Maa Ki Chudai

तो दोस्तो आज इस कहानी मे बस इतना ही अगले भाग मे बतऔगा की कैसे मैंने मम्मी की चुदाई की।

इस कहानी का पिछला भाग पढ़ने के लिए:—>बेटे का मोटा लंड माँ की चुत मे फसा 1

हमारी वैबसाइट से चुदाई की मस्त कहानिया पढ़ने के लिए यहा क्लिक करे-> www.xstory.in

Read More Sex Stories… 

4 Replies to “माँ की सालगिरह पर माँ की चुदाई की 1”

  1. Pingback: दरबारियों ने की प्रिंसिस की चुदाई 4 Raja Rani Ki Chudaii

  2. Pingback: दरबारियों ने की प्रिंसिस की चुदाई 6 Purani Chudai ki Kahani

  3. Pingback: दरबारियों ने की प्रिंसिस की चुदाई 7 Puranii Chudai ki Kahani

  4. Pingback: माँ की सालगिरह पर माँ की चुदाई की 2 Maa Kii Chudaii

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *