By | April 14, 2023

Sasur bahu ki chudai :हैलो दोस्तो, मेरा नाम सोनिका है , आज मैं जो कहानी आपको बताने जा रही हु ,ये मेरी सच्ची घटना है, मैं जब 22 साल की थी मेरी शादी हो गयी थी  और 6 महीने बाद ही मैं विधवा हो गयी थी और 4 साल तक घर बैठ के लोगों का तिरस्कार और ताने से बहुत ही दुखी थी।

Sasur bahu ki chudai

कुछ लोगों की बुरी नज़र भी थी पिता जी भी मेरे इस दुःख के कारन चिंता में खाट पकड़ चुके थे।

4 साल बाद यानि की 26 की हुई तब एक धनि परिवार से अविनाश का रिस्ता आया मेरे लिए वह तलाक सुदा था और मेरे से 2 साल छोटा था।

उनको घरेलु और सीधी और सुन्दर लड़की ही चाहिए थी ससुर जी ने देखते ही हामी भर दी अगले दिन ही सादे तरीके से मंदिर में शादी हुई और मुझे ससुराल विदा किया गया।

पहली बार फ्लाइट में बैठी थी ससुराल पहुंची तो खुद की कोठी और कार एक फर्नीचर देख आखें फटी रह गयी ससुराल में मेरे अलावा पति देवर विक्की (18 साल) और ससुर 48  साल के थे सब ही बहुत मीठे से पेश आ रहे थे।

रात को मेरी सुहागरात थी पति मेरी तुलना में कमज़ोर और दुबला पतला था और छोटा भी और थोड़ा शरमाया हुआ सा भी मैंने सोचा उम्र में बड़ी हूँ और कद-काठी में भी शायद इसलिए ही संकोच कर रहा है बात चित सुरु हुई फिर 15 मिनट बाद मैंने ही पहल सुरु की और उसके सर को गोद में रख लिया और बालों में हाथ फिरने लगी बातों ही बातों में पता लगा की उसकी पहली शादी 1 साल पहले ही हुई थी बीवी ने शादी के 4 दिन बाद ही अपने बाप के घर जा कर तलाक का नोटिस भिजवा दिया था और ये बताते हुए अविनाश की आखों में आंसू आ गए।

Sasur bahu ki chudai ki kahani

मैं आंसू पोछते हुए बोली की अब मैं आ गयी हूँ ना तब अविनाश ने मुझे हिचकिचाते हुए से किश किया गाल पे इस पहल का जवाब देते हुए मैंने भी किश किया इसके बाद स्मूचिंग हुई और अविनाश ने बूब्स दबाते हुए शरमाते हुए कहा बहुत ही बड़े है मैं भी शर्मा गयी और जवाब दिया की तुम हो इन सब के मालिक ये सुन कर वह खुस हुआ और बोल:

पति: मालिक हूँ तोह इनका कुछ भी करूँ, फिर मैं हंस के बोली:

मैं:  तुम्हारी मर्ज़ी अविनाश ने सीधे ही ब्लाउज में हाथ डाल दिया ब्लाउज टाइट था मुझे थोड़ा सा दर्द हुआ तो अविनाश ने ब्लाउज खोल दिया और ब्रा भी मैंने भी अविनाश का कुरता से बनियान निकाल दिया।

दोनों ही कमर से ऊपर नंगे हो चुके थे अविनाश और मेरे बूब्स की निप्पल पे उँगलियाँ फिरते हुए बात कर रहा था मैं एक्ससिटेड हुए जा रही थी और सोच रही थी की ये मुँह में क्यों नहीं ले रहा है लेकिन शर्म से बोल भी नहीं पा रहा था।

मैंने भी अविनाश की निप्पल को उँगलियों से टच करना सुरु किया।

4 साल से लंड की प्यासी थी सिर्फ खीरा डाल दाडाल के काम चलाया था लेकिन दुल्हन थी और सुहागरात थी इसलिए बेशर्मी कैसे दिखाती अविनाश ने मेरे बूब्स को दबाया, तो मुझे सिहरन सी हुई और जैसे ही मुँह सताया तो मैं शरमाते हुए मैंने खुद को छुड़ाया, तो दोनों बेड पे एक दूसरे से गुत्थमगुथा हो गए और खिखिलाते हुए लड़ने लगे।

मैंने अविनाश को मौका दिया और वह निप्पल चूसने लगा मैंने भी वही किया फिर मेरे निचे के कपडे खोलने के लिए दोनों में कुस्ती हुई मैं ही उसपे भारी पढ़ रही थी।

3-4 मिनट बाद कपडे उतरवा के नंगी हो गयी और अविनाश भी जैसे ही मेरी नज़र उसके लंड पे पड़ी तो मैं शॉकेड हो गयी क्यूंकि उसका लंड बहुत ही छोटा था 4 इंच का पतला सा था।

Sasur bahu ki chudai kahani

मैं चुप रही और स्मूचिंग स्टार्ट थी तभी अविनाश मेरे ऊपर चढ़ा और लंड अंदर डाला, तो ज्यादा कुछ महसूस ही नहीं हुआ और 2-3 मिनट में ही झड़ भी गया मेरे तो आग लगी रही अविनाश ने खुद ही भेद खोल दिया की वह पूरी तरह चुदाई नहीं कर पाता है।

मेरे पास और कोई चारा भी नहीं था मैं अविनाश से कहा:

मैं: कोई बात नहीं अब जैसे भी हो पति हो तुम और इसमें ही संतुस्ट रहूंगी, ये सुनकर अविनाश को तस्सली हुई की मैं उसको नहीं तलाक दूँगी।

लेकिन अब मेरी सारी शर्म जा चुकी थी और अविनाश मेरे आगे पूरी तरह आत्मग्लानि से भरा हुआ हर बात मानने को तैयार था।

मेरे कहने पे बूब्स चूसता रहा काफी देर तक फिर मैं बेड से उठ के रूम में तलाश करने लगी की कोई चीज़ मिल जाए.

ताकि मैं अपने अंदर ले सकूँ कुछ नहीं मिला तोह अविनाश को बहार भेज के खीरा मंगवाया पहले तो चुत को चुसवाया फिर चुत की क्लीट को चुसवाया फिर खीरा उसने ही डाल के आगे पीछे करके मेरी चुत की आग को शांत किया।.

Sasur bahu ki chudai hindi mein

खीरा कोई और ना देख ले इसलिए उसको धो के अविनाश को खिला दिया डाट के और नंगी ही सो गयी।

ये हिदायत दे कर की – “मुझे टच नहीं करना वरना मेरी आग भड़केगी तो मुझे मुश्किल होगी और करवट ले कर सो गयी।

अगले दिन सुबह सभी से सामान्य पेश आ रही थी देवर विक्की भी मेरे से घुल मिल रहा था और ससुर का बहुत रोब था घर में।

मुझे भी ससुर से डर लग रहा था ससुर ने अपने कमरे में ले जा कर बहुत प्यार और दुलार से बात करते हुए मेरी पीठ पे हाथ रखा और चेहरे पे प्यार से किश भी किया।

मुझे इतना प्यार पहले किसी ने नहीं दिया था बहुत खुसी हुई दिन में विक्की आ गया रूम में और दोनों ने खूब बातें भी की और केरम भी खेला।

फिर उसने मुझे वीडियो गेम भी खिलाया विक्की था तो 18-19  साल का ही देखने में मासूम भोला सा और15  साल का ही लगता था और मैं 26 साल की थी भारी साड़ी होने के कारन पेट पे चुभ रही थी इसलिए ससुर और पति के ऑफिस जाने के बाद मैंने रिलैक्स होते हुए साड़ी को निचे कर लिया और पल्लू भी हैट गया था।

Sasur bahu ki chudai dikhao

विक्की टीवी देख रहा था साउथ इंडियन गाने का थोड़ी देर में नोटिस किया की विक्की की नज़र बार बार मेरे पेट पे पड़ रही थी।

मुझे समझ आ गया की वह मेरी नाभि ही देख रहा था क्यूंकि साउथ इंडियन गाने में वही सब आ रहा था।

मेरे मन में आया की मैं क्यों परवाह करूँ इसमें बुराई क्या है आजकल तो बहुत सी लेडी की नाभि दिखाती ही है और ये तो देवर है, 

रात को ससुर 8 बजे ही सो गए उसके बाद मैं रिलैक्स हुई क्यूंकि साड़ी को सब साइड से ढक के रखना पड़ रहा था और साड़ी पेट तक चढ़ा के भी मैंने साड़ी को निचे खिसकाया और साइड से भी पल्लू हटा के कमर में दाब लिया और अपने कमरे में ही थी तभी देवर भी आ गया।

तीनो ने साथ ही खाना खाया विक्की की नज़रें छुप छुप कर मेरे पेट पे ही पड़ रहे थे तीनो बेड पे लेटे थे और पति टीवी देख रहा था मैं विक्की के साथ वीडियो गेम खेल रही थी मज़ाक में वीडियो गेम छीना झपटी भी हो रहा था और जब मेरे हाथ में वीडियो गेम था तो विक्की एक हाथ मेरे पेट पे रख के झुक के गेम में झांक रहा था

Sasur bahu ki chudai hindi mein

ऐसा ही 3-4 दिनों तक चलता रहा फिर पति को बिज़नेस के सिलसिले में ससुर ने बहार भेज दिया 7-8 दिन के लिए साथ ही विक्की को भी पति के साथ ही मां के यहाँ भेज दिया।

दोनों को 7-8 दिन बाद ही आना था ससुर और मैं अकेले ही रह गए थे अब मैं दिन भर अकेले ही थी घर पे शाम को मेरा मूड ऑफ देखा तोह ससुर ने पूछ लिया मैंने बता दिया की अकेले डर लगता है मुझे।

ससुर ने प्यार से पास बैठाया और हमेशा की तरह ही पीठ पे हाथ घूमाते हुए बोले की:

ससुर: “जब तक वह दोनों नहीं आते तू चिंता ना कर या तो मेरे साथ ऑफिस चलना नहीं तो मैं रहूँगा घर पे और रात को मेरे रूम में ही सो जाना” ।

मैं अपने ससुर को तो पिता सामान मानती थी तो इसमें मुझे कुछ अजीब नहीं लगा. 

हमारी वैबसाइट से चुदाई की मस्त कहानिया पढ़ने के लिए यहा क्लिक करे-> www.xstory.in

Read More Mom Son Sex Stories…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *