By | April 16, 2023

Sasur Bahu Ki Chudaai: हैलो दोस्तो,  मेरा नाम सारा अंसारी है मैं पुणे में रहती हु और 24 साल की हु मैं जानती हु की आप सब उत्सुक है तो मैं बता देती हु की मेरा फिगर साइज है 36-30-38 कहानी शुरू करने से पहले मैं अपना बैकग्राउंड बताती हु।

सुबह 4:30 पे नींद खुली विक्की का हाथ मेरे पेट पे ही था धीरे से हाथ हटा के पति को जगाया ताकि वह देख ले की उसकी बीवी पे क्या ज़ुल्म हो रहा है.

Sasur Bahu Ki Chudaai

पति छुप के पिछले दरवाज़े की आड़ में खड़ा हो गया और मैं सामने दरवाज़े से रूम में चली गयी.

ससुर ने देखते ही कहा – “देर कर दी” और मुझे पकड़ा तो मैं खुद को छुड़ा ने की कोशिश की ससुर को भी यही चाहिए था की सेक्स से पहले थोड़ी जबरदस्ती हो और पति ये सब देख के कुछ और समझ रहा था।

अब  ससुर ने मेरे कपडे जबरन उत्तार दिये और मुझे बेड पे पटक दिया मेरे निप्पल चूसना चाहा तो मैं भी नहीं चुसवाने के लिए रोक रही थी।

दोनों एक दूसरे से बेड पे गुथमगुथा हो कर लड़ रहे थे और एक दूसरे को जकड़े हुए थे।

मैं जानभूझ के गुहार लगा रही थी ।

मैं: -“पिताजी प्लीज छोड़ दीजिये”। Sasur Bahu Ki Chudaai

Sasur bahu ki chudai

ससुर: “चुप कर कुतिया कह कर मेरे दोनों हाथ पलंग से बाँध दिए और मेरे बूब्स में हलके हलके दांत गड़ाए और मैं चिल्लाने लगी ये सारा फोरप्ले का नाटक समझ के ससुर बहुत खुश था।

 उसको नहीं पता था की उसका बेटा देख रहा है और मेरी चुदाई सुरु हो गयी 20 मिनट में ही ससुर और मैं एक साथ ही झड़ गए।

ससुर ने कहा- “तेरा पति जग जाएगा तू जा अपने रूम में” रूम में दोनों ही वापस आ गए और लेट गए मैं रोने का नाटक कर रही और पति मुझे प्यार से सहलाते हुए खुद भी रोने लगा।

हम दोनों एक दूसरे से लिपटे रहे फिर अलग हो कर सो गए, फिर 15  मिनट बाद ही विक्की का हाथ पेट पे घूमते हुए नाभि में ऊँगली ग़ुस्सा दिया और ब्लाउज के 2 बटन ओपन थे रात वाली हरकतें ही करते हुए बूब्स को खींचता रहा चोरी चोरी मेरा निप्पल बहार आ गए और डर गया।

लेकिन मैंने नींद के नाटक में ही बाबू वर्ड उसे किया पति को बाबू ही बोलती थी और कहा:

मैं: “बाबू लो ना” और देवर के मुँह में डाल दिया निप्पल विक्की को समझ आ गया की मैं नींद में उसको पति समझ रही हूँ निप्पल चूसते हुए बूब्स भी दबाता रहा 20 मिनट तक मुझे नींद आ गयी जो कुछ हुआ उसके लिए मैं अनजान ही बनी रही।

अब विक्की के साथ ससुर आउट स्टेशन चले गए 6-7  दिन के लिए, और उस दिन संडे था और पति विक्की और मैं तीनो ही घर पे ही थे मैं नाहा के आयी और जानभूझ के साड़ी को सेक्सी स्टाइल में कमर और नाभि दिखते हुए ही पहनी और ब्रा नहीं पहना था।

मेरे पति कंप्यूटर पे बैठा था ब्लाउज डीप कट था बूब्स की लाइन दिख रही थी 

पति की नज़र पड़ी तो विक्की की मौजूदगी में ही बोला-

पति: “क्या कपडे पहनी हो?” Sasur Bahu Ki Chudaai

Sasur bahu ki chudai ki kahani

मैं: “तुम्हारे और विक्की के अल्वा कोई भी तो नहीं है और गर्मी भी है पिता जी भी नहीं है तो मैं तो रिलैक्स ही रहूंगी” पति के पास जवाब नहीं था देवर की नज़र बार बार छुप छुप के पेट और बूब्स की घाटियों में जा रही थी।

मैं विक्की के साथ वीडियो गेम खेलने लगी और खेल खेल में हँसते हुए झगड़ा भी दोनों में गुदगुदी और छीना झपटी भी हो रही थी तभी गुदगुदी करते हुए विक्की ने नाभि में ऊँगली ग़ुस्सा दी और मैंने देखा उसकी तरफ तो सकपका के बोला :

विक्की : “भाभी सॉरी” मैं हंस के बोली:

मैं:  कोई बात नहीं, देवर भाभी में सॉरी नहीं होता है।

विक्की –“एक बात कहूं बुरा तोह नहीं मानोगी? तुम्हारी नाभि बहुत गहरी है मेरी ऊँगली आधी से ज्यादा अंदर घुस गयी”

मैं:- झूठ मेरे तो नेल पोलिश गीली पड़ी है बोला:

विक्की:  ये देखो और नाभि में ऊँगली अंदर तक ग़ुस्सा दिया मुझे गुदगुदी हुई और हंसी आयी तो पति ने देख लिया।

पति:: -“ये क्या कर रहे हो? शर्म नहीं आती तुम दोनों को?” विक्की ने तुरंत से अपनी ऊँगली हटा लि।

 मैं भी चुप रही विक्की बेचारा डर से बहार निकल गया, तब अकेले में पति को ठीक से डांटा की – 

मैं: “हंसी मज़ाक में सब चलता है और अब उसको नाराज़ कर दिया बच्चा ही तो है बुला के लाओ” और मैं ही उसके रूम में गयी मुझे आता देख रोने लगा और तकिये में मुँह घुस्सा के उसको पटाते हुए उसका चेहरा अपने पेट पे ले लिया और बालो पे हाथ फेरा अब उसके आंसुओं से मेरा पेट गिल्ला हो गया मैंने उसको मज़ाक करके हंसाया और पुछा –

मैं: “मेरा पेट गिल्ला कर दिया कौन साफ़ करेगा” तुरंत मेरी ही साड़ी से साफ़ किया और मैंने पुछा – 

मैं: “नाभि में भी आंसू घुस्से है वह क्या तेरे भैया से साफ़ करवाऊं?” हंस दिया और नाभि को भी ऊँगली ग़ुस्सा के साफ़ किया।

अब पति भी दरवाज़े पे खड़ा सब देख रहा था लेकिन वह भी विक्की को पटाने के अंदाज़ में बोला-  Sasur Bahu Ki Chudaai

Sasur bahu ki chudai kahani

पति: “मुझे लगा था की तुम दोनों एक दूसरे को टार्चर कर रहे हो इसलिए बोल पड़ा था” विक्की को अब तो ओपन लाइसेंस ही मिल गया मेरी नाभि में ऊँगली डालने का, अब रात को अकेले में पति के साथ मस्ती होने लगी उसने चुदाई तो की लेकिन मैं अधूरी ही रह गयी पति थक भी गया था।

वह तो सो चूका था विक्की आज भी पास ही सोना चाहता था इसलिए रूम में पिछली रात की तरह ही सोने लगे विक्की ने पेटीकोट को आराम से निचे खिसका दिया और मेरी नाभि में ऊँगली डाल दि, मुझसे बातें कर रहा था ब्लाउज के भी निचे से 2 बटन खुले थे।

मेरे पेट पे सर रख के लेट गया और जीभ को नाभि में घुसाया तो मुझे करंट सा लगा और मैंने उसका सर जोर से पेट में ही दबा दिया।

विक्की नाभि को चूसने लगा मुँह से आवाज़ निकलने लगी।

विक्की ने 10 मिनट तक नाभि को चूसा और उसके दोनों हाथ मेरे पेट पे घूम रहे थे वह बगल में लेट गया और अब हम सोने लगे।

मेरी आखें बंद थी लेकिन नींद नहीं आयी थी विक्की को  अब कोई डर नहीं था की मैं सोयी या नहीं ।

तो अब  ब्लाउज के निचे से धीरे धीरे उभर को बहार की तरफ खींचने लगा, एक बूब्स की निप्पल बहार आ गयी तब मैंने विक्की का कान खिंचा और ब्लाउज के सरे बटन खोल के उसके मुँह को बूब्स पे दबा लिया विक्की दोनों बूब्स को दबाते हुए चूसने लगा। Sasur Bahu Ki Chudaai

Sasur bahu ki chudai story

मैं बहुत गरम हो चुकी थी विक्की 30  मिनट तक बूब्स को बहुत दबाया और चूसात भी महसूस हुआ की पीठ पे पति ने हाथ लगाया है तो खुद को विक्की से अलग किया रूम में अँधेरा था पति ने हाथ बूब्स पे डाला और पुछा – 

पति: “क्या बात है आज ऐसे ही सो गयी?” मैं और विक्की पकडे जाने वाले थे इसलिए मैंने बात सँभालते हुए कहाँ:

मैं:  हाँ बूब्स में खुजली हो रही थी और करवट पति की तरफ ले लिया पति बूब्स को चूसने लगा और पेटीकोट का नाडा खोल के मेरी चुदाई करके सो गया उस को पता भी नहीं चला की विक्की भी बेड पे ही था।

मैंने भी चैन की सांस ली अब मैं नंगी ही थी और शर्म महसूस हो रही थी।

विक्की इतना छोटा था और उसने अँधेरे में ही सही लेकिन चुदाई तो देख ही ली मैंने चुप चाप सोना ही बेहतर समझा पास पड़ी चद्दर से निचे लगे वीर्य को साफ़ कर लिया।

विक्की ने फुसफुसा के पुछा- “भाभी मज़ा आया?” मैं शर्मा गयी और उसके कान खींचे , विक्की ने फिर से बूब्स चूसना सुरु किया और मेरे ऊपर ही लेट गया तब पता लगा की वह भी नंगा था मुझसे पुछा –

विक्की:  “भाभी बुरा ना मानो तो मैं भी भीतर डाल लूँ?” मैंने मना किया तो गिड़गिड़ाने लगा मैं सोच रही थी की इस पिद्दी से लड़के का तो अपने भाई से भी छोटा होगा, इसलिए कर लेने देती हूँ जब इतना कुछ हो ही गया तो विक्की को कहा पहले जो बोलूंगी वह करना पड़ेगा वह तैयार था। Sasur Bahu Ki Chudaai

Sasur bahu ki chudai ki

उसको चुत चूसने कहा फिर विक्की चूसने लगा फिर मैंने परमिशन दे दी मेरे ऊपर लेट गया और बूब्स की निप्पल को मुँह में दांत से पकड़ लिया और मेरे अंदर धीरे धीरे से लंड घुसाना सुरु किया।

अब विक्की हर झटके के बाद और अंदर घुसता ही गया मुझे ताज़्ज़ुब होने लगा उसका लंड था तो थोड़ा पतला लेकिन ससुर से कुछ ज्यादा लंबा था चुत के भीतर से नाभि तक लंड का धक्का महसूस हो रहा था जैसे ही धक्के सुरु किया एक बार तो जान सी ही निकल गयी, बहुत मज़ा आ रहा था 5 मिनट में ही दोनों झड़ गए और दोनों सो गए मेरे लिए सरप्राइज था की उसका इतना बड़ा हथियार था । Sasur Bahu Ki Chudaai

हमारी वैबसाइट से चुदाई की मस्त कहानिया पढ़ने के लिए यहा क्लिक करे-> www.xstory.in

बाकि अगले भाग में 

Read More Sex Stories…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *